Covid-19 Update

58,800
मामले (हिमाचल)
57,367
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,137,922
मामले (भारत)
115,172,098
मामले (दुनिया)

हाईकोर्टः ऐसा कोई कानून नहीं है, जो किसी को पैतृक संपत्ति की वसीयत करने से रोके

हाईकोर्टः ऐसा कोई कानून नहीं है, जो किसी को पैतृक संपत्ति की वसीयत करने से रोके

- Advertisement -

शिमला। हाईकोर्ट (High Court) ने पैतृक संपत्ति की वसीयत से जुड़े विवाद में स्पष्ट किया है कि ऐसा कोई कानून नहीं है, जो किसी को पैतृक संपत्ति की वसीयत करने से रोके। मामले के अनुसार अपीलकर्ता वादी राम सिंह ने प्रतिवादी चरण सिंह के खिलाफ दीवानी मुकदमा कायम कर सभी पक्षकारों को विवादित भूमि का संयुक्त मालिक घोषित करने की गुहार लगाई थी। वादी ने पैतृक संपत्ति की वसीयत को निरस्त करने की गुहार भी लगाई थी। वादी का कहना था कि उसके पिता विवादित भूमि की वसीयत नहीं कर सकते थे, क्योंकि वह एक पैतृक संपत्ति है। वादी ने वसीयत की कानूनी वैद्यता को भी चुनौती दी थी।

यह भी पढ़ें:- ‘जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल को प्रदेश बीजेपी का अध्यक्ष बना देना चाहिए’


प्रतिवादी के अनुसार वसीयतकर्ता चुरू उर्फ चुड़ सिंह ने वादी की शादी के लिए कर्ज (Loan) लिया था, जिसे लौटाने के लिए वादी ने अपने पिता की कोई मदद नहीं की। यह रकम प्रतिवादी ने ही चुकाई। इतना ही नहीं वादी शादी के पश्चात अपने पिता से अलग रहने लगा था और उसने अपने पिता के कभी हाल चाल जानने की जहमत तक नहीं उठाई। दूसरी तरफ प्रतिवादी ने वसीयतकर्ता का न केवल तन मन से ख्याल रखा अपितु खेतीबाड़ी में भी उनका भरपूर साथ दिया। वसीयतकर्ता ने अपनी दो तिहाई भूमि वसीयत के माध्यम से प्रतिवादी के नाम कर दी थी। अधीनस्थ न्यायालयों ने वादी के दावे को खारिज कर दिया था, जिसे हाईकोर्ट (High Court) में चुनौती दी गई थी। न्यायाधीश तरलोक सिंह चौहान ने निचली अदालतों के फैसलों को उचित ठहराते हुए वादी की अपील को खारिज कर दिया।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है