Covid-19 Update

1,98,010
मामले (हिमाचल)
1,89,469
मरीज ठीक हुए
3,358
मौत
29,359,155
मामले (भारत)
176,047,505
मामले (दुनिया)
×

हिमाचल में आफत बनी बारिश, ब्रह्मगंगा नदी में बाढ़ से दो पुल बहे

हिमाचल में आफत बनी बारिश, ब्रह्मगंगा नदी में बाढ़ से दो पुल बहे

- Advertisement -

शिमला/ कुल्लू। हिमाचल प्रदेश के ज्यादातर जिलों में गुरुवार से सक्रिय हुए मॉनसून से बारिश आफत बनकर टूटी है। भारी बारिश के कारण कुछ स्थानों पर भूस्खलन की खबरें हैं, वहीं प्रमुख नदियों सतलुज, ब्यास और यमुना का जलस्तर उफान पर है। कुल्लू में मणिकर्ण घाटी की ब्रह्मगंगा नदी में बाढ़ से दो पुल बह गए हैं।

सिरमौर में दर्जनभर रूट बंद


सिरमौर में पिछले 14 घंटे से मूसलाधार बारिश का कहर जारी है। भारी बारिश से जनजीवन पूरी तरह अस्तव्यस्त हो गया है। सड़कों पर भारी भूस्खलन के चलते जिलाभर के एक दर्जन के करीब रुट बंद हो गए हैं। हालांकि अभी जान माल के नुकसान की खबर नहीं है। इससे यात्रियों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ऊपरी क्षेत्रों में भूस्खलन के चलते मलबा सडकों पर आ गिरा है। कई जगह बड़े पत्थर और चट्टानें सड़कों पर आने से दुर्घटनाओं का लगातार अंदेशा बना है। जिले के निचले इलाक़ों की बात करें तो एनएच समेत दूसरे मुख्य मार्ग तालाब बन गए हैं। सोलन-मीनस मार्ग पर कंडा नाला के समीप खाला पूरी तरह से ऊफान पर है। इसके चलते दोनों तरफ दर्जनों छोटी व बड़ी गाडिय़ां फंस गई हैं।

इसके अलावा ऊपरी क्षेत्रों में कई जगह सड़क के साथ बहने वाले नाले व खालों में बढ़े जलस्तर से भी लोगों को भारी दिक्कतें झेलनी पड़ रही हैं। सड़कें बंद होने से किसान अपनी फसलों को बाजार तक नहीं पहुंचा पाए हैं। बुधवार की रात से हो रही बारिश के चलते संगड़ाह-पालर, बोगधार-सैर तंदूला, नोहराधार-पालर, हरिपुरधार-संगड़ाह, ददाहू-संगड़ाह और सोलन-मीनस आदि सड़कें बंद हो गई हैं। इसके अलावा नाहन के निचले क्षेत्रों के साथ साथ पच्छाद इलाके में भी आधा दर्जन के करीब सड़कें बंद हैं। इससे यात्रियों को भी गंत्वय तक पहुंचने के लिए भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

सिरमौर और कांगड़ा में हुई सबसे ज्यादा बारिश

सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में सर्वाधिक 138 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई। धर्मशाला और कांगड़ा में 133 मिलीमीटर और पालमपुर में 120 मिलीमीटर बारिश हुई जबकि नाहन में 96.3 मिलीमीटर बारिश हुई। यहां मौसम विभाग ने कांगड़ा, ऊना, हमीरपुर, मंडी, सोलन, शिमला और सिरमौर जिलों के कुछ स्थानों पर शुक्रवार तक तेज बारिश की संभावना जताई है।

मणिकर्ण घाटी के लोग खौफजदा

उधर, कुल्लू में ब्रह्मगंगा नदी और पर्वती नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। जिसके कारण मणिकर्ण के लोग खौफ में हैं। इससे पहले भी ब्रह्मगंगा में दो बार बाढ़ आई थी और उस बाढ़ में करोड़ों की जमीन बह गई थी और एक पावर प्रोजेक्ट भी दब गया था। मनाली में 31 मिलीमीटर बारिश हुई।

शिमला, कांगड़ा, कुल्लू और सिरमौर जिलों में भारी बारिश के बाद भूस्खलन हुआ, जिससे यातायात बाधित हुआ। गोहर के चैल चौक, गणेश चौक, गोहर ब आसपास के क्षेत्रों में लगभग 2 घंटे की बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। किसानों के मुताबिक यह बारिश नगदी फसलों के लिए घातक है। बारिश से किसानों के चेहरे मुरझा गए हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है