Covid-19 Update

58,460
मामले (हिमाचल)
57,260
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,046,914
मामले (भारत)
113,175,046
मामले (दुनिया)

चूड़धार में साल का पहला हिमपात, शीतलहर की चपेट में Sirmour

चूड़धार में साल का पहला हिमपात,  शीतलहर की चपेट में Sirmour

- Advertisement -

नाहन। पहाड़ों पर बर्फबारी और मैदानी इलाकों में रिमझिम बारिश की फुहारों से जिला सिरमौर शीतलहर की चपेट में आ गया है। पिछले लंबे समय से बारिश का इंतजार कर रहे किसानों व बागवानों ने भी मंगलवार को राहत की सांस ली। जिला सिरमौर की सबसे ऊंची चोटी और धार्मिक व पर्यटन स्थल चूड़धार में शाम तक 2 फीट ताजा हिमपात हुआ। इसके अलावा नोहराधार, हरिपुरधार, गत्ताधार, बोगधार व राजगढ़ के ऊपरी हिस्सों में भी 8-9 इंच बर्फबारी हुई।

  • किसान-बागवानों ने ली राहत की सांस, देर शाम भी बरसते रहे बादल

देर शाम भी ऊपरी हिस्सों में रुक-रुक कर बर्फबारी का सिलसिला जारी था तो मैदानी क्षेत्रों में भारी गरज के साथ रिमझिम फुहारें बरसीं। हालांकि, मंगलवार सुबह मौसम साफ होने पर किसी को उम्मीद नहीं थी कि बारिश होगी। लेकिन, दोपहर बाद मौसम ने  अचानक करवट ली। देखते ही देखते बादलों के घिरे आसमान से बारिश की फुहारों ने हर दिल को खुश मिजाज बना दिया। बारिश की हल्की फुहारों से किसान-बागवान गदगद हुए तो सूखी ठंड का सामना कर रहे लोगों ने भी राहत की सांस ली। निचले क्षेत्रों में गहरी धुंध के साथ साथ पाले से काफी परेशानी झेल रहे थे।

किसान खुश, फसलों को संजीवनी, बर्फबारी के फिर आसार

बारिश व बर्फबारी से किसानों व बागवानों के चेहरों की रौनक लौट आई है। उधर, बागबानी व कृषि विशेषज्ञों की मानें तो यह बारिश व बर्फबारी लहसुन, प्याज व गेहूं की फसल के साथ साथ बागवानी के लिए संजीवनी साबित होगी। अभी तक किसान सूखे जैसी स्थिति का सामना कर रहे थे। उधर, चूड़धार सेवा समिति के प्रबंधक बाबूराम शर्मा ने बताया कि मंगलवार शाम तक चूड़धार में 2 फीट तक ताजा हिमपात हुआ है। मंगलवार रात को भी बर्फबारी के आसार बने हुए हैं।

शिकारी माता और देव कमरूनाग में बर्फबारी का दौर जारी

जंजैहली। जिला मंडी की सबसे ऊंची चोटी पर स्थित शिकारी माता और देव कमरूनाग में बर्फबारी का दौर शुरू है। धार्मिक स्थल बुढ़ा किदार में और शूटिंग प्लेस भूलाह में इस समय एक फीट बर्फ गिरने का अनुमान है।  मिली जानकारी के अनुसार सराज विधानसभा क्षेत्र के ऊपरी हिस्सों जैसे केउलीनाल, जंजैहली, मगरूगला, च्यूणी, चेत, बहलीधार, रैनगलू, भराडी, तांदी, बागाचनोगी, कुल्थनी व कल्हणी में भी जोरदार तरीके से बर्फबारी हो रही है, जिससे घाटी के बागवानों के चेहरे खिले हुए नजर आ रहे हैं। केउलीनाल के बागवान प्रेम सिंह, नूप राम, देबी सिंह और सराज के दर्जनों बागवानों ने बताया कि इस बार उन्हें सेब की अच्छी फसल आने की संभावना है।

आपको बता दें कि जिला के जंजैहली, देव कमरूनाग घाटी, भुलाह, मगरूगला, डाहर, थाटा, च्यूणी ,चेत, बागाचनोगी, कल्हणी व शिवाखड सहित पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोग अपने खाने का राशन, लकड़ी और पशुओं के लिए घास, चारा इत्यादि का प्रबंध एक माह पहले ही कर चुके हैं। लोगों की माने तो कई बार दो से तीन माह तक बर्फ के कारण भारी मुसीबतों का सामना भी करना पड़ता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है