Covid-19 Update

58,979
मामले (हिमाचल)
57,428
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,173,761
मामले (भारत)
116,220,912
मामले (दुनिया)

यहां बिना जुर्म किए जेल की हवा खाते हैं लोग, बाकायदा लेते हैं परमिशन, पढ़ें क्या है पूरा मामला

यहां बिना जुर्म किए जेल की हवा खाते हैं लोग, बाकायदा लेते हैं परमिशन, पढ़ें क्या है पूरा मामला

- Advertisement -

लखनऊ। हर कोई अक्सर यही दुआ करता है कि उसे कभी जेल की हवा न खानी पड़े, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो बिना किसी जुर्म के ही जेल जाना पसंद करते हैं। अब आप सोचेंगे कि ये क्या बात हुई लोग जानबूझ के क्यों जेल जाना चाहते हैं तो बता दें कि यूपी में आजकल ये ट्रेंड काफी छाया हुआ है। इसकी वजह है कुंडली में जेल योग, जीहां सुनने में अजीब है लेकिन लोग इसी वजह से जेल जा रहे हैं। इसके लिए वह जिला प्रशासन को प्रार्थनापत्र दे रहे हैं और लॉकअप में 24 से 48 घंटे गुजार रहे हैं।

गोमती नगर के रहने वाले व्यवसायी रमेश सिंह ने बताया कि उन्होंने इस साल मई में 24 घंटे लॉकअप में गुजारे। उन्होंने बताया कि दरअसल मेरे घरवालों ने पंडित को कुंडली दिखाई। उन्होंने कुंडली देखकर बताया कि मेरी कुंडली में जेल योग है। यह योग मुझे भविष्य में समस्या में डाल सकता है। मेरा पूरा परिवार डर गया। बाद में पंडित जी ने मुझे सलाह दी कि अगर मैं कुछ समय जेल में बिना किसी अपराध के बिता लूं तो कुंडली में जेल जाने के योग का असर खत्म हो जाएगा।

रमेश ने जिला प्रशासन को अप्रैल महीने में एक प्रार्थनापत्र दिया। इस प्रार्थनापत्र में उन्होंने जेल जाने की बात लिखी और अपनी कुंडली की एक कॉपी इसके साथ लगाई। उनके पेपर्स चेक करने के बाद जिला प्रशासन ने उन्हें 24 घंटे स्थानीय पुलिस स्टेशन के लॉकअप में बिताने की अनुमति दे दी। इन 24 घंटे रमेश ने किसी कैदी की तरह की बिताए। यहां तक कि उन्हें जेल में जो खाना दिया गया वही खाना भी खाया।

पंडितों का दावा, ऐसे कुंडली से खत्म होता है जेल योग

लखनऊ के डीएम कौशलराज शर्मा ने बताया कि उन्हें हर साल लगभग दो दर्जन ऐसे ही प्रार्थना पत्र मिलते हैं। इन प्रार्थनापत्र में लोग आवेदन करते हैं कि उन्हें 24 से 48 घंटे तक जेल में बिताने की अनुमति दी जाए। क्योंकि सिर्फ कोर्ट ही जेल की सजा सुना सकता है इसलिए ऐसे लोगों को हम लॉकअप में रहने की अनुमति दे देते हैं। वहीं, पंडितों का भी दावा है कि इस तरह की कुंडली के जेल योग को खत्म किया जा सकता है।

लखनऊ यूनिवर्सिटी के ज्योतिष विभाग के बिपिन पाण्डेय ने बताया, ‘कुंडली में तीन घर होते हैं जो राहु पर असर डालते हैं। पहला है चौथा घर, जिसमें उस व्यक्ति के जेल जाने के योग बनते हैं लेकिन इसमें कोई फिक्स नहीं होता है कि उसे कितने दिन की जेल होगी।यह कुछ घंटे, कुछ दिन, हफ्ते या फिर महीनों हो सकते हैं। अगर राहु आठवें घर में होता है तो व्यक्ति के जेल जाने के योग के साथ मृत्युदंड तक होता है। जब राहु बारहवें घर में होता है तो व्यक्ति के कई बार जेल जाने का योग होता है। जिन लोगों के चौथे या बारहवें घर में राहु होता है, मैं सामान्यतः उन लोगों को जेल का खाना खाने की सलाह देता हूं, ताकि यह योग काटा जा सके।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है