Covid-19 Update

2,01,210
मामले (हिमाचल)
1,95,611
मरीज ठीक हुए
3,447
मौत
30,134,445
मामले (भारत)
180,776,268
मामले (दुनिया)
×

मंत्री की सिफारिश पर 400 किमी दूर कर दी प्रधानाचार्य की ट्रांसफर, हाईकोर्ट ने की रद्द

मंत्री की सिफारिश पर 400 किमी दूर कर दी प्रधानाचार्य की ट्रांसफर, हाईकोर्ट ने की रद्द

- Advertisement -

शिमला। हाईकोर्ट (High Court) ने आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर (IPH Minister Mahendra Singh Thakur) की सिफारिश पर किए गए तबादला आदेशों (transfer order) को रद्द कर दिया है। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला ब्रांग धर्मपुर जिला मंडी (Mandi) के प्रधानाचार्य ने याचिका में माध्यम से तबादला आदेशों को चुनौती दी थी। प्रार्थी के अनुसार आईपीएच मंत्री मोहिंद्र सिंह ठाकुर के 4 जुलाई को जारी डीओ नोट को आधार बनाकर उन्हें मौजूदा स्थान से 400 किमी दूर सिरमौर (Sirmaur) जिला के शडियार में भेज दिया गया। न्यायाधीश धर्म चंद चौधरी व न्यायाधीश ज्योत्स्रा रिवाल दुआ की खंडपीठ ने यह पाया कि स्थानांतरण आदेश आईपीएच मंत्री द्वारा जारी डीओ नोट के आधार पर किया गया है, जबकि हाईकोर्ट (High Court)  द्वारा विभिन्न मामलों में पारित निर्णयों के दृष्टिगत डीओ नोट के आधार पर जारी स्थानांतरण आदेश कानूनन मान्य नहीं हैं।

यह भी पढ़ें: बगल की सरवीण पर जताया “विश्वास”, धवाला को भी दिया काम, बांटा कपूर का धर्मशाला

 


 

यह भी पढ़ें: Breaking: दिन तारीख वही बस बदल गया जयराम कैबिनेट का “वक्त,” पढ़े गहराई से

प्रार्थी के अनुसार उन्होंने सितंबर 1994 में शिक्षा विभाग (Education Department) में बतौर लेक्चरर सेवाएं शुरू कीं और अभी तक लगभग 11 विभिन्न स्थानों पर अपनी सेवाएं दीं। 25 जुलाई को उन्हें राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला ब्रांग धर्मपुर जिला मंडी से वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला शडियार जिला सिरमौर के लिए स्थानांतरित किया गया था। प्रार्थी के अनुसार आईपीएच मंत्री ने प्रधानाचार्य नेक राम को उसके स्थान पर एडजस्ट करने की मंशा से उसे 400 किलोमीटर दूर भेजा। न्यायालय ने मामले के रिकॉर्ड का अवलोकन करने के पश्चात यह पाया कि इस स्थानांतरण के लिए डीओ नोट शिक्षा सचिव को भेजा गया था। न्यायालय ने यह पाया कि स्थानांतरण आदेश पूरी तरह से राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते किए गए हैं और हाई कोर्ट द्वारा पारित निर्णय के मुताबिक इस तरह के स्थानांतरण आदेशों को कानूनी तौर पर कोई मान्यता नहीं है। न्यायालय ने स्थानांतरण आदेशों को कानून के विपरीत पाते हुए रद्द कर दिया।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है