- Advertisement -

हाईकोर्ट का सख्त आदेश : टीचरों के खाली पदों को तुरंत भरें 

हरकत में आई सरकार, टीचरों की भर्ती के लिए उठाए जा रहे कदम

0

- Advertisement -

शिमला। हाईकोर्ट ने राज्य के विभिन्न स्कूलों में टीचरों के खाली पड़े पदों को तुरंत भरने को कहा है। कोर्ट के सख्त रुख को देखकर सरकार भी हरकत में आ गई है। टीचरों के खाली पड़े पदों को बैच वाइज और सीधी भर्ती प्रक्रिया से भरने के कदम उठाए जा रहे हैं। 
बुधवार को हाईकोर्ट के सामने पेश हुए शिक्षा सचिव अरुण कुमार शर्मा ने बताया कि प्रदेश में ऐसा कोई स्कूल नहीं है, जिसमें कि कम से कम एक शिक्षक न हो। हालांकि, कोर्ट इस जवाब से संतुष्ट नहीं हुआ। मामले की अगली सुनवाई गुरुवार 12 जुलाई को होगी।

क्या था मामला

यह मामला सरकारी वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला चम्बा के बघेईगढ़ व मंडी के वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला दोगरी में टीचरों के खाली पड़े पदों से जुड़ा है। वहां के बच्चों ने हाईकोर्ट को पत्र लिखकर टीचरों को तैनात करने की गुहार लगाई थी। इस स्कूल में TGT नॉन मेडिकल गणित का एक पद 2006 से, टीजीटी विज्ञान का पद मई 2014 से, TGT आर्ट्स के 2 पद 14 जुलाई 2016 से व भाषा  अध्यापक का एक पद वर्ष 1998 से रिक्त चल रहा था।
बघेईगढ़ में 5 टीचरों के ज्वाइन न करने पर स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थी भूख हड़ताल पर चले गए थे। हाईकोर्ट ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए सरकार से जवाब मांगा था। इसके बाद शिक्षा विभाग प्रशासन हरकत में आया व इन स्कूलों में रिक्त पदों को भरा गया। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायाधीश संदीप शर्मा की बेंच ने विभिन्न स्कूलों में खाली पड़े टीचरों के पदों को तुरंत भरने के आदेश दिए हैं।  

- Advertisement -

Leave A Reply