Covid-19 Update

1,99,430
मामले (हिमाचल)
1,92,256
मरीज ठीक हुए
3,398
मौत
29,685,946
मामले (भारत)
177,559,790
मामले (दुनिया)
×

नाहनः सेना संबंधी भूमि विवाद पर उच्च स्तरीय बैठक, इन 6 एजेंडों पर हुआ मंथन

नाहनः सेना संबंधी भूमि विवाद पर उच्च स्तरीय बैठक, इन 6 एजेंडों पर हुआ मंथन

- Advertisement -

नाहन। सेना संबंधी भूमि विवाद को लेकर आज को एक उच्च स्तरीय बैठक नाहन छावनी के सेना स्थल पर हुई। बैठक की अध्यक्षता विस अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल (Dr. Rajeev Bindal) ने की। जिला प्रशासन की ओर से डीसी सिरमौर डॉ. आरके परूथी, एसडीएम नाहन विवेक शर्मा, उप सचिव राजस्व पीके टॉक, उप-सचिव सैनिक वेलफेयर नीलम कौशल उपस्थित हुए। वहीं सेना की ओर से चीफ ऑफ स्टाफ वेस्टर्न कमांड लेफ्टिनेंट जनरल बाली, कर्नल जगदीप संधु जो एस्टेट अफेयर वेस्टरन कमांड का कार्य देखते हैं और कर्नल अरविंद शर्मा, कर्नल राज पुरोहित ने भाग लिया। नाहन में संपन्न हुई बैठक में 6 एजेंडों पर विस्तृत चर्चा हुई। इसमें मुख्य रूप से प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अंतर्गत निर्माणाधीन बनोग -धार क्यारी सड़क के निर्माण के लिए एनओसी दी जाए। इस मुद्दे पर शीघ्र निर्णय लिया जाएगा व सड़क में आने वाली संपूर्ण भूमि की नपाई करके केंद्र को परमिशन के लिए हेतु प्रस्तुत किया जाएगा।


इसके अलावा जो भूमि 1979 में सेना को हस्तांतरित की गई थी, उसमें कुछ भूमि ऐसी थी जो मुजारों के पास थी। कुछ भूमि रास्ता आदि में आती थी, जिसको लेकर सेना बार बार यह आग्रह कर रही है कि इस भूमि की कमी को हिमाचल (Himachal) सरकार पूरी करे। इसे सैद्धान्तिक रूप से स्वीकार कर लिया गया है। मुजारों एवं काब्जानों जो इसके मालिक बन चुके है, यह भूमि लगभग 120 एकड़ है। बैठक में सेना क्षेत्र में मकानों की रिपेयर व मेनटेनेन्स तथा नवीनीकरण के लिए सामान इत्यादी ले जाने की प्रक्रिया का सरलीकरण किया गया है। पहले मेटेरियल ले जाने में कई प्रकार की दिक्कतें आती थी। पहले परमिशन का कार्य डीसी (DC) के माध्यम से किया जाता था, जिसे अब एसडीएम के माध्यम से किया जाएगा। परमिशन के संबंध में जो बैठक पहले तीन महीने में की जाती थी उसे घटाकर अब एक महिना करने का निर्णय हुआ।

पूर्व में जो परमिशन की समयावधि 3 माह निर्धारित थी उसे बढ़ा कर 6 महीने करने का निर्णय लिया किया गया। आने वाले समय में इसे एक वर्ष करने पर सहमती भी बनी है। रास्तों मंदिर इत्यादी के लिए आवागमन हेतु जनता को रूकावट न हो इस दिशा में सेना के लोग गंभीरता बरते, इसे सैद्धान्तिक रूप से स्वीकार कर लिया गया। इसके अलावा सेना की ओर से निर्मित किए जा रहे ईसीएच अस्पताल के निर्माण में आ रही बाधा को दूर करने के साथ आम जन के लिए यहां से रास्ते का निर्माण करने के विषय पर परस्पर सहमति बनाकर इसका हल निकालने का निर्णय लिया गया।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है