Covid-19 Update

59,032
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
116,748,718
मामले (भारत)
11,192,088
मामले (दुनिया)

Congress ने छीने Virbhadra समर्थक Yograj, सत्य प्रकाश ठाकुर से महासचिव के पद

- Advertisement -

हाईकमान की अनुमति के बिना ही कर दी गई थी तैनाती

शिमला। प्रदेश कांग्रेस में गुटबाजी का आलम यह है कि चुनावों से पहले वाली स्थिति अब और ज्यादा गंभीर होने जा रही है। चुनाव के वक्त भितरघात से बचने के लिए जिन कांग्रेसी नेताओं को संगठन में पद के लॉलीपाप थमाए गए थे, मतगणना से पहले वह वापस छीन लिए गए हैं। इनमें अधिकतर नेता सीएम वीरभद्र सिंह के समर्थक बताए जाते हैं। इन सभी को चुनाव के वक्त आनन-फानन में शांत रखने के लिए हाईकमान की अनुमति के बिना ही सीधे महासचिव तक का जिम्मा दे दिया गया था, अब उनकी यह तैनातियां रद कर दी गई हैं, जिनकी तैनाती रद की गईं हैं उनमें प्रमुख तौर पर देहरा से पूर्व विधायक योगराज व कुल्लू से सत्य प्रकाश ठाकुर सहित जोगिंद्रनगर से सुरेंद्र पाल ठाकुर शामिल हैं। चुनाव के वक्त इन्हें शांत रखने के लिए संगठन में सीधे ही महासचिव का पद दे दिया गया था, जो अब छीन लिया गया है।

तैनाती रद होने से कांग्रेस में अब घमासान और बढ़ने के आसार

कांग्रेस की आंतरिक कलह का ही नतीजा है कि चुनाव के वक्त प्रवक्ता बनाए गए दवेंद्र बुशहरी, सचिव बनाए गएधीरेंद्र सिंह चौहान, प्रवक्ता बनाए गए पुष्पराज शर्मा को भी अपने-अपने पदों से हटा दिया गया है। इसी तरह जिला कांग्रेस कमेटी कुल्लू के उपाध्यक्ष बनाए गए चंद्रसेन, जिला कांग्रेस कमेटी कुल्लू के महासचिव बनाए गए मान चंद ठाकुर, अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस कमेटी मंडी राजिंद्र मोहन व अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस कमेटी नाचन दामोदर सिंह को अपने पदों से बेदखल कर दिया गया है। याद रहे कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने विधानसभा चुनावों में भितरघात से बचने के लिए ही इन सभी को तैनाती दी थी।

इनमें पूर्व विधायक योगराज व सत्य प्रकाश ठाकुर प्रमुख तौर पर शामिल थे। देहरा विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस की तरफ से विप्लव ठाकुर को टिकट दिए जाने के बाद योगराज को महासचिव नियुक्त किया गया था। योगराज सीएम वीरभद्र सिंह के खास माने जाते हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में टिकट न मिलने पर उन्होंने आजाद चुनाव लड़ा था। कांग्रेस प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लड़ने के बाद उन्हें पार्टी से निष्कासित भी किया गया था। इस बार देहरा में कांग्रेस प्रत्याशी की जीत के लिए न केवल उन्हें पार्टी में वापस लिया, बल्कि पीसीसी महासचिव भी बनाया गया था। इन सबकी तैनाती रद होने पर कांग्रेस में अब घमासान और बढ़ने के आसार बन गए हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है