Covid-19 Update

58,879
मामले (हिमाचल)
57,406
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,173,761
मामले (भारत)
116,220,912
मामले (दुनिया)

गुड़िया मर्डर केस की होगी CBI जांच, सरकार ने की सिफारिश

गुड़िया मर्डर केस की होगी CBI जांच, सरकार ने की सिफारिश

- Advertisement -

CBI Inquiry : शिमला। कोटखाई  के गुड़िया मर्डर केस की जांच सीबीआई करेगी। वीरभद्र सरकार ने मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है। इससे पहले पूरे मामले की जांच की प्रगति रिपोर्ट सरकार ने स्वयं देखी और उसके बाद सीबीआई जांच की सिफारिश की है। बता दें कि  एसआईटी द्वारा बहुचर्चित गुड़िया रेप और मर्डर मिस्ट्री को सुलझाने का दावा करने के 24 घंटे के भीतर लोगों का आक्रोश सामने आ गया है।  मामले में पुलिस द्वारा आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद लोग भड़क गए हैं। लोगों को पुलिस की थ्योरी रास नहीं आई रही है। पुलिस की जांच से नाराज लोग लगातार सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे। ठियोग बाजार में हंगामा किया और पत्थरबाजी भी की।

बताया जा रहा है कि पुलिस के डरे हुए अफसर बात करने से भी पीछे हट रहे हैं। लोग CBI को केस देने की घोषणा करवाने पर अड़े थे। वहीं विपक्ष ने भी सरकार पर इस मामले को लेकर संगीन आरोप लगाए हैं। इसी बीच प्रदेश सरकार के एक मंत्री ने भी सीबीआई जांच की वकालत कर दी थी। परिवहन मंत्री जीएस बाली ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा था कि जनता के भरोसे और विश्वशनीयता को कायम रखना हर सरकार की प्रथम जिम्मेवारी है। सरकार किसी को बचाना भी नहीं चाहती। इसी तथ्य को ध्यान में रखते हुए सरकार और सीएम से मैं अनुरोध करता हूं कि जनभावनाओं को देखते हुए मामले को सीबीआई या मैजिस्ट्रेट इन्क्वारी को सौंपने के बारे में निर्णय लेना चाहिए।

बाली ने कहा कि कोटखाई प्रकरण ने प्रदेश की जनता को आक्रोशित किया है।प्रदेश के इतिहास में पहली बार देवभूमि के शांत रहने वाले हजारों लोग सड़कों पर उग्र रूप से शासन और प्रशासन के खिलाफ उतर आए हैं। हालांकि SIT ने इस मामले को सोल्व कर लिया है परंतु दिवंगत बेटी के पेरेंट्स और प्रदेश की जनता कार्रवाई से संतुष्ट नहीं है और सीबीआई जांच की मांग कर रही है।

कुल्लू। गुड़िया मर्डर केस में सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा है कि सीबीआई जांच करवाए जाने की मांग राजनीतिक तौर पर संगठित मांग थी, फिर भी मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए मामला सीबीआई को सौंपने का निर्णय लिया है। साथ ही उन्होंने विरोधी पार्टियों को भी आड़े हाथ लिया और कहा कि विरोधी पार्टियां मामले का राजनीतिक फायदा उठाना चाहती हैं। मासूम को इंसाफ मिलना चाहिए पर कुछ लोग मासूम के शव के ऊपर राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं। सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा कि गुड़िया मर्डर केस उन्होंने ही जांच आर्डर की थी। डीजीपी की अध्यक्षता वाली जांच टीम ने इस मामले को क्रैक कर दिया था। कुछ लोगों को छानबीन के बाद गिरफ्तार किया गया था। जब उनको शिमला लाया था तो संगठित भीड़ ठियोग में इकट्ठा हो गई, जिस वजह से गिरफ्तार किए आरोपियों को शिमला लाने में परेशानी हुई। इस बीच लोगों ने सीबीआई जांच की मांग की थी। जो भी जांच की गई थी अनुभवी लोगों के द्वारा की गई थी, जिसमें डीजीपी शामिल थे।

ये भी पढ़ेंः गुड़िया Murder Case: फूटा जनाक्रोश SP Shimla से धक्का-मुक्की, Police की गाड़ियां तोड़ी

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है