Covid-19 Update

2,16,639
मामले (हिमाचल)
2,11,412
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,392,486
मामले (भारत)
228,078,110
मामले (दुनिया)

पेड़ की एक भी शाखा को बिना कानूनी अधिकार के काटा नहीं जायेगा: हिमाचल हाईकोर्ट

पेड़ काटने से पहले कोर्ट से लेनी होगी इजाजत

पेड़ की एक भी शाखा को बिना कानूनी अधिकार के काटा नहीं जायेगा: हिमाचल हाईकोर्ट

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल हाईकोर्ट (Himachal High Court) ने सक्षम अधिकारियों द्वारा पेड़ों को काटने के लिए दी गई सभी वैध अनुमतियों पर लगी रोक हटा दी है। गौरतलब है कि कोर्ट ने अपने पिछले आदेशो में पेड़ों को काटने पर रोक लगा दी थी। कोर्ट ने हालांकि निर्देश दिया कि कोई भी पेड़ और किसी पेड़ की एक भी शाखा को बिना किसी कानूनी अधिकार (Legal Right) के किसी भी परिस्थिति में नहीं काटा जाएगा। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रवि मलीमठ और न्यायमूर्ति ज्योत्सना रिवाल दुआ की खंडपीठ ने जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान ये आदेश पारित किए।

यह भी पढ़ें: हिमाचल हाईकोर्ट ने सरकार मांगी कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों की जानकारी, पूछा- पुनर्वास के लिए क्या उठाये कदम

पेड़ काटने के संबंध में पीआईएल दाखिल

याचिकाकर्ता ने एमसी के अधिकार क्षेत्र में स्वस्थ हरे पेड़ों की अवैध कटाई व वन संरक्षण अधिनियम, नगर निगम अधिनियम, सर्वोच्च न्यायालय, उच्च न्यायालय और एनजीटी द्वारा पारित निर्देशों के उल्लंघन के मुद्दे को उजागर किया है। साथ ही याचिकाकर्ता ने असंख्य पेड़ों की कटाई के लिए दी गई अनुमतियों को रद्द करने, अधिकारियों को हरे पेड़ों की अवैध कटाई की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने, कोर्ट की अनुमति के बिना भविष्य में अनुमति देने से रोकने के लिए प्रार्थना की है। न्यायाधीश रवि मलीमठ की पीठ ने सुनवाई करते हुए 5 मई को पारित आदेशों में हिमाचल प्रदेश के विद्युत विभाग को दी गई अनुमतियों को छोड़कर, पेड़ों की कटाई की सभी अनुमतियों पर रोक लगा दी थी।

यह भी पढ़ें: Himachal हाईकोर्ट ने सुनी छात्रों की फरियाद, 9 अगस्त से पहले HPU वीसी को पेश होने का निर्देश

मामले पर अगली सुनवाई दो हफ्ते बाद

हालांकि, राज्य ने अंतरिम आदेश के संशोधन के लिए आवेदन दायर किया है। जिसमें कहा कि मानसून का मौसम अपने चरम पर है। खतरनाक पेड़ों के उखड़ने की संभावना है। जिससे जानमाल का नुकसान हो सकता है। इसपर कोर्ट ने कहा कि न्यायालय ने कहा कि 5 मई के अंतरिम आदेश को केवल उन पेड़ों के संबंध में पढ़ा जाना है, जो अवैध रूप से या बिना किसी अनुमति के काटे जा रहे हैं। वह हमेशा उक्त आदेश के खिलाफ अपील दायर करने के लिए स्वतंत्र है। आकस्मिक मामलों पर विचार करने के बाद, संबंधित क़ानून के प्रावधानों के तहत अनुमति प्रदान की गई है। इसलिए अंतरिम आदेश में संशोधन की जरूरत है। कोर्ट ने राज्य को निर्देश दिया कि जब तक कानून में ऐसा करने की वैध अनुमति न हो, तब तक वह किसी भी तरह से पेड़ों को न काटें। अब इस मामले पर अगली सुनवाई दो हफ्ते बाद मुकरर्र की गई है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है