Covid-19 Update

1,99,467
मामले (हिमाचल)
1,92,819
मरीज ठीक हुए
3,404
मौत
29,685,946
मामले (भारत)
177,559,790
मामले (दुनिया)
×

एचकेएस ने सरकार को इन तीन मुद्दों पर दी बहस की चुनौती

एचकेएस ने सरकार को इन तीन मुद्दों पर दी बहस की चुनौती

- Advertisement -

नाहन। हिमाचल किसान सभा ( Himachal Kisan Sabha) ने उत्पाती बंदरों (Monkey) के विषय में तीन सवाल कर सरकार को खुली बहस की चुनौती दी है। नाहन में आयोजित किसान सभा की बैठक के बाद प्रेस कांफ्रेंस में एचकेएस (HKS) के राज्य अध्यक्ष डा. कुलदीप सिंह तनवर ने प्रदेश की वर्तमान जयराम सरकार व पूर्व में रही कांग्रेस सरकार से 3 सवाल पूछे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और बीजेपी (Congress and BJP) की दोनों सरकारें बंदरों की समस्या हल करने में असफल रही है।


यह भी पढ़ें: उच्च शिक्षा उपनिदेशक, प्रधानाचार्य और शारीरिक शिक्षक के खिलाफ दर्ज होगी एफआईआर


आज भी बंदरों की संख्या पांच लाख से अधिक है। जबकि सरकार का दावा है कि प्रदेश में एक लाख से अधिक बंदर शेष हैं। तनवर ने कहा कि जब बंदरों को वर्मिन घोषित कर मारने की अनुमति दी गई है तो नसबंदी का क्या औचित्य है। जबकि, सरकार नसबंदी पर करोड़ों रुपये खर्च कर रही है। ये महज सरकारी धनराशि का दुरूपयोग है।

उन्होंने कहा कि 1978 से पहले देश से बंदरों का निर्यात विदेशों में किया जाता था। इसके बाद निर्यात बंद कर दिया। जब बंदरों को मारा ही जाना है तो शोध के लिए उनका विदेशों में सरकार निर्यात क्यों नहीं करती। शोध के लिए विदेशों में बंदरों की डिमांड रहती है। यदि ऐसा होता तो सरकारों को इसके बदले मोटी रकम भी मिलती। उन्होंने तीसरा सवाल ये भी किया कि विदेशों की तर्ज पर इनकी वैज्ञानिक ढंग से कलिंग की जाए। इसका वाइल्ड लाइफ में प्रावधान हैं।

इसके लिए भी सरकार ने कई प्रावधान नहीं किया है। इन तीनों विषयों पर राज्य अध्यक्ष ने वर्तमान व पूर्व सरकार को डिबेट की चुनौती दी है। उन्होंने कहा कि वह डिबेट के लिए पूरी तरह तैयार है। कुलदीप तनवर ने बताया कि सरकार बंदरों को लेकर या तो निर्यात पर योजना बनाए अथवा वैज्ञानिक कलिंग पर विचार करे। इससे उत्पाती बंदरों के साथ अन्य जंगली जानवारों की समस्या का निदान हो पाएगा। उन्होंने आरोप लगाया कि तीनों मुद्दों को लेकर सरकार पूरी तरह से मौन है। इसका उत्तर सरकार को देना होगा।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है