CAG ने प्रदेश के वित्तिय प्रबंधन पर उठाए सवाल

CAG ने प्रदेश के वित्तिय प्रबंधन पर उठाए सवाल

- Advertisement -

CAG report : लेखराज धरटा /  शिमला। कैग ने प्रदेश के वित्तिय प्रबंधन पर एक के बाद एक सवाल उठाए हैं। अपनी रिपोर्ट में हालांकि कैग ने राजकोषीय घाटे को बेहतर बताया, लेकिन कर्ज के बढ़ते बोझ और राजस्व का बड़ा भाग वेतन, भत्तों, पेंशन के साथ-साथ ऋणों के भुगतान पर खर्च को लेकर चिंता भी जताई। बहरहाल, विधानसभा के पटल पर कैग ने शुक्रवार को अपनी रिपोर्ट रख दी। इस दौरान केंद्र से मिलने वाली सहायता राशि और केंद्रीय शेयर का सामाजिक कार्यों में खर्च नहीं करने पर सवाल उठाए गए। आपदा प्रबंधन, आगज़नी की घटनाओं पर सरकार का ध्यान और असंवेदनशीलता के साथ वाटरशेड और लाइव स्टॉक जैसे जन उपयोगी और स्वरोज़गार सृजित करने वाली योजनाओं को तव्वजो देने की बात कही गई।


विधानसभा के पटल पर कैग ने रखी अपनी रिपोर्ट

यहीं नहीं सिस्मिक जोन 5 में आते हिमाचल के ज्यादातर ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में अतिक्रमण और बढ़ते बेतरतीव अवैध निर्माण पर भी कैग ने चिंता जताई है। इस दौरान कैग ने सरकार को सुझाव दिया कि इस बारे समय रहते प्रभावी नीति बनाई जाए। शुक्रवार को कैग ने हिमाचल प्रदेश विधानसभा में अपनी कुल छह रिपोर्ट्स प्रस्तुत की, जिसमें प्रदेश के राजकोषीय घाटे से निकलने की स्थिति को बेहतर बताया। हालांकि इनमे हिमाचल में टैक्स का शेयर बढ़ा भी बताया गया है। कैग ने सरकार से अपनी रिपोर्ट में जहां लंबे समय के लिए बेहतर वित्तीय प्रबंधन को अच्छा करने के लिए गैर ज़रूरी खर्चों में कटौती किए जाने का सुझाव दिया, साथ ही योजनाओं को सही समय पर पूरा करने की भी बात कही गई है।

गैर ज़रूरी खर्चों में कटौती किए जाने का सुझाव

रिपोर्ट में इस बात पर चिंता ज़ाहिर की गई है कि सरकार के कुल राजस्व का सबसे ज्यादा हिस्सा कर्मचारियों के वेतन भत्तों और पेंशन आदि पर खर्च हो रहा है, जिसे बेहतर प्रबंध के साथ जरूरी सेवाओं में खर्च करने की बात कही। रिपोर्ट में सरकार को अपने संसाधनों को बढ़ाने, गैर योजनागत खर्चों में कटौती करने के साथ-साथ पब्लिक सेक्टर के तहत आने वाले उपक्रमों के घाटे को कम करने और केंद्रीय योजनों के तहत मिलने वाली राशि का सही इस्तेमाल करने की भी सलाह दी गई।

डिजास्टर मैनेजमेंट और वाटरशेड जैसे स्कीमों, जिसमें ज्यादातर रोज़गार के अवसर पैदा किए जा सकते हैं, उसको प्रभावी तरीके से चलाने और इसके जरिये ज्यादा से ज्यादा रोज़गार सृजित करने जैसे कार्यक्रमों के संसाधन पैदा करने की दिशा में काम करने की भी बात कही गई। शिमला में महालेखाकार राम मोहन जोहरी ने विधानसभा में कैग की रिपोर्ट पेश करने के बाद पत्रकार वार्ता को संबोधित किया। उन्होंने कहा की प्रदेश में पिछले साल की अपेक्षा घाटा कम हुआ है और इसका मुख्य कारण केंद्र सरकार से मिली ग्रांट है।

ये भी पढ़ेंः Exhibition : कैदियों का हुनर देखने गियेटी आए  वीरभद्र सिंह

CAG report tabled in the Himachal Vidhan Sabha

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Una Hospital में प्रसव बाद महिला मौत मामला: पुलिस ने चिकित्सक के खिलाफ दर्ज किया केस

पल्स पोलियो अभियान में तैनात Anganwadi Worker बर्फ पर फिसली, निकली जान

रायजादा का आरोप- निजी क्लीनिक भी चला रहे Una Hospital में तैनात डॉक्टर

शिरडी विवाद : शिवसेना सांसद ने खुद को बताया साईं भक्त, कहा - 'सीएम से करूंगा बात'

ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर चुनी पहले बल्लेबाजी, इस प्लेइंग इलेवन के साथ उतरेगा भारत

सोलन में पत्नी ने रेता पति का गला, गंभीर हालत में PGI रेफर

शीतलहर की चपेट में Himachal, पांच जिलों में हिमस्खलन का खतरा

पुलिस ने दड़े- सट्टे की पर्चियों समेत करंसी के साथ धरा सट्टेबाज

नीति आयोग के सदस्य का विवादित बयान : 'जम्मू में Internet का यूज़ 'गंदी फिल्में' देखने में होता है'

CBSE ने जारी किए 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड

पल्स पोलियो अभियान : Himachal में नौनिहालों ने गटकी दो बूंद जिंदगी की

Delhi के टैक्सी ड्राइवर की Manali में गई जान, जांच में जुटी पुलिस

बीजेपी अध्यक्ष बनने के बाद Solan पहुंचे बिंदल, कहीं यह बात

जयराम के हाथ बढ़ाने, Anurag के हाथ न मिलाने के पीछे आखिर क्या है सच-वीडियो

ऊना अस्पताल में प्रसव के बाद महिला की गई जान, परिजनों का हंगामा

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है