बीजेपी से निष्कासन के बाद “अनिल शर्मा” ले सकते हैं ये बड़ा निर्णय, पढे़ं किस पर छोड़ा दारोमदार

ऐलान, कार्यकर्ता चाहेंगे कि वह राजनीति में रहें तो रहेंगे अन्यथा साइड हो जाएंगे

बीजेपी से निष्कासन के बाद “अनिल शर्मा” ले सकते हैं ये बड़ा निर्णय, पढे़ं किस पर छोड़ा दारोमदार

- Advertisement -

वी कुमार/मंडी। पूर्व मंत्री एवं सदर विधायक अनिल शर्मा का कहना है कि उनके कार्यकर्ता जो चाहेंगे वही होगा। अगर कार्यकर्ता चाहेंगे कि वह राजनीति (Politics) में रहें तो रहेंगे अन्यथा साइड हो जाएंगे। बीजेपी से निष्कासन के बाद अनिल शर्मा (Anil Sharma) ने मंडी में मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष अगर उनके निष्कासन की बात कह रहे हैं तो पार्टी ने यह निर्णय लिया होगा, लेकिन उन्हें अभी तक पार्टी की तरफ से ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है।



यह भी पढ़ें: अब बीजेपी के नहीं रहे अनिल, पार्टी से आउट होने का यह रहा बड़ा कारण…

 

दोबारा कांग्रेस में शामिल होने को लेकर पूछे गए सवाल के जबाव में अनिल शर्मा ने कहा कि उनके समर्थक और कार्यकर्ता जो भी तय करेंगे वह उसका सम्मान करेंगे। यदि कार्यकर्ता (workers) चाहेंगे कि भविष्य में वह राजनीति न करें तो वह पीछे हटने को भी तैयार रहेंगे। अनिल शर्मा ने कहा कि वह आज जो कुछ भी हैं सदर की जनता की बदौलत हैं और ऐसे में अब वह सदर के विधायक के रूप में अपने दायित्व का निर्वहन करेंगे।

अनिल शर्मा ने एक मंत्री के रूप में सरकार की तरफ से मिले सहयोग के लिए सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) का आभार भी जताया। उन्होंने कहा कि सीएम जयराम ठाकुर ने मंत्री के नाते उनके क्षेत्र में विकास करवाने का जो प्रयास किया उसके लिए वह उनके आभारी रहेंगे। उन्होंने स्पष्ट किया कि मॉनसून सत्र के दौरान अब वह अलग से बैठकर अपने क्षेत्र के मुद्दे उठाएंगे और उनका समाधान करवाने का प्रयास करेंगे।


पिता ने कभी बीजेपी के खिलाफ या उनके पक्ष में काम नहीं किया

अनिल शर्मा के पुत्र आश्रय शर्मा ने बीजेपी (BJP) के इस निर्णय की निंदा की है। उन्होंने कहा कि उनके पिता ने कभी बीजेपी के खिलाफ या उनके पक्ष में काम नहीं किया। बीजेपी के नेता चुनावों के दौरान से ही उनके पिता का निरादर करते आ रहे थे और यही कारण है कि अब उन्हें पार्टी से निकाला गया है। आश्रय शर्मा ने कहा कि बीजेपी ने ऐसा करके अपनी मंशा साफ जाहिर कर दी है कि उनकी कथनी और करनी में अंतर है।

बता दें कि 2017 के विधानसभा चुनावों के दौरान अनिल शर्मा अपने पूरे परिवार के साथ बीजेपी में शामिल हो गए थे। पूर्व की वीरभद्र सरकार में अनिल शर्मा मंत्री थे और मौजूदा जयराम सरकार में भी उन्हें मंत्री बनाया गया था। लोकसभा चुनावों तक सबकुछ ठीक चलता रहा लेकिन लोकसभा चुनावों के दौरान जब आश्रय शर्मा को बीजेपी ने टिकट नहीं दिया तो आश्रय और उनके दादा पंडित सुखराम (Pandit Sukhram) ने फिर से कांग्रेस का दामन थाम लिया। इसके बाद अनिल शर्मा पर चौतरफा दबाव बढ़ता गया और उन्हें लोकसभा चुनावों के दौरान मंत्रीपद से इस्तीफा देना पड़ा। हालांकि उन्हें बीजेपी ने पार्टी से नहीं निकाला था लेकिन अब मॉनसून सत्र से पहले इस काम को भी कर दिया है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

चंबा: सीने से बज रही थी सीटियां, डॉक्टरों ने फेफड़े से निकाली ये चीज

डिनर पार्टीः ध्वाला ने लगाए ठुमके, जयराम और सुरेश भारद्वाज ने डाली नाटी

नाहन: नाले में गिरी गाड़ी, एक युवक की मौत, दो घायल

विदेशों में आतंकवादी घटना में मरने वालों के आश्रितों को नौकरी देगी सरकार

मंडी एयरपोर्ट के रास्ते में कोई बाधा नहीं, दो सप्ताह में होगा एमओयू

हिमाचल में नहीं अवैध खनन का कारोबार, सिर्फ मिलती हैं शिकायतें

हिमाचल: SJVN लिमिटेड ने निकाली 230 अप्रेंटिस पदों पर भर्ती, बिना इंटरव्यू होगा चयन

हरिपुरधार में बर्फ में स्किड हुई बस , मची अफरा तफरी

मंडी के होटल से पुलिस ने चिट्टे के साथ धरे चार, नाबालिग भी  शामिल  

विस Live : आउटसोर्स से नियुक्तियों पर पुनर्विचार करेगी सरकार, लग सकती है रोक

कार की टक्कर से घायल हुए पुलिस जवान ने पीजीआई में तोड़ा दम

सानिया मिर्जा की बहन ने किया पूर्व क्रिकेटर अजहरुद्दीन के बेटे से दूसरा निकाह, देखें तस्वीरें

90 वर्षों के पश्चात माता पंचालिका का मंदिर की हुई प्रतिष्ठा

रावी में फंसा शराबी, आधे घंटे तक चला रेस्क्यू आपरेशन

धवाला बोले - मंत्री बनने की इच्छा मेरी भी, वैसे कईयों ने सिलवा लिए नए कोट

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है