पच्छाद उपचुनाव : डैमेज कंट्रोल के लिए खुद प्रचार में उतरे सीएम, बडू साहिब गुरुद्वारे में नवाया शीश

सरकार के लिए साख का सवाल बन गई है पच्छाद सीट

पच्छाद उपचुनाव : डैमेज कंट्रोल के लिए खुद प्रचार में उतरे सीएम, बडू साहिब गुरुद्वारे में नवाया शीश

- Advertisement -

राजगढ़। पच्छाद उपचुनाव में मोर्चे पर डटे सरकार के मंत्रियों के बीच अब सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai ram thakur) भी प्रचार में जुट गए हैं। सरकार के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बनी इस सीट को जीतने के लिए सीएम वोटरों के बीच पहुंच रहे हैं। बुधवार सुबह ही सीएम राजगढ़ से खैरी पहुंचे, जहां कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। यहां चार से पांच मिनट सड़क पर रुककर कार्यकर्ताओं में जोश भरा। इसके बाद सीएम मच्छेर होते हुए वह सीधे बडू साहिब पहुंचे। यहां उन्होंने गुरुद्वारे में शीश नवाया। पिछले दो सप्ताह से कई मंत्री पच्छाद में डोर-टू-डोर प्रचार में जुटे हैं। इस बीच सीएम के प्रचार में कूदते ही मुकाबला और भी रोचक हो गया है।


यह भी पढ़ें :-रोड शो कर जयराम ने टटोली मतदाताओं की नब्ज, खेला अपनापन कार्ड

बीजेपी (BJP) से बागी हुई दयाल प्यारी कश्यप ने मुकाबले को त्रिकोणीय किया है। हालांकि, पच्छाद उपचुनाव में पांच उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें पार्टी सिंबल पर चुनाव लड़ रहे दो प्रत्याशियों के अलावा तीन निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में हैं। बीजेपी से बागी हुई दयाल प्यारी के मैदान में उतरने के बाद ही यह सीट बीजेपी के लिए साख का सवाल बनी है। बीजेपी ने पच्छाद में जहां रुठों को मनाने के लिए कसरत तेज कर दी है वहीं, दयाल प्यारी को अलग-थलग करने की भी कोशिशें जारी हैं।

राजगढ़ में मंगलवार को हुई सीएम की चुनावी जनसभा में सीएमसमेत अन्य मंत्रियों ने विपक्ष पर जरूर तीखे हमले बोले, लेकिन निर्दलीय प्रत्याशी का नाम तक नहीं लिया। बीजेपी के लिए इस सीट पर हैट्रिक का दबाव है। साल 2012 व 2017 में लगातार दो बार बीजेपी ने कांग्रेस के गढ़ में सेंधमारी कर चुनाव जीते।तीसरी बार भी बीजेपी इस सीट को हर हाल मे जीतना चाहती है। इसके लिए न केवल पूरा मंत्रिमंडल पच्छाद में डटा है बल्कि, अब सीएम ने स्वयं भी मोर्चा संभाल लिया है।

उधर, पीसीसी चीफ के अलावा कांग्रेस के विधायक भी डोर-टू-डोर प्रचार में जुटे हैं। 17 अक्तूबर को कांग्रेस राजगढ़ में आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर विरोध रैली निकालेगी। हालांकि, पहले ये रैली 15 अक्तूबर को आयोजित की जानी थी। बहरहाल, पच्छाद में त्रिकोणीय हुए इस मुकाबले के बीच बीजेपी के लिए सीट जीतना सरकार के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है। वहीं, पिछले दो विस चुनाव में लगातार हार का सामना कर चुके जीआर मुसाफिर भी हार की हैट्रिक से बचना चाहते है। इस बार उनकी साख भी दांव पर लगी है। इसके बाद बड़ू साहिब से सीएम जयराम हरियाणा निकल गए।


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

प्रसिद्ध गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण का निधन : दो घंटे स्ट्रेचर पर पड़ा रहा शव, नहीं मिली एंबुलेंस

प्रदेशभर में कांग्रेसियों ने पंडित नेहरू को किया याद

नशे में धुत वाहन चालकों की खैर नहीं, सुंदरनगर पुलिस ने काटे चालान

हरियाणा कैबिनेट विस्तार : छह कैबिनेट और चार राज्य मंत्रियों ने ली शपथ

टारना मार्ग में ट्रक फंसाः यातायात रहा प्रभावित, छात्र व दफ्तर जाने वाले हुए परेशान

अवमानना मामले में राहुल गांधी को राहत, सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार की माफी

सबरीमाला महिला प्रवेश मामला : महिलाओं की एंट्री जारी रहेगी, SC ने बड़ी बेंच को सौंप केस

जवाली : कुल्हाड़ी के वार से महिला‌ को उतारा मौत के घाट, पति-जेठ हिरासत में

Breaking : औट-लुहरी एनएच-305 पर खाई में गिरा वाहन, दो की मौत

जवाली और फतेहपुर के बीयर बार में एक्साइज विभाग की दबिश, रिकॉर्ड जब्त

कांगड़ा सहित 5 जिलों में येलो अलर्ट जारी, भारी बारिश और बर्फबारी की संभावना

जयराम सरकार ने बदले जवाली और धीरा के एसडीएम, इन्हें दी तैनाती

अनुराग की जयराम सरकार को सलाह-सड़कों की दशा सुधारों, फिर आएगा निवेश

हाईकोर्ट के कड़े रुख के बाद हिमाचल में मानवाधिकार आयोग का होगा गठन

बुजुर्ग महिला क्रूरता मामलाः हत्या के प्रयास का मामला हो दर्ज

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है