Covid-19 Update

2926
मामले (हिमाचल)
1762
मरीज ठीक हुए
12
मौत
1,959,822
मामले (भारत)
18,833,253
मामले (दुनिया)

Birthday Sepcial : दो साल की उम्र में Dalai Lama बन गए थे तेनजिन, वर्षों बाद समझा महामहिम होने का मतलब

बचपन में थैला लेकर लंबी यात्रा पर निकल पड़ते थे

Birthday Sepcial : दो साल की उम्र में Dalai Lama बन गए थे तेनजिन, वर्षों बाद समझा महामहिम होने का मतलब

- Advertisement -

मैक्लोडगंज। वह तिब्बतियों के धर्मप्रमुख ही नहीं, विश्व शांति के दूत भी हैं। आधी सदी से ज्यादा समय से वह निर्वासन में हैं। बेशक वह चीन की आंखों में खटकते हैं लेकिन उनका व्यक्तित्व ऐसा है कि सामने पड़ जाएं तो मन में असीम श्रद्धा व सम्मान की भावना उमड़ने लगती है। जी हां, बात हो रही है दलाई लामा की जिनका आज 85 वां जन्मदिन (85th Birthday) है। खास बात यह है कि 14वें दलाई लामा तेनजिन ग्यात्सो (Tenjin Gyatso), महामहिम होने का मतलब लंबे समय बाद समझ पाए थे। तेनजिन ग्यात्सो को जिस समय दलाई लामा (Dalai Lama) के तौर पर मान्यता मिली थी, उस वक्त वे मात्र दो वर्ष के थे।


 

 

कुंबुम मठ (Kumbum Math) में अभिषेक के बाद उन्हें माता-पिता का ज्यादा साथ नहीं मिल पाया। कारण सीधा था ल्हासा से दस किमी दूर उतर-पूर्वी दिशा में पैदा हुआ दो वर्षीय बालक लहामो चेढप दलाई लामा बन चुका था। उसकी शिक्षा-दीक्षा उसी अनुरूप होनी थी। महामहिम ने स्वयं एक किताब में लिखा है कि एक छोटे बच्चे के लिए मां-बाप से इस तरह अलग रहना सचमुच बहुत कठिन होता है। उस वक्त तो उन्हें यह भी पता नहीं था कि दलाई लामा होने का मतलब क्या है। उन्हें सिर्फ यही पता था कि मैं दूसरे कई छोटे बच्चों की तरह एक छोटा बच्चा था। बचपन में उन्हें एक खास शौक था कि वह एक झोले में कुछ चीजें डालकर उन्हें कंधे पर लटका लेते थे व ऐसा नाटक करते थे कि कि एक लंबी यात्रा पर जा रहे हैं। अक्सर कहा करते थे कि वे ल्हासा जा रहे हैं। दलाई लामा खाने की मेज पर हमेशा जिद करते थे कि मुझे सबसे प्रमुख स्थान पर बिठाया जाए।

 

 

15वें साल में राजनीतिक जिम्मेदारियों का निर्वाह

दलाई लामा केवल 15 वर्ष के थे तो उन्होंने अपनी सरकार के वरिष्ठ होने के नाते राजनीतिक जिम्मेदारियों का निर्वाह शुरू कर दिया था। वर्ष 1954 में महामहिम चीनी नेताओं से बातचीत करने चीन की राजधानी बीजिंग गए,जब चीन (China) तिब्बत के बारे में असहयोगपूर्ण रवैया अपनाए हुए था। वर्ष 1956 में वे महात्मा बुद्व की 2500वीं वर्षगांठ पर भारत आए व तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू से तिब्बत (Tibet) की दुर्दशा पर लंबी बातचीत की। अंततः तिब्बत में चीन सरकार के बढ़ते आतंक से उत्पन्न खतरे को भांपकर उन्हें 1959 में तिब्बत छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।

 

 

नया अनुभव होगा इस मर्तबा

दलाई लामा कार्यालय का कहना है कि धर्मगुरु के 85 वें जन्मदिन (85th birthday) पर किसी भी प्रकार के भव्य समारोहों का आयोजन नहीं किया जाएगा। कार्यालय ने आम जनता से आग्रह किया गया है कि वे अपने-अपने घरों में रहकर पूजा.पाठ करें। बड़ी संख्या में लोगों का एक जगह इकट्ठा होना कोरोना वायरस (Coronavirus) के इस दौर में किसी खतरे से कम नहीं है। धर्मगुरु का जन्मदिन कैलेंडर वर्ष में तिब्बतियों और उनके दूसरे अनुयायियों के लिए सबसे खास दिनों में से एक है। यह तिब्बतियों के लिए एक आधिकारिक अवकाश का दिन होता है और वे दुनिया भर में ग्रैंड सेलिब्रेशन का आयोजन करते हैं, लेकिन इस वर्ष दलाई लामा का जन्मदिन उनके अनुयायियों के लिए एक नया अनुभव होगा।

यह भी पढ़ें Dalai Lama के जन्मदिन पर घरों में ही रहने का आग्रह, बड़ी संख्या में इकट्ठा होना खतरनाक

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Corona Record: हिमाचल में 131 नए मामले, 103 ठीक- कुल आंकड़ा 3 हजार पार

Big Breaking: कांगड़ा पहुंचे बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप स्टाफ सहित आइसोलेट

बड़ी खबरः Himachal के यह कैबिनेट मंत्री निकले Corona पॉजिटिव, दो बेटियां और PSO भी संक्रमित

सीएम Jai Ram के Kangra में कदम रखते ही खत्म हुए मिथ, सब साथ-साथ आए नजर

Big Breaking: हिमाचल कैबिनेट की बैठक अगले हफ्ते इस दिन होगी आयोजित

तो क्या Himachal में नई पंचायतों का होगा गठन, मंदिर खोलने पर क्या बोले जयराम- जानिए

ब्रेकिंगः हिमाचल में आज 49 ने जीती Corona से जंग, अब तक 20 नए मामले

बड़ी खबरः Allied Services मुख्य परीक्षा को टालने की याचिका हाईकोर्ट में खारिज

हमीरपुर में BJP की बैठक से पहले धूमल से मिल आए सुरेश कश्यप

हो जाएं तैयार, नाम सुझाएं और CM Jai Ram से इनाम पाएं

BJP के पुराने साथी Dr. Rajan Shushant खड़ा करेंगे Third Front, नवरात्रों तक का मांगा वक्त

Tattapani के लक्ष्मीनारायण मंदिर में चोरी : मां की नथ व दानपात्रों की नगदी पर किया हाथ साफ

अनुराग ठाकुर का नजदीकी होने का दावा कर 7 लोगों से किया 22 लाख का fraud

कोरोना पर बोलना Trump को पड़ा भारी, Twitter ने बैन किया Account

सड़क का निरीक्षण करने गए PWD के एसडीओ का रास्ता रोका, किया अभद्र व्यवहार

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

शिक्षा बोर्ड ने SOS परीक्षाओं के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई- जाने नई डेट

कोरोना संकट चलता रहा तो Students को घर पर ही मिल जाएगी वर्दी-बैग

Himachal में यहां मेधावी बेटियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की मिलेगी निशुल्क Coaching

Breaking : हिमाचल में अब ई-पीटीएम, अभिभावक रख सकेंगे अपनी बात खुलकर

Covid-19 के चलते HPBOSE ने स्थगित की TET की परीक्षाएं, 2 अगस्त से होनी थी शुरू

9वीं से 12वीं के पाठ्यक्रम में कटौती को कवायद तेज, सरकार को भेजा जाएगा Proposal

Himachal में संस्कृत विश्वविद्यालय के लिए चिन्हित की जा रही जमीन

HPU ने यूजी के छात्रों को दी राहत, घर के नजदीक कॉलेजों में दे सकेंगे परीक्षा

TGT के इन 89 पदों पर होगी बैचवाइज भर्ती, दुर्गम और दूरदराज क्षेत्रों में मिलेगी तैनाती

इस दिन से शुरू होंगी यूजी अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं, HPU ने जारी की डेटशीट

HPBOSE ने D.El.Ed CET परीक्षा की Answer Key दोबारा की अपलोड

बड़ी खबरः JBT और शास्त्री टैट की परीक्षा को लेकर बोर्ड का बड़ा फैसला

SOS जमा दो का रिजल्ट आउट, 10वीं और 12वीं के नियमित छात्रों को भी राहत

HPBOSE: टैट की परीक्षा के लिए Admit Card जारी, ऐसे करें डाउनलोड

टैट के 52,859 आवेदनों में 4,146 बिना फीस के आए, Board ने जारी की लिस्ट


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है