Covid-19 Update

1087
मामले (हिमाचल)
768
मरीज ठीक हुए
09
मौत
7,23,185
मामले (भारत)
11,772,356
मामले (दुनिया)

बड़ी खबरः Teacher की छात्रों को दी जाने वाली हल्की फुल्की यातना आपराधिक कृत्य नहीं

हाईकोर्ट ने एक अहम निर्णय में दी व्यवस्था, टीचर के खिलाफ आपराधिक मामला निरस्त

बड़ी खबरः Teacher की छात्रों को दी जाने वाली हल्की फुल्की यातना आपराधिक कृत्य नहीं

- Advertisement -

शिमला। छात्र के व्यवहार में सुधार लाने के मकसद से टीचर (Teacher) द्वारा दी जाने वाली हल्की फुल्की यातना को आपराधिक कृत्य (Criminal Act) नहीं आंका जा सकता है। हाईकोर्ट (High Court) ने एक अहम निर्णय में व्यवस्था दी है कि शिक्षक छात्र को हल्की यातना दे सकता है, लेकिन यह यातना भविष्य में छात्र के शारीरिक और मानसिक विकास में किसी तरह से बाधा नहीं बननी चाहिए। अध्यापक अगर किसी छात्र को उसके विकास के लिए शारीरिक तौर पर चोटिल करता है तो उस परिस्थिति में अध्यापक के विरुद्ध आपराधिक मामला चलाया जा सकता है।


यह भी पढ़ें: Palampur: 29 वर्षीय युवक ने घर के आंगन में पेड़ से लगाया फंदा, चली गई जान

घर में माता-पिता भी बच्चों को देते हैं हल्की फुल्की यातनाएं

यह व्यवस्था न्यायमूर्ति विवेक सिंह ठाकुर ने राजधानी के एक प्रतिष्ठित स्कूल की अध्यापिका के विरुद्ध दर्ज प्राथमिकी और अपराधिक मामले (Criminal Case) को निरस्त करते हुए दी। अदालत ने कहा कि पाठशाला में बच्चों को पढ़ाई के लिए छोड़ते समय अभिभावक बिना किसी शर्त के स्कूल प्रबंधन के हवाले छोड़ते हैं और वहां उनकी देख रेख और पढ़ाई के लिए तैनात स्टाफ बच्चों के हित के लिए माता-पिता की तरह कार्रवाई कर सकते हैं। हर घर में माता-पिता भी बच्चों की बेहतरी के लिए हल्की फुल्की यातना भी देते हैं, ताकि बच्चा भविष्य में गलती ना करे।

यह भी पढ़ें: Breaking: कमरे में बंद हुई विपक्ष की आवाज, Mukesh ने किया अपने को Isolate

अध्यापिका की मार से आहत दो छात्रों ने ढांक से लगा दी थी छलांग

अदालत (Court) के समक्ष रखे गए तथ्यों के अनुसार 24 सितंबर 2012 को दो छात्रों को प्रार्थी अध्यापिका ने कक्षा में दो-दो थप्पड़ मारे। अध्यापिका की मार से आहात होकर इन 12-12 वर्षीय छात्रों ने स्कूल के नजदीक काली ढांक से छलांग लगा दी थी, जिससे उनकी मौत हो गई थी। पुलिस (Police) ने इस मामले में स्कूल की प्रधानाचार्य और प्रार्थी अध्यापिका के विरुद्ध आत्महत्या के लिए उकसाने के अलावा बाल संरक्षण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया। पुलिस आत्महत्या करने के उकसाने के बारे में साक्ष्यों के आभाव में स्कूल की प्रधानाचार्य और अध्यापिका को छोड़ दिया और बाल संरक्ष्ण अधिनियम के तहत अध्यापिका के विरुद्ध मामला चलाया।

यह भी पढ़ें: नगरोटा बगवां में देसी शराब से भरा Truck पकड़ा, पुलिस ने ट्रक और Liquor कब्जे में ली

प्रार्थी शिक्षिका ने कोर्ट में दी थी यह दलील

प्रार्थी ने अदालत में दलील दी कि स्कूल में एक अभिभावक की भूमिका अदा करते हुए उसने बच्चों को डांटा था, जोकि उनके भविष्य की बेहतरी के लिए था और गलती करने पर बच्चों को डांटा जाना जरूरी भी है। घर पर भी माता-पिता अपने बच्चों को हल्की फुल्की यातना भी देते हैं। प्रार्थी द्वारा बच्चों को गलती पर डांट लगाना अपराधिक मामले की परिभाषा में नहीं आता, इसलिए इस मामले को रद्द किया जाए। हाईकोर्ट में प्रार्थी की दलीलों से सहमति जताते हुए प्रार्थी के विरुद्ध चल रहे अपराधिक मामले को रद्द करने का निर्णय सुनाया।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

हिमाचल में B.Ed करने के इच्छुकों के लिए राहत देने वाली है ये रपट, क्लिक करें

Himachal में क्या बनेंगी नई पंचायतें या पहले की तरह रहेगी स्थिति- जानिए

अमेरिका ने भारत को तिब्बती धर्म गुरू Dalai Lama की मेजबानी के लिए किया धन्यवाद

Rathore का वार- मजबूती से पक्ष नहीं रख पाई जयराम सरकार, केंद्र के दबाव में खोली सीमाएं

कोरोना अपडेटः कांगड़ा में Paramilitary Force का जवान पॉजिटिव, हिमाचल में 14 हुए ठीक

Rajendra Rana ने क्यों कर डाला Anurag Thakur का खुले मन से स्वागत, गंभीर है मसला जानें

UGC के निर्देश : सितंबर के अंत तक करवानी होंगी UG Final Semester की परीक्षाएं, और भी बहुत कुछ, जानें

Medical College Nahan की महिला डॉक्टर चंडीगढ़ में Corona positive

Himachal के किन्नौर जिला में भूकंप के झटके, 3.2 रही तीव्रता

India के अरुणाचल में हिली धरती, Singapore और Indonesia में भी भूकंप के झटके

कोरोना ब्रेकिंगः Solan में बाप के बाद बेटा भी संक्रमित, ऊना में SBI कर्मी पॉजिटिव

High Court के आदेश, स्वास्थ्य निदेशक डॉक्टरों को बताएं पढ़ने योग्य भाषा में लिखें MLC

प्रदेश के वित्तीय हालातों पर Mukesh ने घेरी जयराम सरकार, श्वेत पत्र जारी करने की उठाई मांग

ब्रेकिंगः Interstate Barrier, क्वारंटाइन सेंटर और रेलवे स्टेशन पर टीचर देंगे सेवाएं

सत्य प्रकाश ठाकुर की मांग, Kaul Singh - Sukhu पर पार्टी करे अनुशासनात्मक कार्रवाई

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

HRD मंत्री का ऐलान: CBSE कक्षा 9 से 12वीं तक के सिलेबस को 30% तक करेगा कम

हिमाचल में B.Ed करने के इच्छुकों के लिए राहत देने वाली है ये रपट, क्लिक करें

UGC के निर्देश : सितंबर के अंत तक करवानी होंगी UG Final Semester की परीक्षाएं, और भी बहुत कुछ, जानें

Kendriya Vidyalaya: फेल नहीं होंगे 9वीं-11वीं के छात्र; बिना परीक्षा के प्रोजेक्ट वर्क के जरिए होंगे प्रोमोट

हिमाचल के स्कूलों में Morning Prayer सभा एक जैसी हो, शिक्षा बोर्ड कर रहा तैयारी

SOS अगस्त व सितंबर की परीक्षाओं के ऑनलाइन पंजीकरण की तिथियां घोषित

CBSE ने टीचर्स के लिए शुरू किए Online कोर्स: यहां देखें डीटेल्स

Himachal में अध्यापकों को 12 तक छुट्टियां; 13 से होगी Online पढ़ाई शुरू

HPU सहित प्रदेश के 17 Colleges को मिलेगा कुल 27 करोड़ का ग्रांट; जानें किसके हिस्से में कितना

HPBOSE: SOS का 10वीं व 8वीं कक्षा का Result Out, दसवीं में  32.07 फीसदी हुए पास

15 जुलाई तक जारी होंगे CBSE- ICSE के नतीजे, असेसमेंट स्कीम को Supreme Court की मंजूरी

NCERT: स्कूलों के लिए अब आएगा नया सिलेबस; 15 साल बाद सरकार ने दिया ये आदेश

CBSE 10वीं की परीक्षा रद्द, 12वीं को दो ऑप्शन!, ICSE बोर्ड भी बोला- रद्द करने के लिए सहमत

Himachal में पहली जुलाई से नहीं खुलेंगे School, शिक्षा मंत्री बोले - केंद्र की गाइडलाइन का करेंगे इंतजार

हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने D.EL.ED CET- 2020 की आवेदन तिथि बढ़ाई


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है