Covid-19 Update

3371
मामले (हिमाचल)
2185
मरीज ठीक हुए
13
मौत
2,212,429
मामले (भारत)
19,919,752
मामले (दुनिया)

Himachal में अब मंत्री-विधायक नहीं कर पाएंगे शिक्षकों की Transfer, जानिए क्या होगी नई प्रक्रिया

नई तबादला नीति को लेकर सचिव शिक्षा राजीव शर्मा ने राज्य सचिवालय में दी प्रेजेंटेशन, दिया गया अंतिम रूप

Himachal में अब मंत्री-विधायक नहीं कर पाएंगे शिक्षकों की Transfer, जानिए क्या होगी नई प्रक्रिया

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल में अब शिक्षकों के तबादलों की प्रक्रिया बदलने जा रही है। अब शिक्षकों के तबादले मंत्रियों और विधायकों की सिफारिश पर नहीं बल्कि नई तबादला नीति (New transfer policy) के तहत किए जाएंगे। ये तबादले (Transfer) ऑनलाइन होंगे। राज्य सचिवालय में हुई बैठक में सचिव शिक्षा राजीव शर्मा ने इस पर प्रेजेंटेशन दी। बैठक में तबादला नीति के प्रारूप को अंतिम रूप दे दिया गया है। इस नीति को लागू करने से पहले व्यापक स्तर पर शिक्षकों के तबादले होंगे। युक्तीकरण की प्रक्रिया के तहत यह तबादले किए जाएंगे। शिक्षा विभाग ने प्रदेश में 10 व इससे कम विद्यार्थियों वाले स्कूलों का रिकॉर्ड तलब किया है। सभी शिक्षा उपनिदेशकों को 15 दिन में रिकॉर्ड भेजने के निर्देश दिए हैं। स्कूलों में कितने शिक्षक तैनात हैं, इसका ब्योरा भी देना होगा।


यह भी पढ़ें: कोरोना संकट के बीच Himachal में 2196 शिक्षकों और गैर शिक्षकों ने करवाई Transfer

 

शैक्षणिक सत्र के बीच में ना तबादले, ना ही सेवानिवृत्ति

तबादला नीति के प्रारूप के तहत शैक्षणिक सत्र (Academic session) के बीच में ना तो शिक्षकों के तबादले होंगे और ना ही सेवानिवृत्ति होगी। शिक्षकों की सेवानिवृत्ति 31 मार्च को ही होगी। यदि किसी शिक्षक ने अप्रैल या इसके बाद सेवानिवृत्त होना है तो वह अगले साल मार्च में ही रिटायर होगा। उन्हें उस दौरान वेतन तो मिलेगा, लेकिन पदोन्नति नहीं मिल पाएगी। इसे नए सत्र से लागू करने की पूरी तैयारी है। मंत्रिमंडल की मंजूरी के बाद इसका बिल तैयार कर विधानसभा से पास करवाया जाएगा। विभाग ने सॉफ्टवेयर पर डाटा अपलोड करने का काम लगभग पूरा कर दिया है।

 

 

पांच साल बाद खुद शिक्षकों के नाम अपडेट कर देगा पोर्टल

पॉलिसी लागू होने के बाद पांच साल बाद खुद पोर्टल शिक्षकों के नाम अपडेट कर देगा। पांच साल पूरे होने के बाद फिर शिक्षा विभाग (Education Department) स्टेशन देखकर शिक्षकों के तबादले करेगा। इसके साथ ही पॉलिसी में यह भी लागू किया गया है कि तीन साल बाद कोई भी शिक्षक अपने नजदीकी किसी स्कूल में जाने के लिए अप्लाई कर सकता है। अहम यह है कि ट्रासंफर पॉलिसी लागू होने के बाद शिक्षकों का अपनी मर्जी से ट्रांसफर लेना आसान नहीं होगा। अब जो भी शिक्षक ट्रांसफर करवाएगा, उसका स्टेशन ऑनलाइन सॉफ्टवेयर पर अपडेट हो जाएगा। प्रारूप के अनुसार शीतकालीन अवकाश वाले स्कूलों में शिक्षकों के तबादले पहली से 15 फरवरी के बीच हो सकेंगे। ग्रीष्मकालीन अवकाश वाले स्कूलों में तबादले 22 मार्च से पहली अप्रैल के बीच होंगे। सूत्रों के मुताबिक इन तारीख में कुछ बदलाव हो सकता है। हालांकि तबादलों का समय एक रखने पर भी विचार हो रहा है।

तबादलों के लिए बनाए हैं पांच जोन

तबादलों के लिए पांच जोन बनाए हैं। इसमें ए, बी, सी, डी और ई जोन शामिल हैं। सेवाकाल के दौरान हर जोन में सेवाएं देना अनिवार्य होगा। ए और बी जोन प्रदेश के सुगम क्षेत्र होंगे। सी, डी और ई दुर्गम, अति दुर्गम और जनजातीय क्षेत्र में आएंगे। ए और बी जोन के सुगम क्षेत्रों में सेवाएं दे रहे स्कूल व कॉलेज शिक्षकों को कम से कम पांच साल के बाद बदला जाएगा। सी, डी और ई जोन में सेवाएं दे रहे शिक्षकों के तीन साल बाद तबादले होंगे। सेवानिवृत्ति को दो साल बचे हैं तो भी शिक्षक ट्रांसफर नहीं होंगे।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

शिक्षकों के तबादले से पहले सरकार उनकी पसंद के पांच सेंटर भी पूछेगी, जो शिक्षक सेंटर नहीं बताएंगे, उन्हें पूरे प्रदेश में कहीं भी भेजा जा सकेगा। तबादले के लिए ऑनलाइन ही आवेदन मांगे जाएंगे। जेबीटी, क्राफ्ट एंड वोकेशनल, टीजीटी, हेडमास्टर, पीजीटी, प्रधानाचार्य सहित करीब 80 हजार शिक्षक इस प्रस्ताव के दायरे में आएंगे।

राज्य सचिवालय (State secretariat) में हुई बैठक के दौरान शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, निदेशक उच्चतर शिक्षा डॉ. अमरजीत शर्मा, प्रारंभिक शिक्षा निदेशक रोहित जम्वाल भी मौजूद रहे। पिछले सप्ताह हुई समीक्षा बैठक में शिक्षा विभाग ने सीएम के समक्ष तबादला नीति की प्रेजेंटेशन दी थी। सीएम ने ही इसे कैबिनेट में रखने से पहले कैबिनेट सदस्यों के समक्ष भी प्रेजेंटेशन देने के निर्देश दिए थे, ताकि सभी के सुझाव इस पर आ सकें।

 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Private Hospital में महिला की मौत, गुस्साए परिजनों ने किया हंगामा, लापरवाही से जान लेने का आरोप

सोलन: BBN के प्रदूषण को कंट्रोल करेंगे छोटे वन, कसंबोवाल से शुरू हुई लघु वन योजना

Kangra: जंगल में मिला हैंड ग्रेनेड, इलाका सील- बम निरोधक दस्ता बुलाया

 इस देश में पिछले 100 दिनों से Community Transmission नहीं आया कोई  भी Case

Corona Update: एक स्वास्थ्य और तीन पुलिस कर्मियों सहित आज 107 पॉजिटिव, दो आर्मी जवान भी संक्रमित

करुणामूलक आधार पर नौकरी में हटे आय का दायरा, Jai Ram से मिला प्रतिनिधिमंडल

बारिश ने रोका Jai Ram का उड़नखटोला, Una दौरा स्थगित; उद्घाटन व शिलान्यास लटके

ECG टेक्नीशियन मशीन खराब होने का बहाना बनाकर Duty से गायब, रात भर भटकते रहे लोग

पोस्टर फाड़ने का मामलाः BJP युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं के खिलाफ शिकायत, जांच में जुटी Police

Corona का कहरः 16 दिन की छुट्टियों पर China से आया था परिवार, 6 महीने बाद लौटा वापस

सीएम के जयसिंहपुर प्रवास के दौरान Yuva Morcha कार्यकर्ताओं की हरकत पर Rathore उबले

रामपुर में ITBP के Jawan ने खुद को मारी गोली, शिमला किया रेफर

फर्जी Corona Negative Certificate के सहारे हिमाचल में पर्यटकों की एंट्री, हिरासत में लेकर किए Quarantine

किसानों के खाते में आएंगे दो हजार रुपए, PM Modi ने जारी की किसान सम्मान निधि की छठी किश्त

BPL परिवारों के लिए Himachal सरकार लेकर आई ये-ये रियायतें

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है