दुनियाभर में कैंसर के इलाज के लिए मशहूर पद्मश्री डॉ येशी हो गए रिटायर

डॉ येशी के क्लिनिक ने कहा बुढ़ापे के कारण ली रिटायरमेंट

दुनियाभर में कैंसर के इलाज के लिए मशहूर पद्मश्री डॉ येशी हो गए रिटायर

- Advertisement -

मैक्लोडगंज। दुनियाभर में कैंसर के इलाज के लिए मशहूर (Popularly known in treating cancer patients) पद्मश्री डॉ. येशी ढोंडेन (Dr. Yeshi Dhonden) ने 92 वर्ष की उम्र में रिटायरमेंट (Retirement) ले ली है। अब वह किसी भी तरह के मरीज को नहीं देखेंगे। पद्मश्री पुरस्कार प्राप्त करने वाले और तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा के निजी चिकित्सक रहे डॉ येशी ढोंडेन के मैक्लोडगंज (McLeod Ganj) स्थित क्लीनिक की तरफ से जारी पत्र में कहा गया है कि बुढ़ापे के कारण डॉ. येशी ने ये निर्णय लिया है।



यह भी पढ़ें :- आईडीबीआई बैंक में निकली असिस्टेंट मैनेजर के 515 पदों पर भर्ती, यहां देखें

डॉ येशी ढोंडेन, हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला के निकट मैक्लोडगंज में अपने क्लीनिक (Clinic) में दुनिया भर के रोगियों का इलाज करते रहे हैं। डॉ ढोंडेन को तिब्बती पारंपरिक चिकित्सा (Traditional Tibetan Medicine) की महारत हासिल है,वे कैंसर रोगियों के इलाज के लिए दुनिया भर में जाने जाते हैं।

दो दशकों तक दलाई लामा के निजी चिकित्सक (former personal physician to The Dalai Lama) रहे डॉ येशी एक भिक्षु (The Tibetan monk) हैं। वर्ष 2018 में उन्हें हर्बल दवाओं और आहार के माध्यम से हजारों रोगियों के उपचार में योगदान के लिए पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। डॉ येशी ढोंडेन भारत के प्रतिष्ठित पद्म श्री पुरस्कारों से सम्मानित होने वाले दूसरे तिब्बती हैं। उनकी रिटायरमेंट के बारे में परिपत्र के अनुसार, अब कोई नया रोगी नहीं (No new patients will be seen) देखा जाएगा। तिब्बतियन मेडिकल एंड ऐस्ट्रो इंस्टीट्यूट से रिटायर होने के बाद डॉ. येशी धोंडेन ने 1980 में मैक्लोडगंज में तिब्बतियन हर्बल क्लीनिक से शुरूआत की थी। यहां वह रोगी के पेशाब और नब्ज का अध्ययन कर उनके रोगों की जांच कर तिब्बती आयुर्वेदिक दवाइयां देते थे। वह 23 मार्च 1961 को तिब्बत से भारत में शरणार्थी बनकर आए थे। उनके क्लीनिक में ट्रीटमेंट कराने के लिए आए मरीज टोकन लेने के लिए सुबह 5 बजे से ही लाइन लगती थी। वे एक दिन में केवल 45 मरीजों की ही जांच करते थे।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

अब एचआरटीसी में बाबूगिरी नहीं कर पाएंगे ड्राइवर-कंडक्टर

हिमाचल के सभी 68 विस क्षेत्रों में बनेंगे हेलीपैड,आपात स्थिति में आएंगे काम

नई सड़कों के लिए डीपीआर स्टेज पर होगा थर्ड पार्टी रोड सेफ्टी ऑडिट

राज्य मुक्त विद्यालय की 8 वीं, 10 वीं तथा जमा दो की अनुपूरक परीक्षाओं की डेटशीट जारी

हिमाचल : दूर होगी पटवारियों की कमी, प्रदेश सरकार भरेगी 1195 पद

कुल्लू: चरस और शराब के साथ दो व्यक्ति गिरफ्तार

108 आयुर्वेद डाक्टरों की होगी भर्ती, स्वास्थ्य मंत्री ने सदन को दी जानकारी

बिक्रम बोले, एनजीटी आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट जाएगी सरकार

बीबीएमबी के एसडीओ के खिलाफ एससी-एसटी एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज  

हिमाचली मूल के आईपीएस रामेश्वर का जेनेवा में बड़ा सम्मान

कहासुनी होने पर पत्नी ने भाई के साथ मिलकर पति का कर डाला मर्डर

नशीली चीज छिड़क कर छात्रा के अपहरण का प्रयास

मानसून सत्र : चंबा सीमेंट उद्योग के लिए दोबारा से होगी टेंडर प्रक्रिया

मानसून सत्र : एसपी पर शांत तो विपक्ष के खिलाफ टिप्पणियों पर लाल हुए मुकेश अग्निहोत्री

मणिमहेश पैदल यात्रा की मिली अनुमति पर इन पर अभी भी रोक है बरकरार

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है