ब्रेकिंगः हिमाचल में फिलहाल एसएमसी शिक्षक भर्ती पर रोक, जानिए पूरा मामला

हाईकोर्ट ने शिक्षा विभाग से मांगा एसएमसी नीति के तहत लगाए शिक्षकों ब्यौरा

ब्रेकिंगः हिमाचल में फिलहाल एसएमसी शिक्षक भर्ती पर रोक, जानिए पूरा मामला

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल में एसएमसी शिक्षकों( SMC Teachers) की भर्ती पर फिलहाल ब्रेक लग गई है। हाईकोर्ट  ( High Court)  के न्यायाधीश धर्म चंद चौधरी व न्यायाधीश ज्योत्सना रिवाल दुआ की खंडपीठ ने एसएमसी नीति के तहत शिक्षकों की भर्ती के खिलाफ दायर याचिका की प्रारंभिक सुनवाई के पश्चात शिक्षा विभाग ( Education Department) को आदेश दिए कि 3 सप्ताह के भीतर प्रदेश में एसएमसी नीति के तहत अभी तक लगाए गए अध्यापकों का पूरा ब्यौरा कोर्ट के समक्ष रखे।


 

यह भी पढ़ें : गज़ब का मेकओवर: लता के 1 गाने से बदली किस्मत, नया वीडियो भी आया सामने

 

 

कोर्ट( Court) ने शिक्षकों के रिक्त पदों की संख्या व उन्हें आरएंडपी नियमों के तहत भरने के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी देने के आदेश भी दिए। मामले पर सुनवाई 5 सितम्बर को होगी। वहीं, सरकार की ओर से हाईकोर्ट को दिए आश्वासन में कहा गया कि कोर्ट के आगामी आदेशों तक प्रदेश के सरकारी स्कूलों में किसी भी नए एसएमसी अध्यापक की नियुक्ति अथवा चयन नहीं किया जाएगा।

कोर्ट ने कहा कि स्टॉप गैप अरेंजमेंट ( Stop gap arrangement)के नाम पर की जा रही एसएमसी भर्तियां कतई प्रशंसनीय कदम नहीं हैं। कोर्ट ने मामले की सुनवाई के दौरान खेद प्रकट किया कि सरकार हर बार कोर्ट को नियमों के तहत शिक्षकों की भर्तियां करने का आश्वासन देती है, लेकिन इसके सार्थक परिणाम प्राप्त नहीं हो रहे हैं। कोर्ट ने पाया कि एसएमसी भर्तियां न केवल सरकार के अपने निर्णयों के विरुद्ध हैं, बल्कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के खिलाफ भी हैं। प्रार्थी कुलदीप कुमार व अन्यों द्वारा दायर याचिका में आरोप लगाया है कि राज्य सरकार द्वारा की गई एसएमसी शिक्षकों की भर्तियां गैरकानूनी है।

यह भी पढ़ें: सोलन: धर्मपुर में चिट्टे के साथ एक युवक गिरफ्तार

सरकार अभी फिर से स्टॉप गैप अरेंजमेंट के नाम पर एसएमसी भर्तियां करने जा रही है वह सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की सरासर अवहेलना है। प्रार्थियों की ओर से यह दलील दी गई है कि राज्य सरकार द्वारा लम्बे समय से एस एम सी शिक्षकों की भर्तियां भर्ती एवं पदोन्नति नियमों को दरकिनार कर हो रही है और सभी को समान अवसर जैसे मूलभूत अधिकार का उल्लंघन हो रहा है। यह भर्तीयां शिक्षा का अधिकार अधिनियम के प्रावधानों के भी विपरीत है। प्रार्थियों ने हाल ही में जारी अधिसूचना को रद्द करने व भर्ती प्रक्रिया को अंजाम न देने की गुहार लगाई है। प्रार्थियों ने 17 जुलाई 2012 को जारी एसएमसी शिक्षक भर्ती नीति व इसे पूरे प्रदेश में लागू करने के 16 अगस्त 2014 के आदेशों के साथ साथ समय समय पर इस संदर्भ में जारी सरकारी आदेशों को निरस्त करने की मांग की है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

बंजार व पतलीकुहल में सड़क हादसे, सात लोग पहुंचे अस्पताल

Breaking: रामपुर के बधाल में फटा बादल, घरों -दुकानों को नुकसान, एनएच- 5 बंद

नूरपुर : डन्नी के खड़ेतर में बढ़ा खतरा, डैम का मुंह टूटने से तेज हुआ पानी का बहाव

मणिमहेश से लौट रहे नगरोटा के श्रद्धालुओं का वाहन खाई में गिरा

परघांला में पुलिया बहने से मणिमहेश यात्रा अवरुद्ध, भरमौर-हड़सर मार्ग बाधित

चार बच्चों के साथ ट्रेन के सामने कूदी महिला, तीन की मौत, 3 साल की बच्ची गंभीर

ऊनाः ट्रेन से कटकर दो की मौत, एक की हुई पहचान-दूसरे की नहीं

मुकेश बोलेः गैर हिमाचली चौकड़ी तैयार कर रही मास्टर प्लान, कांग्रेस करेगी जन आंदोलन

ट्रक और बाइक की टक्कर, मणिमहेश से लौट रहे एक युवक की मौत

हिमाचल में कांस्टेबल के 92 पद भरने के लिए आज से आवेदन शुरू, यहां देखें

वीरभद्र बोलेः छोड़ दें एक-दूसरे की टांग खींचना, एक सोच-एक संघर्ष से करें काम

नूरपुरः गहरी खाई में गिरा ट्रक, चालक की मौत-परिचालक टांडा रेफर

जानिए-जम्मू और वापस भरमाड़ कैसे पहुंचे फतेहपुर से लापता लड़के

बिलासपुर के जवान को सैनिक सम्मान के साथ दी अंतिम विदाई

अरुण जेटली के निधन पर हिमाचल में दो दिन का राजकीय शोक

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है