Covid-19 Update

13707
मामले (हिमाचल)
9661
मरीज ठीक हुए
153
मौत
5,908,748
मामले (भारत)
32,784,889
मामले (दुनिया)

वो अपना साहब खुद है, मन करता है तो काम, नहीं तो आराम

वो अपना साहब खुद है, मन करता है तो काम, नहीं तो आराम

- Advertisement -

हमारे पास अपनी जमीन है, पानी भी है इसलिए पुश्तैनी से खेती करते आए हैं। और मैं ज्यादा पढ़ा-लिखा भी तो नहीं हूं फिर काम के लिए बजाए इधर-उधर दौड़ने के जिमिदारा करने लगा। गांव की जिन्दगी सबसे बढ़िया होती है साब जी! खेती के काम में किसान अपना साहब खुद होता है, जब काम करने का मन हो काम करो, आराम करने का मन हो आराम करो। इसमें हमारे ऊपर कोई दूसरा साहब नहीं होता सरकारी नौकरी (Government Job) की तरह! फिर एक उल्लास भरी हंसी भोपाल सिंह के चेहरे पर उभर के आती है। बसन्तपुर विकास खण्ड की सुन्नी तहसील के ठेला गांव का यह समृद्ध किसान अपने किसानी कार्यों को करता हुआ गौरवान्वित अनुभव कर रहा था।


ये भी पढे़ं – अब मिलेगी किन्नौर के चिलगोजा व स्पीति के सीबकथॉर्न को नई पहचान

 

कमाई तो दूर की कौड़ी थी

पूर्व की स्मृतियों में खोते हुए भोपाल सिंह ने बताया कि पहले पुराने तरीके से 10 बीघा जमीन पर खेती किया करते थे, तो पूरा नहीं पड़ता था। बस परिवार की आई-चलाई में ही सब कुछ खप जाता था। कमाई तो दूर की कौड़ी थी। कच्चा मकान था, खेतों में दिन-भर मियां-बीबी खपे रहते थे, की परिवार का पालन-पोषण हो, बस यही एक सपना था! अन्नायास ही भोपाल सिंह कह उठता है साहब जी बेटी तो बचा ली पर पढ़ाएंगे कैसे यही चिंता मन में रहती थी। लेकिन लाल किले की प्राचीर से पीएम नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) द्वारा बोले वह शब्द आज भी कानों में संदेश की तरह गूंजता है कि जिस दिन देश का किसान ऊपर उठ गया उस दिन देश खुद व खुद ऊपर उठ जाएगा यही विचार मन और शरीर में ताकत पैदा कर हमें जमीन और जमीदारी से जोड़ने में कामयाब रहा तब बच्चों की पढ़ाई को जारी रखने के लिए पैसे की जरूरत थी।

 

 

कार्य क्षमता को बढ़ाया और फसल में वृद्धि होने लगी

वर्ष, 2016 जनवरी माह में दूरदर्शन (Doordarshan) के राष्ट्रीय चैनल पर प्रधानमंत्री ग्रामीण सिंचाई योजना के संबंध में कार्यक्रम देखा तो काफी प्रभावित हुआ। अब मन में बेटी को बचाने के साथ-साथ बेटी को पढ़ाने की भी आस बंधी। मैं ब्लॉक में बागवानी विभाग के अधिकारी डॉ प्रदीप कुमार हिमराल के पास गया, उन्होंने न केवल मेरा मार्गदर्शन किया बल्कि प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के माध्यम से मैं उन्नत कृषि कर अपनी आर्थिकी को सुदृढ़ करने में किस प्रकार सक्षम हो सकता हूं, इसके बारे में जानकारी भी दी। वर्ष 2016 में छोटी fस्ंप्रकलर प्रणाली खेतों में स्थापित की जो 1 लाख 24 हजार 618 रुपये की लागत की थी, जिसमें से 99 हजार 693 रुपये सरकार द्वारा प्रदान किए गए। जो कि पिता जी के नाम का था। पहले 10 बीघा खेतों को सींचने में 5/6 दिन का समय लगता था। अब 6 बीघा खेत को सींचने मे 4 घण्टे लगने लगे। पानी की भी बचत हुई, अब बचे हुए समय को खेती के साथ-साथ पशु पालन में लगाने लगा। समय की बचत ने कार्य क्षमता को बढ़ाया और फसल में वृद्धि होने लगी।

 

 

प्रति वर्ष डेढ़ लाख रुपये से अधिक की आमदन होने लगी

पहले जहां एक बीगे में प्रति वर्ष 30 हजार रुपये की आमदन होती थी अब वहां प्रति वर्ष डेढ़ लाख रुपये से अधिक की आमदन होने लगी। कहां तो साल में केवल एक लाख 80 हजार रुपये कुल प्राप्त होते थे और कहां अब साल के 9 लाख रुपये की आमदन होने लगी। आय बढ़ी तो बेटियों की उच्च शिक्षा के लिए शिमला के बड़े कॉलेज सेंट बीड्स (St. Beads College) में दाखिला करवाया फिर हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से उन्हें एमएससी तक की शिक्षा पूर्ण करवाने में सफल रहा। इस दौरान बेटा भी होटल मैनेजमेंट का कोर्स कर चुका था और पर्यटन उद्याोग के तहत अच्छे होटल में कार्य कर रहा था।

 

 

आमदनी बढ़ी, मुर्रा नस्ल का भैंसा खरीदा

भोपाल सिंह बोला लोगों की आमदनी बढ़ती है तो वह आंगन में गाड़ी खड़ी कर लेते हैं, गाड़ी सजाने में गर्व महसूस करते है और पशु खड़े करने में शर्म, बात भी ठीक है साब! गाड़ी की किस्त देना आसान है पर पशु को घास करना आसान नहीं है। मेरे पूछने पर की भोपाल सिंह जी आपने फिर भी आंगन में पशु खड़े किए क्यों? भोपाल सिंह बोले वह किसान क्या जिसके आंगन में पशु न हो। मेरी आमदनी बढ़ी और मैंने उन्नत किस्म की मुर्रा नस्ल का भैंसा खरीदा। इस क्षेत्र में पशु कम (4 से 5 लीटर) दूध देते थे। मैंने मुर्रा नस्ल के बारे में सुन रखा था। यह हरियाणा पंजाब की देसी भैंस नस्ल है, जिसकी अच्छी परवरिश हो तो 70 से 80 लाख की कीमत में बिकते हैं। मैंने 1 लाख में मुर्रा भैंसा खरीदा था। उसकी संकर नस्ल से पैदा भैंस अब अच्छा दूध देती है। इस क्षेत्र में अन्य किसानों की भी संकर नस्ल से पशु तैयार किए। आज मेरा परिवार दूध व संकर नस्ल तैयार करके लगभग ढाई लाख रुपये से अधिक की अतिरिक्त आय प्राप्त कर रहा है।

आधुनिक खेती के तरीकों को अपनाया

कृषि भी एक प्रकार का प्रबंधन है। यदि आपको इसमें सफलता पानी है तो एक कुशल कृषि प्रबंधक होना आवश्यक है। अपने आप को कम पढ़ा-लिखा कहने वाले भोपाल सिंह ने शायद अंजाने में ही प्रबंधन विषय का बहुत बड़ा वकतव्य दे दिया था। उसने कहा एक ही फसल पर निर्भर न रहो। अलग-अलग समय में अलग-अलग फसलें बौते रहो इससे आमदनी भी बनी रहती है और खेती की मिट्टी की उर्वरता भी बढ़ती है। मेरी आमदनी (Earnings) बढ़ी तो मैंने सबसे पहले आधुनिक उपकरण और औजार खरीदे, जिसमें पावर टिल्लर, सीड ड्रिल, कल्टीवेटर, चैप कट्टर, ब्रश कट्टर आदि सभी मशीनों का संग्रहण किया और आधुनिक खेती के तरीकों को अपनाया और अपनी आर्थिकी को बढ़ाया। आज मुझे यह कहते हुए फक्र हो रहा है कि मेरी एक बिटिया शिमला के प्रतिष्ठित स्कूल में कैमेस्ट्रिी की लैक्चरार है तथा दूसरी बिटिया एमएससी करने के उपरांत बैंकिंग क्षेत्र में सेवाएं प्राप्त करने के लिए प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कर रही है। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाआंs का मेरा स्वप्न पूरा हुआ। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत खेत में निरंतर फ्रासबिन, शिमला मिर्च, फूल गोभी, पता गोभी, मटर, टमाटर और प्याज की फसलों को निरंतर उगा रहा हूं। इसके अतिरिक्त हल्दी, लहसुन, आलू आदि की भी खेती समय-समय पर कर लिया करता हूं।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

अब तो पक्का मकान भी बन रहा है

भोपाल सिंह ने राज उगलते हुए खेत से दूर उंगली का इशारा कर कहा वो देखो अब तो पक्का मकान भी बन रहा है, लैंटर पा दिया है साब जी। खेत से अपनी पत्नी सुशीला को आवाज देते हुए शुनो चा बन गई सुशीला। तो हम आते हैं प्रतिउत्तर में बीबी का स्वर बना दी है चाय जल्दी आ जाओ। चाय की चुस्कियां लेते हुए भोपाल सिंह अपनी सफलता के हर पायदान के अंश को उन्नमुक्त कंठ से सांझा कर रहा था। कृषि, पशु पालन और सब्जी उत्पादन (Vegetable production) में मिले पुरस्कारों, जिसमें कृषि विभाग द्वारा वर्ष 2015 में खण्ड स्तर पर श्रेष्ठ किसान, पशु पालन विभाग द्वारा वर्ष 2017 में श्रेष्ठ पशु पालक और वर्ष 2019 में श्रेष्ठ सब्जी पालक और अन्य कई ट्रोफियां हमारे समक्ष सजाता गया।

अब तो हमने एसयूवी कार भी ले ली

बेटा आजकल कोरोना संकटकाल के दौरान शिमला में है और खेती-बाड़ी में हाथ बंटाता है। कामयाबी का एक बड़ा खुलासा करते हुए भोपाल सिंह बोला अब तो हमने एसयूवी कार भी ले ली है वो भी एक मुश्त नगद पैसे देकर, बच्चों की जिद थी जी अब पूरी तो करनी पड़ती है ना साब। हम उसके घर से बाहर आ गए थे। भोपाल सिंह हमें छोड़ने के लिए आया और अपनी सफलता की कहानी निरंतर बांचता रहा। दयोड़ी से आगे पहुंच कर पेड़ के पास भारयुक्त जीवन से भारमुक्त जीवन की यात्रा वृतांत का वर्णन करते हुए भोपाल सिंह वर्मा निश्चितता और संतोष का सहारा लेकर पेड़ से टेक लगाकर हाथ जोड़कर बैठ गया और ठंडी सांस लेकर बोला बस यही अपनी कहानी है साहब जी!

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Scholarship Scam: केसी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट के वाइस चेयरमैन सहित दो को सशर्त जमानत

बड़ी खबर: BJP चीफ बनने के 8 महीने बाद नड्डा ने बनाई अपनी टीम; एक भी हिमाचली नेता शामिल नहीं

PM Narendra Modi के प्रस्थान तक कुल्लू जिला के अधिकारियों-कर्मियों के पैरों में बेड़ियां

#Cabinet_Breaking: एक विभाग का बदला नाम, भरे जाएंगे ये पद-खुलेंगी ITI

लव जेहाद ,धर्मांतरण और गौ हत्या पर विहिप ने Jairam Govt को घेरा

पहले बाहर से मंगवाते थे किसान अनाज, अब पांच गुणा बढ़ गई अन्न की पैदावार

PM मोदी के हिमाचल दौरे की बड़ी अपडेट: रात को लाहुल-स्पीति में नहीं ठहरेंगे; उसी दिन होगी वापसी

सुकेत व्यापार मंडल के प्रदर्शन से पहले PWD ने उड़ती धूल पर किया पानी का छिड़काव

भरमौर में Accident: नाले में गिरी Pickup, युवक की मौके पर गई जान

मधुबनी के तालाब से मछलियों की जगह निकल रही है शराब की बोरियां

गंगा में मिली South America में पाई जाने वाली मछली, वैज्ञानिकों ने जाहिर की ये चिंता

साड़ी के साथ स्पोर्ट्स शूज पहनकर इस लड़की ने किया कमाल का डांस, देखिए Viral Video

पाक PM इमरान खान ने UN में उगला जहर: भारत को धमकाते हुए कहा- RSS को रोको वरना....

Himachal में अब पहली से आठवीं कक्षाओं की भी होंगी Online परीक्षाएं

#Mandi: बल्ह में पति ने शराब के नशे में पत्नी की डंडे से पीट-पीट कर दी हत्या

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

पहली से आठवीं कक्षाओं के छात्रों की ऑनलाइन परीक्षाओं की Datesheet जारी

#HPBose: डीईएलईडी पार्ट वन और टू का रिजल्ट आउट, कितने सफल, कितने असफल- जानिए

छात्र Online देख सकते हैं SOS की प्रेक्टिकल परीक्षा के अंक , feeding का भी विकल्प

D.El.Ed CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग में आधे अभ्यर्थी ही पात्र

#HPBose: SOS मैट्रिक व जमा दो कक्षाओं की प्रैक्टिकल परीक्षा की डेटशीट जारी

तकनीकी विवि में द्वितीय, चतुर्थ और छठे समेस्टर के छात्रों को किया जाएगा Promote

शिक्षकों-गैर शिक्षकों को स्कूल बुलाने के लिए Notification जारी, विभाग ने ये दिए निर्देश

#HPBose: बोर्ड की अनुपूरक परीक्षाओं से संबंधित जानकारी के लिए घुमाएं ये नंबर

D.El.Ed. CET -2020 की स्पोर्टस कोटे की काउंसिलिंग अब 17 को डाइट में होगी

#HPBose: बोर्ड ने D.El.Ed.CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथि की तय

#HPBose: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट- जानिए

Himachal के सरकारी स्कूलों में नौवीं से 12वीं के #OnlineExam आज से शुरू

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी की काउंसलिंग स्थगित- जाने कारण

#HPBose_ Dharamshala: बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट, वेबसाइट में देखें

बड़ी खबर: हिमाचल में सितंबर के बाद स्कूल खुलने के संकेत; छात्रों के #Syllabus को लेकर भी बड़ा फैसला



×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है