Covid-19 Update

4,23,697
मामले (हिमाचल)
33,880
मरीज ठीक हुए
685
मौत
9,556,881
मामले (भारत)
65,117,664
मामले (दुनिया)

वीरभद्र बोले, Bindal का इस्तीफा BJP की अंतर्कलह से ध्यान हटाने मात्र का एक असफ़ल प्रयास

वीरभद्र बोले, Bindal का इस्तीफा BJP की अंतर्कलह से ध्यान हटाने मात्र का एक असफ़ल प्रयास

- Advertisement -

शिमला। स्वास्थ्य विभाग में लेन-देन के ऑडियो क्लिप (Audio Clip) के सामने आने के बाद बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष पद से डॉ. राजीव बिंदल (Dr. Rajeev Bindal) के इस्तीफे ने विपक्ष को बैठे-बिठाए एक मुद्दा थमा दिया है। इसी के चलते पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह (Ex CM Virbhadra Singh) ने भी एक बयान जारी कर कहा है कि कोविड-19 जैसे संकट के बीच रिश्वत लेने के आरोप में स्वास्थ्य निदेशक की गिरफ्तारी से साफ है कि इसके तार सीधे बीजेपी के बड़े नेताओं से जुड़े है। उन्होंने कहा है कि बिंदल का इस्तीफा , असल में बीजेपी (BJP) के भीतर जो अंतर्कलह चल रही है, उससे लोगों का ध्यान हटाने मात्र का एक असफ़ल प्रयास है। वीरभद्र सिंह ने कहा है कि स्वास्थ्य विभाग में कोरोना किट्स,वेंटिलेटर, मास्क,सैनिटाइजर और पीपीई जैसे आवश्यक उपकरणों की आपूर्ति को लेकर रिश्वत और प्रदेश सचिवालय में सैनिटाइजर की आपूर्ति घोटाले ने बीजेपी की ईमानदारी की पूरी पोल खोल दी है।

जयराम मामले की जांच सिटिंग जज से करवाएं

पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा कि उनके 60 साल के राजनीतिक करियर में उन्होंने कभी कोई ऐसा दौर नहीं देखा जब ऐसी विपदा के समय कोई राजनीतिक दल संगीन भ्रष्टाचार (Serious corruption) के आरोप में संलिप्त पाए जाए। उन्होंने कहा है कि सरकार प्रदेश की चुनौतियों से निपटने में पूरी तरह असफल साबित हो रही है। लोगों को राहत देने की जगह महंगाई परोसी जा रही है। किसानों, बागवानों के साथ साथ आम लोगों की समस्याओं की ओर सरकार का कोई भी ध्यान नही है। सरकार पूरी तरह से संवेदनहीन नज़र आ रही है, जो दुर्भाग्यपूर्ण है। वीरभद्र सिंह ने कहा है कि स्वास्थ्य विभाग से जुड़े इस रिश्वत मामले की निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए। उन्होंने कहा है कि चूंकि यह विभाग सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) के पास है इसलिए इसकी संवेदनशीलता ओर भी बढ़ जाती है। सीएम को इसकी पूरी जांच किसी सिटिंग जज से करवानी चाहिए।

जनहित के सुझाव पर सरकार खामोश

वीरभद्र सिंह ने कहा है कि कांग्रेस ने प्रदेश सरकार को जो जनहित के सुझाव दिए थे, उस पर भी सरकार आज दिन तक खामोश बैठी है।उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस (Congress) और बीजेपी के विधायकों ने इसकी चर्चा के लिए विशेष विधानसभा सत्र बुलाने की बात कही तो बीजेपी अध्यक्ष को यह भी गंवारा नहीं लगा। साफ है कि बीजेपी और सरकार के भीतर कोई टकराव चल रहा है। उन्होंने कहा है कि उसके अंदर कुछ भी चले, यह उसका अंदरूनी मसला है पर इसमें प्रदेश के लोग नही पिसे जाने चाहिए। कांग्रेस इसे कभी भी सहन नही करेगी।

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है