चंडीगढ़-मनाली एनएच पर खतरा बढ़ा, तीन परिवार हुए बेघर, गौशालाओं में रहने को मजबूर लोग

डीसी ने दिए सेंसर और फ्लड लाइट्स लगाने के निर्देश

चंडीगढ़-मनाली एनएच पर खतरा बढ़ा, तीन परिवार हुए बेघर, गौशालाओं में रहने को मजबूर लोग

- Advertisement -

मंडी। चंडीगढ़-मनाली नेशनल हाईवे पर डयोड़ के पास हो रहे हल्के भूस्खलन ने तीन परिवारों से उनका आशियाना छीन लिया है। डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर ने मौके पर पहुंच कर जिला प्रशासन को सेंसर और फ्लड लाइट्स लगाने के निर्देश दिए हैं ताकि यहां मौजूद खतरे को भांपा जा सके। डयोड़ के पास पहाड़ी में बड़ी-बड़ी दरारें आ गई हैं और पहाड़ी के दरकने से तबाही मचने की आशंका बनी हुई है।


 

यह भी पढ़ें: कुल्लू: बसें न मिलने से परेशान छात्र 15 किमी पैदल सफर कर पहुंचे डीसी ऑफिस, किया प्रदर्शन

 

फोरलेन निर्माण (Four lane construction) के लिए की जा रही कटिंग के कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई है। कटिंग के बाद पहाड़ी की पकड़ ढीली हो गई जिस कारण हल्की बारिश में ही पहाड़ी खिसकने लग गई। वहीं पहाड़ी दरकने के कारण इसके उपर रह रहे तीन परिवारों के 21 सदस्य घर से बेघर हो गए हैं।

लोगों ने प्रशासन के आदेशों के बाद अपने घरों को खाली कर दिया है और गौशालाओं में शरण ले ली है। गौशाला (cowshed) में एक तरफ पशु बंधे हैं और दूसरी तरफ इंसान रह रहे हैं। तीन घरों में बड़ी-बड़ी दरारें आ गई हैं और जमीन पर भी चौड़ी दरारें गांव के लोगों को डरा रही हैं। यदि यह मलबा गिरता है तो फिर इन तीन परिवारों के साथ सड़क से नीचे की तरफ रह रहे लोगों को भी भारी नुकसान (huge loss) झेलना पड़ सकता है। प्रभावित गुलजार, रफीक और रजिया ने बताया कि उन्हें डर के साए में रातें काटनी पड़ रही हैं। इन्होंने प्रशासन व सरकार से इनके रहने की उचित व्यवस्था करने की गुहार लगाई है।

वहीं, मामले की गंभीरता को देखते हुए डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर पूरे दलबल के साथ मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। उनके साथ एएसपी मंडी पुनीत रघु और एसडीएम सदर सन्नी शर्मा सहित आईआईटी के विशेषज्ञ भी मौजूद रहे। डीसी मंडी (DC mandi) ने तीनों परिवारों के पास जाकर उनसे बात की और उनकी स्थिति को जाना।

डीसी ने मौके पर सेंसर और फ्लड लाइट्स लगाने के निर्देश दिए। ऋग्वेद ठाकुर ने बताया कि यदि पहाड़ी खिसकने लगेगी तो सेंसर इसकी चेतावनी पहले ही दे देंगे और फ्लड लाइट्स (Flood Lights) रात के समय निगरानी के लिए काम आएंगी। उन्होंने बताया कि प्रभावित परिवारों को अस्थाई शेड बनाकर दिए जाएंगे ताकि वह वहां पर सुरक्षित रह सकें। वहीं पुलिस को भी मौके पर 24 घंटे तैनात रहने के निर्देश दे दिए गए हैं।

इस पूरे मामले से इलाके में तो दहशत है ही साथ ही यहां से गुजरने वाले वाहन चालक भी खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं। प्रशासन के लिए सड़क को बंद कर पाना भी संभव नहीं क्योंकि मनाली के लिए यही एक सड़क है जहां से सारे टूरिस्ट आ-जा रहे हैं। फिलहाल स्थाई समाधान नजर नहीं आ रहा और प्रशासन के लिए यह एक चुनौती बनता जा रहा है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

कड़ी सुरक्षा के बीच श्रीनगर में खुले स्कूल, सुरक्षाबल चप्पे-चप्पे पर तैनात

हमीरपुर में भारी बारिश का कहर : हिमुडा कालोनी के नाले में बाढ़, लोग फंसे

बस और ट्रक में जोरदार टक्कर, 11 की मौत, 15 घायल

पांवटा साहिब : उफनती यमुना में शहर के कारोबारी ने लगाई छलांग, अभी कोई सुराग नहीं

मानसून सत्र आज से , सत्तापक्ष को घेरने के लिए विपक्ष तैयार

शिक्षण संस्थानों में छुट्टी को लेकर क्या बोले डीसी कांगड़ा और मंडी-जानिए

हिमाचल में 23 की मौत, शिमला और सोलन में 15 की गई जान-887 सड़कें बंद

रामपुर में बेकाबू ट्रक ने रौंदे दो बच्चे, नारकंडा में मकान पर गिरा पेड़- तीन की मौत

बारिश के चलते अब बिलासपुर में भी बंद रहेंगे शिक्षण संस्थान

देहराः टिप्पर ने एक स्कूटी को पीछे से मारी टक्कर-एक को रौंदा, मां-बेटे की मौत

चंडीगढ़-मनाली एनएच बहाली को करना होगा लंबा इंतजार, कब तक- जानिए

कुल्लू की महिला नेत्री के वीडियो वायरल मामले में मंडी के दो लोग गिरफ्तार

इक्डोलः 19 को होनी वाली बीएड काउंसलिंग की तिथि में फेरबदल, जानिए कब अब होगी

हिमाचल में बारिश से मिले 490 करोड़ के जख्म, 20 से अधिक की गई जानें

रेल सेवा पर बारिश का असर, सभी ट्रेनें रद्द-नंगल में रोकी जनशताब्दी

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है