Covid-19 Update

37,497
मामले (हिमाचल)
28,993
मरीज ठीक हुए
589
मौत
9,291,068
मामले (भारत)
61,032,383
मामले (दुनिया)

Mandi Gurudwara विवादः SGPC का दखल, बुलाया General House, एक गुट ने किया किनारा

Mandi Gurudwara विवादः SGPC का दखल, बुलाया General House, एक गुट ने किया किनारा

- Advertisement -

मंडी। गुरुद्वारा में प्रबंधन को लेकर चल रहे विवाद में एसजीपीसी ने दखल अंदाजी की है। एसपीजीसी के सदस्य दलजीत सिंह भिंडर ने गुरुद्वारे में आकर प्रस्ताव पारित करवाया है कि अब गुरुद्वारे का संचालन एसजीपीसी की देखरेख में संत बाबा लाभ सिंह करेंगे। जबकि, दूसरे गुट ने इस जनरल हाउस से किनारा रखा। दूसरे गुट का कहना है कि जनरल हाउस में बाहरी लोगों की भीड़ बुलाई गई थी।

बता दें कि रविवार को दिन भर मंडी के ऐतिहासिक गुरुद्वारा श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज में माहौल तनावपूर्ण बना रहा। गुरुद्वारे के प्रबंधन को लेकर दो गुटों में उपजे विवाद के बीच रविवार को शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी की दखल अंदाजी भी साफ तौर पर देखने को मिली। हालांकि यह गुरुद्वारा एसजीपीसी के तहत नहीं आता, लेकिन एसजीपीसी का कहना है कि यहां के लोगों की गुरुद्वारा प्रबंधन को लेकर जो शिकायतें उनके पास आई थीं, उसके बाद उन्हें यहां आना पड़ा।

दोनों गुटों के लोगों के साथ हुई बातचीत पर नहीं निकला निष्कर्ष

हालांकि विवाद सुलझा नहीं है। रविवार को गुरुद्वारा परिसर में दोनों गुटों के लोगों के साथ एसजीपीसी, प्रशासन और पुलिस की मौजूदगी में वार्ता हुई, लेकिन कोई निष्कर्ष नहीं निकला। वहीं, एसजीपीसी की तरफ से आए सदस्य दलजीत सिंह भिंडर ने गुरुद्वारा परिसर के बाहर एक गुट के लोगों के साथ बैठकर जनरल हाउस बुला और उसमें प्रस्ताव पारित करवाया कि अब गुरुद्वारे का संचालन एसजीपीसी की देखरेख में संत बाबा लाभ सिंह जी आनंदपुर वाले करेंगे।

मीडिया से बात करते हुए हुए दलजीत सिंह भिंडर ने बताया कि उन्होंने माइक पर सभी को जनरल हाउस में आने के लिए कहा और व्यक्तिगत रूप से भी बात की। हाउस में मौजूद संख्याबल के आधार पर सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि एसजीपीसी समय-समय पर गुरुद्वारे की देखरेख के लिए आती रहेगी। इस प्रस्ताव की एक कापी कोर्ट में भी जमा करवाई जाएगी, क्योंकि यह मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है।

दूसरे गुट ने जनरल हाउस में हुए प्रस्ताव को सिरे से खारिज किया

वहीं, दूसरे गुट ने जनरल हाउस में हुए प्रस्ताव को सिरे से खारिज कर दिया है। यह वो गुट है, जिसके पास मौजूदा समय में गुरुद्वारा प्रबंधन की कमान है। इस गुट के प्रधान सरदार भगवंत सिंह है। इनका कहना है कि एसजीपीसी के सदस्य अपने साथ 200 लोगों को गुमराह करके लेकर आए थे। लोगों को गुरुद्वारे में सेवा के नाम पर लाया गया और संख्याबल दर्शाने के लिए उन्हें जरनल हाउस में बैठाया गया। इनका कहना है कि जनरल हाउस में मंडी के नाममात्र के लोग भी शामिल नहीं हुए।

भगवंत सिंह ने स्पष्ट कहा कि गुरुद्वारे की देखरेख उनकी कमेटी ही करेगी और इन्होंने प्रशासन से बाहरी लोगों के हस्तक्षेप पर रोक लगाने की गुहार लगाई है। शाम को प्रस्ताव पारित होने के बाद जब आए हुए लोग अपने घरों की तरफ चले गए तो उसके बाद माहौल शांत हो पाया। वहीं, भारी संख्या में पुलिस बल गुरुद्वारा परिसर में डटा रहा और हर स्थिति पर अपनी नजर बनाए रखी। बता दें कि यह मामला कोर्ट में विचाराधीन है और कोर्ट के फैसले का सभी को इंतजार है, जिसके बाद ही यह तय हो पाएगा कि गुरुद्वारा प्रबंधन की सरदारी किसे मिलती है।

क्या है पूरा विवाद

मंडी में सिक्खों के दसवें गुरु श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज का ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। लंबे समय से इस गुरुद्वारे का संचालन संत बाबा लाभ सिंह जी आनंदपुर वालों के पास था। गत वर्ष मंडी की गुरु की फौज सेवक सोसायटी ने इसकी कमान अपने हाथों में ले ली। इसके बाद ही यह सारा विवाद उपजा। पहले जो कमेटी गुरुद्वारे का संचालन देख रही थी, वह कोर्ट चली गई है और अभी यह मामला कोर्ट में विचाराधीन है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है