Story in Audio

Story in Audio

शिमला से मेरठ शिफ्ट नहीं होगा आरट्रैक , रक्षा मंत्री ने धूमल को पत्र लिख किया स्पष्ट

प्रेम कुमार धूमल के पत्र का जवाब देकर राजनाथ ने चर्चाओं पर लगाया विराम

शिमला से मेरठ शिफ्ट नहीं होगा आरट्रैक , रक्षा मंत्री ने धूमल को पत्र लिख किया स्पष्ट

- Advertisement -

हमीरपुर। आर्मी ट्रेनिंग कमांड ( आरट्रैक) हैडक्वार्टर शिमला से मेरठ स्थानातंरित करने की चर्चाओं पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ( Defence Minister Rajnath Singh)ने विराम लगा दिया है। पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल( Former CM Prem Kumar Dhumal) के पत्र का जबाव देते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि इस तरह का कोई भी प्रपोजल मंत्रालय के पास नहीं आया है। यह केवल भ्रम की बात है। इसलिए आरट्रैक को शिमला से मेरठ में स्थानांतरित करने की बात झूठी है।



यह भी पढ़ें: मुख्य न्यायाधीश सुब्रमण्यन 17 मील में लगाया देवदार का पौधा

 

पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि कुछ समय पहले इस बात की चर्चा सामने आई थी कि आरट्रैक ( ARTRAC)को मेरठ शिफ्ट किया जाना है। जिस पर उन्होंने केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को 21 जून को पत्र लिख कर सारी बात बताई थी। जिसके बाद 31 जुलाई को रक्षा मंत्रालय ( Ministry of Defence)की ओर से जबाव आया है, जिसमें ऐसी कोई भी कार्रवाई न करने की बात कही गई है।

धूमल ने केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह का आभार जताते हुए कहा कि 21 जून को लिखे गए पत्र का जवाब जल्द देने के बाद सारी स्थिति साफ हो गई है और आरट्रैक को शिमला से मेरठ नहीं बदला जाएगा। इससे पहले कांग्रेस के नेताओं ने भी आरट्रैक को शिमला से मेरठ शिफ्ट न करने के लिए रक्षा मंत्रालय से आग्रह किया था। हिमाचल कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा था। आज राठौर के राजनीतिक सचिव हरि कृष्ण हिमराल ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के उस बयान का स्वागत किया है


आरट्रैक का इतिहास

आरट्रैक का गठन एक अक्टूबर 1991 को किया गया था। उस समय इसकी स्थापना मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के महू में की गई थी। 31 मार्च, 1993 को इसे शिमला शिफ्ट कर दिया, तबसे वर्तमान तक आरट्रैक शिमला में ही कार्य कर रहा है। इसका मुख्य कार्य जवानों की ट्रेनिंग को अधिक प्रभावशाली बनाना और सेना प्रशिक्षण और युद्ध से जुड़ी विभिन्न नीतियां बनाना है। आरट्रैक की स्थापना से पहले इस ऐतिहासिक भवन में 1864 से 1939 तक भारतीय सेना का मुख्यालय रहा।

प्रथम और द्वितीय विश्व युद्ध (First and Second World War) के दौरान सभी ऑपरेशनों की योजना और संचालन यहीं से हुआ। 1947 में स्वतंत्रता के बाद भारतीय सेना की पश्चिमी कमान बनाई गई और उसका मुख्यालय 1954 से 1985 तक यहीं रहा। 1965 और 1971 के भारत-पाक युद्धों की योजना और संचालन यहीं से हुआ।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

शिवरात्रि महोत्सव में ड्यूटी के दौरान लापरवाही पर SI व हेड कांस्टेबल सस्पेंड

गोविंद बोले- गरीबों के लिए चलाईं कई योजनाएं, Excise Policy भी जनता हित में लिया फैसला

ढली के जंगल में मिला मानव कंकाल, जंगल से गुजर रहीं महिलाओं ने देखा

आसमानी बिजली का कहर, Temple का गुंबद गिरा, पेड़ों-भवनों को भी नुकसान

बर्फ के आगोश में Sirmaur, शिवभक्त नहीं कर पाए शिरगुल महाराज के दर्शन-5 बसें भी फंसी

लेह-मनाली नेशनल हाइवे पर बना देश का पहला Ice cafe, जाना चाहेंगे आप

बड़ी खबरः लेक्चरर स्कूल न्यू Hindi का पेपर रद्द, यह रहा कारण

विवादों में आने के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया नसबंदी का Circular

Pakistan की एक शादी में शरीक होने पहुंचे शत्रुघ्न सिन्हा, देखें वायरल वीडियो

Mata Baglamukhi Temple का सरकारीकरण इसलिए नामुमकिन, जानने के लिए पढ़ें रपट - देखें Video

Donald trump के भारत दौरे के पहले Congress ने उठाए सवाल, पूछा- किसके कहने पर आ रहे हैं?

Doctor की अनुपस्थिति में मानसिक रोगी ने कर डाला मरीजों का 'इलाज', ऐसे हुआ मामले का खुलासा

Women's T-20 WC :ऑस्ट्रेलिया ने जीता टॉस, बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया

SBI का अलर्ट : 28 फरवरी तक नहीं करवाया ये काम तो बंद हो जाएगा खाता

एक बार फिर मां बनीं  Shilpa shetty, घर आई नन्ही परी, नाम रखा समीषा  

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

विज्ञान विषयः अध्याय-10... प्रकाश-परावर्तन तथा अपवर्तन

Students के लिए अब आसान होगी केलकुलेशन, शिक्षा बोर्ड करेगा कुछ ऐसा

विज्ञान विषयः अध्याय-9......... अनुवंशिकता एवं जैव विकास

विज्ञान विषयः अध्याय-8......... जीव जनन कैसे करते हैं?

इस बार दो लाख 17 हजार 555 छात्र देंगे बोर्ड परीक्षाएं, 15 से Practical

शिक्षा बोर्डः 10वीं और 12वीं के Admit Card अपलोड, फोन नंबर भी जारी

ब्रेकिंगः HP Board ने इस शुल्क में की कटौती, 300 से 150 किया

विज्ञान विषयः अध्याय-7......... नियंत्रण एवं समन्वय

विज्ञान विषयः अध्याय-6......... जैव प्रक्रम

बोर्ड इन छात्रों को पेपर हल करने के लिए एक घंटा देगा अतिरिक्त, डेटशीट जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-5......... तत्वों का आवर्त वर्गीकरण

बोर्ड एग्जाम में आएंगे अच्छे मार्क्स,  बस फॉलो करें ये ख़ास टिप्स

विज्ञान विषयः अध्याय-4… कार्बन और इसके घटक

Breaking: ग्रीष्मकालीन स्कूलों की 9वीं और 11वीं वार्षिक परीक्षा की Date Sheet जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-3 ……धातु एवं अधातु


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है