Covid-19 Update

2,22,890
मामले (हिमाचल)
2,17,495
मरीज ठीक हुए
3,721
मौत
34,200,957
मामले (भारत)
244,634,716
मामले (दुनिया)

हिमाचल की इस विधायक ने आलाकमान को पहले ही दी थी चेतावनी , कहा था- सिद्धू एक जगह टिक कर खेलने वालों में से नहीं

इधर, पंजाब कैबिनेट के दो मंत्रियों ने दिया इस्तीफा

हिमाचल की इस विधायक ने आलाकमान को पहले ही दी थी चेतावनी , कहा था- सिद्धू एक जगह टिक कर खेलने वालों में से नहीं

- Advertisement -

शिमला। सियासत की बिसात पर आज कांग्रेस (Congress) अपने ही मोहरों से घिर गई है। सबको लगा कि कांग्रेस आलाकमान ने चंडीगढ़ में कैप्टन से इस्तीफा लेकर सियासी घटनाक्रम का पटाक्षेप कर लिया है, लेकिन कहानी बीते चंद दिनों में 180 डिग्री के कांटे पर घूम गई।

कैप्टन को निपटाने के बाद चन्नी जब सीएम बने, तो नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को सबने सुपर सीएम कहा। फेरबदल के कुछ ही दिनों बाद पूर्व भारतीय टीम के खब्बू बल्लेबाज ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा देकर सेल्फ डिक्लेयर कर लिया कि वे समझौता नहीं करेंगे। हालांकि, उनकी रणनीति को लेकर कैप्टन अमरिंदर सहित और पूर्व पंजाब प्रभारी व कांग्रेसी विधायक आशा कुमार ने पहले ही पार्टी आलाकमान को चेतावनी दे दी थी।

यह भी पढ़ें:हिमाचल के पड़ोसी राज्य फिर उठा सियासी बवाल, नवजोत का ये कदम कांग्रेस की लुटिया डूबोएगा!

घमासान के बीच आशा कुमार की हुई थी विदाई

पॉलिटिकल पंडित कहते हैं कि जब आशा कुमारी को पंजाब कांग्रेस का प्रभारी बनाया गया था, तभी से नवजोत सिंह सिद्धू हिमाचल के डलहौजी से विधायक आशा कुमारी से खफा थे। कहा जाता है कि आशा कुमारी कैप्टन अमरिंदर सिंह के खेमे से आती थी, जिसकी खिलाफत नवजोत सिंह सिद्धू ने हाईकमान के सामने की थी। नवजोत को प्रियंका गांधी और राहुल गांधी के करीब होने का फायदा मिला। इधर, आशा कुमारी की पंजाब कांग्रेस प्रभारी के पद से विदाई तय हो गई। हालांकि, सूत्रों का कहना है कि अपनी रूखसती से पहले उन्होंने भी पार्टी आलाकमान को नवजोत सिंह को लेकर चेताया था।

वहीं, इस दौरान सिद्धू पंजाब की सियासी पिच पर लगातार ऐसी बैटिंग कर रहे थे कि आलाकमान को बीते चार महीनों ने तीन बार विधायकों को बैठक बुलानी पड़ी। प्रेशर पॉलिटिक्स में कैप्टन ने मात खाई और कुर्सी उनके हाथों से चली गई। लेकिन तब भी उन्होंने सियासी जंग में नवजोत के खिलाफ अपने हथियार नहीं डाले। उन्होंने आज ट्वीट कर कहा, ‘मैंने पहले ही कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू एक जगह टिकने वालों में से नहीं है। और वह पंजाब जैसे बॉर्डर राज्य के लिए उपयुक्त राजनेता भी नहीं है।’ वहीं, ताजा जानकारी के मुताबिक परगट सिंह और रजिया सुल्ताना ने इस्तीफा दे दिया है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

 

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है