Covid-19 Update

58,879
मामले (हिमाचल)
57,406
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,173,761
मामले (भारत)
116,220,912
मामले (दुनिया)

बागियों पर कार्रवाई को Congress ने दिखाई तेजी, BJP अभी भी Wait and Watch की स्थिति में

बागियों पर कार्रवाई को Congress ने दिखाई तेजी, BJP अभी भी Wait and Watch की स्थिति में

- Advertisement -

पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवारों के खिलाफ काम करने के आरोप में 30 को किया निष्कासित

शिमला। प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान हो गया है, लेकिन राजनीतिक दलों में राजनीति जारी है। पहले टिकटों को लेकर उठापटक और अब चुनाव प्रचार में खिलाफत करने पर पार्टी से बाहर करने का क्रम शुरू हो गया है। हालांकि इसमें बीजेपी ने अभी सख्त कार्रवाई नहीं की है, लेकिन कांग्रेस ने इसमें ज्यादा तेजी दिखाई है। कांग्रेस ने सात विधानसभा हलकों में चुनाव के दौरान पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवार के खिलाफ काम करने के आरोप में 30 लोगों को निष्कासित किया है। कांग्रेस ने कुछ चुनिंदा स्थानों पर अनुशासन की कार्रवाई की है और ऐसा उन हलकों से उतरे प्रत्याशियों की शिकायत पर किया गया है। कांग्रेस में सबसे ज्यादा निष्कासन का काम शिमला शहर में हुआ है। यहां पर कांग्रेस में टिकट आवंटन के बाद कार्यकर्ताओं में भारी रोष पनप गया था और टिकट के सशक्त दावेदार हरीश जनार्था की जगह पूर्व विधायक हरभजन सिंह भज्जी को उम्मीदवार बनाया गया था।

इससे खफा शिमला शहर में खुली बगावत हो गई थी और पार्टी का बड़ा हिस्सा हरीश जनार्था के साथ खड़ा हो गया था। कार्यकर्ताओं के दबाव के बीच जनार्था ने भी निर्दलीय ताल ठोक दी थी और उनके नामांकन भरने के बाद मान-मनौव्वल के प्रयास हुए, लेकिन कोई बात नहीं बनी और फिर जनार्था को पार्टी से बाहर किया गया। इसके बाद पार्टी ने धीरे-धीरे लोगों को निकालना शुरू किया और यहां से 9 कार्यकर्ताओं को पार्टी से बाहर निकाला। इसमें रोचक बात यह रही है कि उन लोगों को पार्टी ने अंत में निकाला, जो नगर निगम के पार्षद थे। इन लोगों ने पार्टी से निकाले जाने के बाद शिमला शहरी कांग्रेस को ही कटघरे में खड़ा कर दिया था और यहां पर पार्टी के मौजूदा हालात के लिए पार्टी के पदों पर बैठे नेताओं को दोषी ठहराया।

वहीं, शिमला शहर के अलावा किसी अन्य पर उतनी तेजी से कार्रवाई नहीं की गई। ठियोग में मतदान से ठीक पहले टिकट के प्रबल दावेदार अतुल शर्मा पर कार्रवाई की गई और उन्होंने भी उलटे ठियोग से प्रत्याशी दीपक राठौर को ही कठघरे में खड़ा कर दिया। उधर, पार्टी ने कुछ दिन पहले ज्वालामुखी में 4, सरकाघाट, जसवां और हमीरपुर में एक-एक कार्यकर्ता को निष्कासित किया था। इसके बाद पार्टी ने कल ही धर्मशाला में 7, कुटलहड़ में 3 और जोगिंद्रनगर में 4 नेताओं व कार्यकर्ताओं को पार्टी से बाहर कर दिया। पार्टी के खिलाफ जाने पर कांग्रेस ने जिस तेजी से कार्रवाई की, उतनी सुस्ती इसमें बीजेपी दिखा रही है। पार्टी को वैसे कई हलकों से पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ कार्य करने की शिकायतें मिली हैं, लेकिन अभी तक किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इससे लगता है कि बीजेपी अभी वेट एंड वाच की स्थिति में है और वह कोई भी कार्रवाई करने से पहले पुख्ता सबूत हासिल करना चाहती है। ऐसे में बीजेपी कुछ दिनों में ऐसे कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई करेगी और इसके लिए वह चुनाव के परिणाम आने का भी इंतजार कर सकती है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है