Covid-19 Update

1,98,361
मामले (हिमाचल)
1,90,296
मरीज ठीक हुए
3,369
मौत
29,439,989
मामले (भारत)
176,417,357
मामले (दुनिया)
×

कर्मचारियों की मांग, पुरानी पेंशन योजना बहाल करे सरकार

कर्मचारियों की मांग, पुरानी पेंशन योजना बहाल करे सरकार

- Advertisement -

मंडी। हिमाचल प्रदेश अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ ने केंद्र और प्रदेश सरकार को ज्ञापन भेजकर कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना को बहाल करने की मांग उठाई है। वीरवार को महासंघ के प्रदेश महामंत्री एनआर ठाकुर के नेतृत्व में कर्मचारियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने एडीसी मंडी राघव शर्मा के माध्यम से पीएम और सीएम को इस संदर्भ में ज्ञापन भी भेजे। उन्होंने बताया कि यह ज्ञापन राष्ट्रीय राज्य कर्मचारी महासंघ के आह्वान पर कर्मचारियों की मांगों को लेकर देश भर से केंद्र और राज्य सरकारों को भेजे गए हैं।

एनआर ठाकुर ने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार पुरानी पेंशन योजना को बहाल करें, ताकि बुढ़ापे के समय में कर्मचारी सुख का जीवन यापन कर सकें। पेंशन योजना बंद करने से सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों को परिवार की जलालत सहन करनी पड़ती है तथा कई सेवानिवृत्त कर्मचारियों को वृद्ध आश्रम का रुख करना पड़ता है।


ज्ञापन के माध्यम से कर्मचारियों के अन्य ज्वलंत मुद्दों के बारे में बताते हुए कहा कि इनकम टैक्स स्लैब को 5 लाख तक बढ़ाना, सेवानिवृत्ति आयु में एकरुपता लाकर उसे 60 वर्ष करना, छठे वेतन आयोग की सिफारिशों को हिमाचल प्रदेश में लागू करना, भविष्य में सभी को अनुबंध या पार्ट टाइम की जगह नियमित नौकरी देना, आयुष्मान भारत जैसी आकर्षक योजना की तर्ज पर कर्मचारियों के लिए भी चिकित्सीय बीमा योजना लागू करना, करुणामूल आधार पर दी जाने वाली नौकरी की सेवा शर्तों में ढील देना, 4-9-14 की विसंगतियों को दूर करना तथा संयुक्त सलाहकार समिति की बैठकें नियमित तौर पर आयोजित करना आदि शामिल हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है