×

Anurag के सताए Arun, खीज मिटाने को कस रहे तंज

Anurag के सताए Arun, खीज मिटाने को कस रहे तंज

- Advertisement -

हमीरपुर। युवा कांग्रेस के हमीरपुर संसदीय क्षेत्र के अध्यक्ष रणवीर राणा व युवा कांग्रेस महासचिव विकास काल्टा ने नेता विपक्ष प्रेम कुमार धूमल के छोटे बेटे अरुण धूमल पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा है कि बड़े भाई अनुराग ठाकुर के सताए अरुण अपनी खीज मिटाने के लिए ही तंज कसते हैं।


  • युकां नेता रणवीर का आरोप, अनुराग बन रहे अरुण के रास्ते का रोड़ा
  • एचपीसीए अध्यक्ष पद नहीं मिल पा रहा, बीजेपी में भी कोई पद नहीं 
  • अरुण धूमल की अपनी कोई पहचान न होने के पीछे अनुराग ठाकुर 

उन्होंने कहा कि अनुराग ठाकुर कतई नहीं चाहते कि उनके छोटे भाई अरुण धूमल की कोई पहचान बन पाए, इसलिए ही वह उन्हें कोई पद नहीं लेने दे रहे हैं। रणवीर व काल्टा ने कहा कि बेहद पुख्ता जानकारी बताती है कि अरुण धूमल एचपीसीए के अध्यक्ष पद को लेकर अडे़ हुए हैं पर अनुराग उन्हें किसी कीमत पर यह पद नहीं देना चाहते, क्योंकि उन्हें लगता है कि कहीं अरुण उनसे आगे न निकल जाएं। इसी के चलते अरुण अपनी टीस मिटाने के लिए सीएम वीरभद्र सिंह व उनके परिजनों पर निशाना साधना शुरू कर देते हैं।
उन्होंने कहा कि अनुराग की जिद के चलते अरुण की मनोदशा भी दिन-ब-दिन खराब होती जा रही है, क्योंकि उन्हें बीजेपी के भीतर भी कोई पद नहीं मिल पा रहा, क्योंकि वहां भी इस परिवार को अनुराग के क्रियाकलापों के चलते बट्टा लग चुका है। उसी का परिणाम था जब अनुराग को पीएम नरेंद्र मोदी के ईशारों पर रातों-रात भाजयुमो के अध्यक्ष पद से चलता कर दिया गया था। उसके बाद स्वयं अनुराग के पिता प्रेम कुमार धूमल ने लाख कोशिश की कि किसी तरह अपने छोटे बेटे अरुण धूमल को पार्टी में अडजेस्ट करवा दिया जाए पर वह भी नहीं हो पाया। उसके बाद अरुण कुछ दिनों तक गायब रहे, बीते कल हमीरपुर के बड़सर में कहीं से यकायक प्रकट होकर वह वहीं अनाप-शनाप बोलने लगे।
राणा व व काल्टा ने कहा है कि अरुण शायद इस बात को भांप चुके हैं कि उन्हें अब न ही तो एचपीसीए में अध्यक्ष पद नसीब होने वाला है न ही उन्हें बीजेपी में कोई पद मिलने वाला है, इसलिए उनकी मनोदशा ऐसी हो गई है जो बेचारगी वाली दिखती है। उन्होंने कहा कि धूमल परिवार को चाहिए कि अपने छोटे बेटे अरुण का कहीं बेहतर इलाज करवाकर उसे कहीं अकेले में आराम करवाएं, ताकि बाद में वह कम से कम अपना स्कूल का कामकाज देख सके। राणा व काल्टा ने कहा कि अरुण को अब तो यह भी पता नहीं चल पा रहा है कि वह बोल क्या रहा है। बताया तो यह भी जा रहा है कि वह परिजनों पर चुनाव लड़ने के लिए भी दबाव बनाए हुए है। इसे लेकर भी धूमल परिवार में अंतकर्लह चल रही है, इन्हीं सभी स्थितियों के चलते ही अरुण कहीं भी खडे़ होकर कुछ भी बोलने लगते हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है