Covid-19 Update

2,00,603
मामले (हिमाचल)
1,94,739
मरीज ठीक हुए
3,432
मौत
29,944,783
मामले (भारत)
179,349,385
मामले (दुनिया)
×

100 मीटर दूरी न पाट पाया भारतीय दूतावास, 8 साल से सऊदी में फंसा है हिमाचली युवक

100 मीटर दूरी न पाट पाया भारतीय दूतावास, 8 साल से सऊदी में फंसा है हिमाचली युवक

- Advertisement -

पुनीत शर्मा/चुवाड़ी। विदेशों में स्थित भारतीय दूतावास वहां रह रहे भारतीयों की कितनी मदद करते हैं ये सऊदी अरब में फंसे कांगड़ा जिले के नगरोटा बगवां (Nagrota Bagwan) के युवक की दर्दभरी दास्तान से साफ़ हो जाता है। आलम यह कि भारतीय दूतावास के अधिकारी मात्र 100 मीटर दूरी पर स्थित बांग्लादेश दूतावास (Bangladesh Embassy) जाकर 8 साल बाद भी विजय की स्वदेश वापसी नहीं करवा पाए। 8 साल पहले 2011 में सऊदी अरब गया विजय कुमार स्वदेश वापसी के लिए दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। सऊदी अरब (Saudi Arab) में विजय (Vijay) को लोडर ऑपरेटर का काम मिला लेकिन न तो लाइसेंस था और न इंश्योरेंस थी।

यह भी पढ़ें :-नूरपुर : डन्नी में खतरा बरकार, बांध में बार-बार भर रहा पानी, प्रशासन मौके पर


साल 2013 में हुए एक हादसे में लोडर से गिरकर एक बांग्लादेशी लोडर ऑपरेटर की मौत हो गई जिसके बाद सऊदी की पुलिस ने विजय को जेल में डाल दिया। चूंकि ये एक हादसा थाए इसलिए करीब 20 दिन बाद उसे जेल से रिहा कर दिया गया। इसके बाद जब 3 साल का वीजा खत्म हुआ तो विजय ने अपनी कंपनी को स्वदेश लौटने की बात कही। इस पर कंपनी ने 6 माह रुकने को बोला तो विजय मन मसोसकर 6 माह काम करता रहा। 6 माह बाद जब कंपनी प्रबन्धन को स्वदेश लौटने की बात कही तो उनका कहना था कि उस पर केस चल रहा है इसलिए वो घर नहीं लौट सकता। इसके बाद भारतीय दूतावास जाने पर उसे बताया गया कि जब तक बांग्लादेश से मृतक की मौत का लीगल हियर अथॉरिटी लैटर नहीं आता वह स्वदेश नहीं जा सकता। इस बीच दूतावास के आलाधिकारी से बातचीत भी हुई लेकिन फिर भी विजय की स्वदेश वापसी अब तक नहीं हो पाई है।


घर में मां को इसी चिंता ने बीमार कर दिया तो वहीं परिजन मानसिक प्रताड़ना से गुजर रहे हैं। इसी बीच कंपनी ने भी जरूरी दस्तावेज मंगवाया जिसकी कॉपी विजय ने भारतीय दूतावास को भी भेजी। दूतावास के एक अधिकारी ने विजय को बताया कि वो बांग्लादेश के दूतावास जाकर खुद बात करेंगे। बावजूद इसके बांग्लादेश तथा भारतीय दूतावास की महज 100 मीटर की दूरी तय नहीं हो पाई कि विजय को स्वदेश वापसी में कोई मदद मिले। हर एक को पत्र लिखकर थक चुकी विजय की मां ने अब केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर से मदद की गुहार लगाई है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है