Covid-19 Update

2,16,906
मामले (हिमाचल)
2,11,694
मरीज ठीक हुए
3,634
मौत
33,477,459
मामले (भारत)
229,144,868
मामले (दुनिया)

केंद्र के वित्तीय घाटे का कारण बन रहीं Himachal की पंचायतें-जानिए कैसे

केंद्र के वित्तीय घाटे का कारण बन रहीं Himachal की पंचायतें-जानिए कैसे

- Advertisement -

दयाराम कश्यप/सोलन। हिमाचल की प्रत्येक ग्राम पंचायतों द्वारा करवाए जा रहे विकास कार्यों के लिए ठेकेदारों को किए जाने वाले भुगतान की राशि से टीडीएस नहीं काटा जा रहा है, जिसकी वजह से केंद्र सरकार को घाटे का सामना करना पड़ रहा है। इसके लिए इनकम टैक्स विभाग पंचकूला (TDS-2) द्वारा प्रत्येक ग्राम पंचायतों को जागरूक करने का अभियान चलाया जा रहा है। इसकी शुरूआत जिला सोलन के विकास खंड सोलन से आज की गई है। इसके उपरांत विकास खंड कंडाघाट धर्मपुर, कुनिहार और नालागढ़ में जागरुकता कार्यशाला आयोजित की जाएंगी।

 

यह भी पढ़ें :- सोलन के जाबली में करंट से गई Electrician की जान, कमरे में मिला मृत

 

 

सोलन में इनकम टैक्स पंचकूला टीडीएस दो द्वारा आज सोलन विकास खंड कार्यालय में जागरुकता कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस एक दिवसीय जागरुकता कार्यशाला की अध्यक्षता इनकम टैक्स पंचकूला टीडीएस-2 अतिरिक्त आयकर आयुक्त पूनम शर्मा ने की। इस दौरान खंड विकास अधिकारी ललित विक्रम सिंह दूल्टा भी उपस्थित रहे। साथ ही खंड विकास कार्यालय सोलन के अन्य अधिकारियों व कर्मचारियों सहित खंड विभिन्न ग्राम पंचायतों के सचिवों ने भाग लिया। इस एक दिवसीय कार्यशाला में अतिरिक्त आयकर आयुक्त पूनम शर्मा व अन्य टीम के सदस्यों ने उपस्थितजनों को टीडीएस के माध्यम से भुगतान करने बारे विस्तृत जानकारी दी गई। साथ ही टीडीएस (TDS) भुगतान करने के लिए सामान्य परिचालन प्रक्रिय के परफोर्मा भी वितरित किए गए और इसे भरने की विधि भी बताई गई, ताकि भविष्य में टीडीएस (TDS) काट कर ही भुगतान किया जा सके।

इनकम टैक्स पंचकूला टीडीएस-2 के अतिरिक्त आयकर आयुक्त पूनम शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार से पंचायतों को विकास राशि जारी की जाती है। प्रत्येक विकास कार्य का भुगतान पंचायतें ठेकेदारों को करती हैं, लेकिन उस भुगतान के समय उनसे टीडीएस (TDS) नहीं काटा जा रहा है, जिससे केंद्र सरकार को वित्तीय घाटा हो रहा है। उन्होंने कहा कि इस जागरुकता अभियान की शुरूआत सोलन से की जा रही है। प्रत्येक पंचायत को टिन नंबर लेने को कहा जा रहा है, जिससे वह भविष्य में ठेकेदारों को पंचायत कार्य के लिए दी जाने वाली राशि से टीडीएस काट कर भुगतान करेंगे।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है