×

गोलमाल : Court की अनदेखी, Hoardings से अटा पड़ा शहर

गोलमाल : Court की अनदेखी, Hoardings से अटा पड़ा शहर

- Advertisement -

मोहिंदर भारती/रेवाड़ी। भले ही अदालत ने प्रमुख चौराहों पर हॉर्डिंग न लगाने संबंधी निर्देश जारी कर दिए हों और प्रशासन भी शहर के सौंदर्यीकरण को लेकर आए दिन दावे करते नहीं थकता हो, लेकिन आज भी धरातल पर तस्वीर बिल्कुल इसके उलट ही दिखाई पड़ रही है। अदालत के आदेशों को सरेआम हवा-हवाई किया जा रहा है तथा अधिकारियों की कथित मिलीभगत से शहर में हॉर्डिंग लगाने का काम धड़ल्ले से जारी है।


  • सौंदर्यकरण को लेकर प्रशासन के दावे हवा-हवाई
  • निजी संस्थानों से लेकर नेता भी हॉर्डिंग लगाने में पीछे नहीं

जी हां, हम बात कर रहे हैं अहीरवाल का लंदन कहलाने वाले उस रेवाड़ी शहर की, जहां तमाम प्रमुख मार्ग और चौराहे निजी संस्थानों से लेकर नेताओं के हॉर्डिंगस से अटे पड़े हैं और ये हॉर्डिंग न केवल हादसों को न्यौता दे रहे हैं, बल्कि शहर की सुंदरता को भी कम करने में पीछे नहीं हैं।

rewadi1शहर के प्रमुख चौराहों व मार्गों पर किस कदर हॉर्डिंग लगे हुए हैं और जिस नगर परिषद के अधिकारियों के कंधों पर इनके खिलाफ कार्रवाई करने की जिम्मेदारी है, वे कभी-कभार हॉर्डिंग हटाकर केवल खानापूर्ति तक सीमित रह गए हैं। हालांकि कुछ वर्ष पूर्व नगर परिषद द्वारा शहर में हॉर्डिंग लगाने के लिए एक एजेंसी के नाम टेंडर छोड़ा गया था। कुछ समय तक तो सब कुछ ठीक ठाक रहा, लेकिन उसके बाद जिस कंपनी ने टेंडर लिया था, वह बीच में ही काम छोडक़र चली गई और चौराहों पर हॉर्डिंग लगाने के लिए लगाए गए लोहे के स्टैंड भी उखाड़ लिए गए। इसे लेकर नगर पार्षदों द्वारा नप अधिकारियों के खिलाफ अवाज भी उठाई गई और प्रशासन द्वारा उस पर एक जांच भी शुरू की गई, लेकिन बाद में यह जांच भी ठंडे बस्ते में डाल दी गई। ऐसे में गोलमाल होने की बात से इंकार नहीं किया जा सकता।

rewadi3अब नगर परिषद के ही पदाधिकारी यह आरोप लगा रहे हैं कि अधिकारियों की मिलीभगत से शहर में हॉर्डिंग लगाने का खेल धड़ल्ले से खेला जा रहा है और इसकी एवज में अधिकारियों द्वारा अवैध वसूली भी की जाती है। नगर परिषद के अधिकारी इस बात को सिरे से नकार रहे हैं कि हॉर्डिंग के नाम पर कहीं कोई अवैध वसूली नहीं की जा रही और अगर ऐसा है तो दोषी अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

  • अधिकारियों की मिलीभगत से चल रहा है खेल
  • नगर परिषद अधिकारियों पर अवैध वसूली का भी आरोप

rewadiउनका कहना है कि शहर में लगे हॉर्डिंग को हटाने के लिए कई बार मुनादी कराई गई है, क्योंकि शहर में अभी तक कोई साइट निर्धारित नहीं है। वहीं, एडवरटाइजमेंट पॉलिसी को हाईकोर्ट में चैलेंज किया हुआ है। ऐसे में शहर में लगे हॉर्डिंग्स को लेकर परिषद द्वारा विशेष अभियान चलाया हुआ है, जिसके तहत समय-समय पर उन्हें हटाया जाता है और समय-समय पर उसकी वीडियोग्राफी कराकर उसे अदालत में भेजा जाता है, मगर कुछ भी हो, शहर में लगे हॉर्डिंग्स को लेकर नप अधिकारियों पर लगातार आरोप लग रहे हैं। अब देखना यह होगा कि क्या नगर परिषद शहर में लगे हॉर्डिंग को हटाकर शहर की सुंदरता को दुरुस्त कर पाएगी या फिर यह खेल इसी तरह जारी रहेगा।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है