Covid-19 Update

2,16,303
मामले (हिमाचल)
2,11,008
मरीज ठीक हुए
3,628
मौत
33,339,375
मामले (भारत)
226,929,855
मामले (दुनिया)

शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष की बड़ी बात, टीचर को कभी Replace नहीं कर पाएगी टेक्नोलॉजी

शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष की बड़ी बात, टीचर को कभी Replace नहीं कर पाएगी टेक्नोलॉजी

- Advertisement -

कांगड़ा। हिमाचल शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. सुरेश कुमार सोनी (HP Board of School Education Chairman Dr. Suresh Kumar Soni) ने स्कूलों में टेक्नोलॉजी के उपयोग को लेकर बड़ी बात कही है। हिमाचल अभी अभी मुख्य कार्यालय (Himachal Abhi Abhi Head Office) में विशेष बातचीत में डॉ. सोनी ने कहा कि टेक्नोलॉजी टीचर (Teacher) को रिप्लेस नहीं कर सकती है। स्कूल (School) और कॉलेजों में बच्चे जब क्लासरूम में टीचर से इंटरेक्ट होते हैं तो एक संवेदना होती है। टीचर के साथ अपनत्व का माहौल होता है, जोकि टेक्नोलॉजी नहीं दे पाती है। बच्चें को तनाव से बाहर रखना और प्रोत्साहित करने का काम टीचर ही कर सकता है। टेक्नोलॉजी मात्र सूचना दे सकती है।

यह भी पढ़ें: नकल पर नकेलः शिक्षा बोर्ड की हर परीक्षा केंद्र पर रहेगी पैनी नजर, तैनात होंगे अधिकारी

उन्होंने कहा कि वर्तमान में टेक्नोलॉजी (Technology) के माध्यम से शिक्षा देने की बात होती है। शिक्षा क्षेत्र में टेक्नोलॉजी (Technology) का प्रयोग भी हो रहा है। खासकर सरकारी स्कूलों में सरकार वर्चुअल क्लासरूम (Virtual Classroom) बनाने की सोच रही है। इन क्लासरूम में उसी तकनीक से लेक्चरर होंगे। बच्चों में दो बातों का इफेक्ट होता है। एक तो सुनकर और दूसरा देखकर। ऐसे में टेक्नोलॉजी का इफेक्ट तो होता है।

पर टेक्नोलॉजी का एक पहलू यह भी है कि मेमोरी पावर भी नहीं रहती है। उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि पहले सारे नंबर याद रहते थे, लेकिन अब जब मोबाइल का दौर आया है तो नंबर याद नहीं रहते हैं। हम टेक्नोलॉजी पर निर्भर हो गए हैं। शिक्षा बोर्ड की बात है तो हमने टेक्नोलॉजी का उपयोग किया है। इसी के चलते उत्तर भारत के बोर्डों की बजाए हिमाचल शिक्षा बोर्ड सबसे पहले रिजल्ट निकालता है। इसके लिए हमने सिस्टम को मेनुअल से टेक्नोलॉजी बेस्ड किया है। टेक्नोलॉजी के माध्यम से सूचना प्राप्त हो और हम ज्यादा सीखें।

उन्होंने वर्चुअल क्लासरूम (Virtual Classroom) के बारे बताया कि सरकार इस पर काम कर रही है। अगर यह सफल होता है तो बच्चों के विषय से संबंधित लेक्चरर एक साथ सभी क्लासरूम में बच्चों को पढ़ाए जाएंगे। बच्चे सवाल भी पूछ सकेंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए टीचर का पूल तैयार किया जाएगा। जो बच्चों को टॉपिक पढ़ाया जा रहा है, उसमें देखा जाएगा कि उस टॉपिक पर कौन शिक्षक बेहतर दे सकता है। उसका लेक्चरर सभी क्लासरूम में पढ़ाया जाएगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है