Covid-19 Update

58,598
मामले (हिमाचल)
57,311
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,095,852
मामले (भारत)
114,171,879
मामले (दुनिया)

सीएम जयराम की घोषणा के विरोध में उतरा प्रदेश पदोन्नत प्रवक्ता संघ

सीएम जयराम की घोषणा के विरोध में उतरा प्रदेश पदोन्नत प्रवक्ता संघ

- Advertisement -

सुंदरनगर। हिमाचल प्रदेश पदोन्नत प्रवक्ता संघ ने प्रधानाचार्य पद के लिए बनाए गए भर्ती एवं पदोन्नति नियमों में फेरबदल करने को लेकर सीएम जयराम ठाकुर की घोषणा की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए विरोध जताया है। पदोन्नत प्रवक्ता संघ ने इस संदर्भ में सीएम जयराम ठाकुर के गृह जिला से ही संघर्ष का बिगुल फूंक दिया है और प्रदेश सरकार को दो टूक शब्दों में चेताया है कि अगर वर्तमान में प्रधानाचार्य पद के लिए पदोन्नति हेतु, मुख्याध्यापक एवं प्रवक्ता का कोटा 50:50 है, जिसे बदल कर 60:40 करने का आश्वासन प्राध्यापकों के एक वर्ग को पालमपुर में दिया गया है, जोकि हिमाचल प्रदेश पदोन्नत प्रवक्ता संघ को कतई भी मान्य नहीं है।
संघ के जिला प्रधान कमल किशोर शर्मा द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि किसी एक संघ द्वारा बार-बार सरकार के समक्ष गलत आंकड़ें पेश किए जाते हैं कि प्रधानाचार्य पद में पदोन्नति हेतु, 850 मुख्याध्यापकों के लिए 50 प्रतिशत व 5000 प्रवक्ताओं के लिए 50 प्रतिशत कोटा रखा गया है। संघ इस बात का खंडन करता है कि मुख्याध्यापकों का  50 प्रतिशत कोटा न्यायसंगत नहीं है। क्योंकि यह कोटा केवल 850 मुख्याध्यापकों का नहीं है, अपितु टीजीटी कला, टीजीटी विज्ञान एवं पदोन्नत प्रवक्ताओं का सांझा कोटा है। जिसकी कुल संख्या प्रदेश में 26000 है। टीजीटी शिक्षक विभाग में 25 से 27 वर्ष सेवा देने के बाद भी मुख्याध्यापक नहीं बन पा रहे हैं। हालत यह है कि 1994 का टीजीटी आज इसी पद पर अपनी सेवाएं देने को मजबूर हैं। जबकि 1996 का प्रवक्ता आज प्रधानाचार्य पद पर पहुंच चुका है। इस कोटे के साथ कोई भी बदलाब प्रवक्ताओं व टीजीटी अध्यापकों को मान्य नहीं है।

रावमा पाठशालाओं में मुख्याध्यापकों के पद सृजित करने की मांग

इसके साथ-साथ रावमा पाठशालाओं में शिक्षा के गुणात्मक सुधार हेतु उपप्रधानाचार्य के स्थान पर मुख्याध्यापकों के पद सृजित करने की संघ पूरजोर मांग करता है, क्योंकि प्रवक्ता केवल 11वीं व 12वीं कक्षाओं का ही शिक्षण करते हैं। जब कि टीजीटी वर्ग को छठी से दसवीं तथा पदोन्नत प्रवक्ताओं को छठी से दसवीं के साथ-साथ 11वीं व 12वीं की कक्षाओं के शिक्षण का अनुभव होता है। इस मामले में हिमाचल प्रदेश पदोन्नत प्रवक्ता संघ जिला मंडी के प्रधान कमल किशोर शर्मा, महासचिव प्रवीण कुमार, वित्त सचिव समीर वशिष्ठ, खंड सुंदरनगर के प्रधान दर्शन सिंह राणा, खंड सरकाघाट के प्रधान मुख्त्यार सिंह गुलेरिया, खंड जोगिंद्रनगर के प्रधान मिलाप सिंह, खंड सदर मंडी के प्रधान राजन गुलेरिया, खंड करसोग  के प्रधान जय प्रकाश गुप्ता तथा चच्योट के प्रधान जीवन लाल सहित समस्त जिला कार्यकारिणी ने सीएम जय राम ठाकुर से आग्रह किया है कि इस कोटे के साथ किसी भी प्रकार का बदलाव न करें, ताकि टीजीटी वर्ग के साथ कोई अन्याय न हो।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है