- Advertisement -

दसवीं या बाहरवीं में अंक सुधार के लिए आवेदन की ये हैं अंतिम तिथि

31 दिसंबर, 2018 तक 2600 शुल्क के साथ करें आवेदन 

0

- Advertisement -

धर्मशाला। दसवीं या बाहरवीं की परीक्षा पास किए हुए परीक्षार्थियों के पास अंक सुधार का सुनहरा मौका है। हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. अरुण कुमार शर्मा ने बताया कि पूर्व में जिन परीक्षार्थियों ने बोर्ड से दसवीं अथवा बाहरवीं कक्षा की परीक्षा नियमिता प्राइवेट तौर पर या राज्य मुक्त विद्यालय (SOS) के अंतर्गत उर्तीण की है। ऐसे परीक्षार्थियों को अपने प्राप्त कुल अंकों में सुधार करने के लिए सत्र मार्च 2019 से बोर्ड द्वारा सुविधा प्रदान की गई है। इस परीक्षा के लिए इच्छुक परीक्षार्थी हिमाचल प्रदेश में स्थापित विभिन्न राज्य मुक्त विद्याालय (SOS) के अध्ययन केन्द्रों के माध्यम से दिनांक 31 दिसंबर, 2018 तक 2600 शुल्क के साथ आवेदन कर सकते हैं।
श्रेणी सुधार की परीक्षा केवल उन्ही विषयों में ली जाएगी जो कि वर्तमान में राज्य मुक्त विद्यालय(SOS) की परीक्षा प्रणाली में प्रचलित है तथा श्रेणी सुधार की परीक्षा वर्तमान समय में चल रहे Passing criteria और Syllabus के अनुसार ही होगी। श्रेणी सुधार की परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले छात्रों को आवेदन के समय/बाद में अपना पुराना मूल-प्रमाण पत्र बोर्ड कार्यालय में जमा करवाना होगा। परीक्षा में सफल होने की स्थिति में छात्र द्वारा पुराना मूल-प्रमाण पत्र जमा करवाने के पश्चात् ही नया प्रमाण-पत्र जारी किया जाएगा। ऐसे छात्र जोकि श्रेणी सुधार की परीक्षा के लिए आवेदन करते है उन्हें कार्यालय द्वारा नया नामांकन/अनुक्रमांक नम्बर जारी किया जाएगा और आंबटित नामांकन/अनुकमाक नम्बर केवल एक ही सत्र के लिए मान्य होगा।
यदि श्रेणी सुधार की परीक्षा में किसी एक विषय में अकों की बढ़ोतरी होती है और दूसरे विषय में अंक कम हो जाते है तथा कुल अंकों के योग में कोई बढ़ोतरी नहीं होती है तो परीक्षा परिणाम P.R.S. (Previous Result Stand) ही दर्शाया जाएगा। प्रैक्टिकल से सम्बन्धित विषय में श्रेणी सुधार की परीक्षा के लिए Theory विषय के साथ साथ Practical विषय की परीक्षा देना भी अनिवार्य है। इसके लिए कुल शुल्क के साथ 100रुपए प्रेक्टिकल परीक्षा शुल्क (प्रति विषय) के हिसाब से अतिरिक्त जमा करवाना होगा।
ऐसे छात्र जो कि श्रेणी सुधार की परीक्षा में प्राप्त अंकों से संतुष्ट नहीं है, वे अगले सत्र के लिए पुनः श्रेणी सुधार की परीक्षा हेतु आवेदन कर सकते है जिसके लिए उन्हें सारे शुल्क (पंजीकरण/नामांकन/प्रेक्टिकल शुल्क और परीक्षा शुल्क ) पुनः नए सिरे से जमा करवाने होंगे। ऐसे परीक्षार्थी जिन्होनें मार्च, 2001 या इससे पूर्व दसवीं अथवा बाहरवीं कक्षा की परीक्षा नियमित/ निजी तौर पर स्कूल शिक्षा बोर्ड से उतीर्ण की हैं और ऐसे परीक्षार्थी राज्य मुक्त विद्यालय (HPSOS) के तहत श्रेणी सुधार की परीक्षा देना चाहते हैं तो उन्हें पूर्ण विषयों में परीक्षा देनी होगी। हिप्र राज्य मुक्त विद्यालय (HPSOS) के अंतर्गत एक या अधिक विषयों में श्रेर्णा सुधार की परीक्षा के लिए ऐसे परीक्षार्थी भी पात्र होंगे, जिन्होंने मार्च, 2002 या इसके पश्चात स्कूल शिक्षा बोर्ड से दसवीं या बाहरवीं कक्षा की परीक्षा नियमित/निजी तौर पर अथवा राज्य मुक्त विद्यालय के अंतर्गत उतीर्ण की हो। ऐसे परीक्षार्थियों को इस परीक्षा के लिए अधिकतम तीन अवसर प्रदान किए जाएंगे। उपरोक्त तिथियों के पश्चात कोई भी आवेदन स्वीकार्य नहीं होंगे।

- Advertisement -

Leave A Reply