Covid-19 Update

1,51,597
मामले (हिमाचल)
1,11,621
मरीज ठीक हुए
2156
मौत
24,046,809
मामले (भारत)
161,846,155
मामले (दुनिया)
×

वाह री HRTC: चंद घंटों में ही 8 KM बढ़ गई Jassur से सिंबल चौक की दूरी

वाह री HRTC: चंद घंटों में ही 8 KM बढ़ गई Jassur से सिंबल चौक की दूरी

- Advertisement -

नूरपुर। एचआरटीसी की बसों में आखिर किराया किस आधार पर वसूला जा रहा है, यह आम आदमी की समझ के परे की बात है। या तो इसे एचआरटीसी प्रबंधन या परिचालक ही समझ सकते हैं या फिर कोई गणित का शिक्षक। आम आदमी के यह बस में ही नहीं है। ऐसा ही एक मामला जसूर में सामने आया है।


यहां पर एचआरटीसी बसों में दी टिकटों के आधार पर एक से दूसरे स्टेशन की दूरी उसी दिन व्यक्ति के वापस आते-आते आठ किलोमीटर अधिक हो गई। यही, नहीं किराया भी सात रुपये अधिक अदा करना पड़ा। बता दें कि राज कुमार निवासी छत्रोली (जसूर) ने 26 जनवरी को सुबह साढ़े 11 बजे जसूर से सिंबल चौक (पठानकोट) के लिए पथ परिवहन निगम पठानकोट डिपो की बस में बैठा। उसका 24 रुपये का टिकट काटा गया। 


वहीं, टिकट पर दूरी 17 किलोमीटर दर्शाई गई थी। वहीं, अपना काम खत्म कर जब दोपहर करीब सवा एक बजे सिंबल चौक से नागाबाड़ी के लिए पालमपुर डिपो की बस में बैठा तो उसके टिकट हाथ में आने पर वह हैरान हो गया।

उससे 25 रुपये किराया नागाबाड़ी का ही वसूला गया और टिकट पर दूरी 21 किलोमीटर दर्शाई गई थी। हालांकि नागाबाड़ी से जसूर चार किलामीटर है और 6 रुपये किराया लगता है। ऐसे में पठानकोट डिपो की बस में काटी टिकट के आधार पर  सिंबल चौक से नागाबाड़ी की दूरी 13 किलोमीटर बनती है। यहीं, नहीं पठानकोट डिपो की बस में काटी टिकट के आधार पर जसूर से सिंबल चौक का किराया 24 और पालमपुर डिपो की बस में काटी टिकट के अनुसार सिंबल चौक से नागाबाड़ी का किराया 25 रुपये वसूला गया।  साथ ही नागाबाड़ी से जसूर का किराया 6 रुपये है। ऐसे में यात्री को 7 रुपये अधिक चुकाने पड़े।

इस बारे जब निगम के परिचालक को स्थिति साफ करने की बात कही गई तो वह उल्टा यात्री को ही धमकाने लग पड़ा। वहीं, इस संबंध में यात्री ने इसकी शिकायत भी निगम के उच्चाधिकारियों से की है। यात्री ने निगम के उच्चाधिकारियों से ऐसे परिचालकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाने की बात की है। वहीं, इस संदर्भ में डीएम धर्मशाला राज कुमार जरियाल ने बताया कि यह मामला उनके ध्यान में लाया गया है। टिकट मशीन से सफर की दूरी किस तरह बढ़ गई, इसकी जांच की जाएगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है