Covid-19 Update

2,06,369
मामले (हिमाचल)
2,01,520
मरीज ठीक हुए
3,506
मौत
31,723,560
मामले (भारत)
199,307,256
मामले (दुनिया)
×

जाने, एचआरटीसी चालक संघ ने क्यों खोला निगम प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा

जाने, एचआरटीसी चालक संघ ने क्यों खोला निगम प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा

- Advertisement -

हमीरपुर। एचआरटीसी चालक संघ ने निगम प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। हमीरपुर में धरना देकर रोष जताया। यह प्रदर्शन चालक संघ ने लठियाणी बस हादसे को लेकर किया है। बता दें कि जालंधर जा रही एचआरटीसी बस के स्टीयरिंग फ्री होने से लठियाणी के पास हुए हादसे के बाद एचआरटीसी प्रबंधन अपनी खाल बचाने में लगी है। हालांकि यह हादसा स्टीयरिंग खुलने के साथ ब्रेक फेल होने पर हुआ है। लेकिन, एचआरटीसी अधिकारी उल्टा चालक को ही इस हादसे के लिए दोषी मान रहे हैं और गाड़ी को पूरी तरह से फिट बताया जा रहा है।

पुलिस की रिपोर्ट भी चालक के पक्ष में

एचआरटीसी प्रबंधन पर आरोप लगाते हुए चालकों ने कहा कि इस हादसे पर जहां पुलिस की रिपोर्ट भी चालक के पक्ष में है। मौके पर लिए गए फोटो से भी साबित हो रहा है कि हादसे की वजह स्टीयरिंग टूटना है, जिस कारण चालक नियंत्रण खो बैठा और बाइक सवार पर चढ़ गया। जबकि चालक की सूझबूझ से बस में सवार चालीस यात्रियों की जान भी बची है।


एचआरटीसी चालक संघ अध्यक्ष ठाकुर मान सिंह ने आरोप लगाया कि एचआरटीसी निगम प्रबंधन के जांच कमेटी के अधिकारी सारे सबूतों को अनदेखा कर रहे हैं और चालक पर ही सारा दोष दे रहे हैं। उन्होंने विरोध जताते हुए कहा कि प्रबंधन हमेशा चालकों और मैकेनिकों का शोषण करता आ रहा है और इनके गलत रवैया के चलते ऐसे हादसे हो रहे है।

बस की स्टीयरिंग टूटने से हुआ हादसा

बस चालक महेश कुमार ने बताया कि लठियाणी के पास बस की स्टीयरिंग टूटने पर हादसा हुआ है। लेकिन, इस हादसे में स्टीयरिंग टूटने गाड़ी को बड़ी मुश्किल से बस में बैठी सवारियों की जान बचाने के लिए गाड़ी को दूसरे कोने में ले गया, जहां पर एक बाइक पर गाड़ी चढ़ गई। इसमें एक युवक की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि डीएम के द्वारा मुझे हादसे के लिए दोषी ठहराया जा रहा है और सारे सबूतों को अनदेखा किया जा रहा है।

एचआरटीसी मैकेनिक महेंद्र सिंह का कहना है कि मौके पर जाने पर पाया था कि बस का स्टीयरिंग निकला हुआ था और गाड़ी सड़क से छह फीट बाहर थी। उन्होंने कहा कि पुलिस ने भी मौके पर आकर रिपोर्ट बनाई है। लेकिन, अब विभाग इस रिपोर्ट को मानने के लिए आनाकानी कर रहा हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है