Covid-19 Update

2,06,589
मामले (हिमाचल)
2,01,628
मरीज ठीक हुए
3,507
मौत
31,767,481
मामले (भारत)
199,936,878
मामले (दुनिया)
×

पत्नी ने नहीं बनाई सेव की सब्जी तो छोड़ दिया घर, 17 साल बाद हुआ समझौता

पत्नी ने नहीं बनाई सेव की सब्जी तो छोड़ दिया घर, 17 साल बाद हुआ समझौता

- Advertisement -

 

 


 

 

 

 

नई दिल्ली। कहते हैं कि पति-पत्नी (Husband-wife) की छोटी से नोंक-झोंक कब बड़ा रूप ले कहा नहीं जा सकता है। इसी तरह से एक कपल (Couple) में सेव की सब्जी बनाने को लेकर झगड़ा हो गया। झगड़ा होने के बाद नाराज पति घर छोड़ कर भाग गया जब महिला ने अदालत (Court) में गुहार लगाई तो 17 साल बाद दोनों में समझौता हो पाया। सबसे रोचक बात तो यह है यह मामला एक बुजुर्ग दंपत्ति का है।

यह मामला देवास की नोट बैंक प्रेस से रिटायर (Retire) हुए एक कर्मचारी और उनकी पत्नी के बीच का है। उन्होंने रिटायर होने के बाद अपनी सारी संपत्ति और पैसा अपनी पत्नी के नाम कर दिया था। फिर एक दिन उनका मन सेव की सब्ज़ी खाने का हुआ। पत्नी से कहा तो उन्होंने बाज़ार से सेव लाने के लिए कहा। पति के पास तो पैसे थे नहीं और पत्नी बाजार गई नहीं और पति सेव की सब्जी खा नहीं पाए। बस इतनी सी बात से खफा होकर उन्होंने घर छोड़ने का फैसला कर लिया। घर छोड़ने के बाद वह महाराष्ट्र (Maharshtra) के एक छोटे से गांव में झोपड़ी बनाकर रहने लगे। उसके बाद उन्होंने गुजर बसर के लिए पत्नी से पैसे मांगे। लेकिन पत्नी भी अदालत चली गई।

अदालत ने भी बुजुर्ग दंपति का केस जैसे सुलझाया वह भी कमाल का है। जज साहब ने पति पत्नी दोनों से अलग-अलग बात की और फिर एक सेव का पैकेट मंगवाकर पत्नी को दिया। उन्होंने पत्नी को आदेश दिया कि घर जाकर पति को सेव की सब्जी बनाकर खिलाएं। पति-पत्नी दोनों साथ-साथ घर चले गए। घर में सेव की सब्जी बनी दोनों ने खाई, लेकिन अगले दिन फिर दोनों कोर्ट आए। पति ने कोर्ट में कहा- क्या भरोसा कि पत्नी आगे से अच्छा व्यवहार करेगी। इसके बाद जज साहिब ने महिला को साईं बाबा की कसम खाने के लिए कहा। जज साहब ने दोनों को शिरडी भेजने का इंतज़ाम किया। बुज़ुर्ग पति-पत्नी शिरडी गए और वहां से लौटकर साथ रहने के लिए राजी हो गए। बता दें, पति की उम्र 79 साल और पत्नी 72 साल की है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है