×

#bird-flu अलर्टः पोल्ट्री फार्म में किसी भी मुर्गे में बीमारी के दिखें लक्षण तो यह नंबर करें Dial

पौंग डैम व उससे सटे क्षेत्र में पशुओें को छोड़ने पर रोक

#bird-flu अलर्टः पोल्ट्री फार्म में किसी भी मुर्गे में बीमारी के दिखें लक्षण तो यह नंबर करें Dial

- Advertisement -

धर्मशाला। पोल्ट्री फार्म (Poultry farm) में किसी भी मुर्गे आदि में भी बीमारी के किसी तरह के लक्षण (Symptoms) पाए जाएं तो निशुल्क नंबर 1077 पर डायल (Dial) करने सूचना दें। बता दें कि बर्ड फ्लू (Bird flu) की आशंका के चलते कांगड़ा जिला के देहरा, ज्वाली, इंदौरा फतेहपुर में मीट, मछली तथा पोल्ट्री उत्पाद बेचने पर पूर्णतय प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ ही पौंग बांध के एक किलोमीटर की परिधि को अलर्ट जोन घोषित किया गया है जबकि नौ किलोमीटर क्षेत्र को निगरानी जोन में रखा गया है।


यह भी पढ़ें: पौंग झील में विदेशी परिंदों की #bird_flu से हुई है मौत, Bhopal से आई रिपोर्ट में हुई पुष्टि

डीसी राकेश प्रजापति ने सोमवार को डीसी कार्यालय में वन्य प्राणी विभाग तथा पशुपालन विभाग (Animal Husbandry Department) के अधिकारियों के साथ आयोजित एक आवश्यक बैठक में दी। उन्होंने कहा कि पौंग डैम एवं उससे सटे क्षेत्र में पशुओें को छोड़ने तथा खेतीबाड़ी इत्यादि गतिविधियों पर भी रोक लगा दी गई है। उन्होंने कहा कि आदेशों की अवहेलना करने पर पचास हजार का जुर्माना लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि ज्वाली, देहरा, इंदौरा, फतेहपुर उपमंडलों के निजी पोल्ट्री संचालक तथा मीट विक्रेता भी पशुओं तथा पक्षियों इत्यादि को बाहरी क्षेत्रों में भी नहीं बेच सकेंगे।

 

 

यह भी पढ़ें: कांगड़ाः #Bird_Flu को लेकर अलर्ट, इन तीन उपमंडलों में नहीं बिकेगा चिकन, अंडा और मछली

उन्होंने कहा कि पौंग बांध में पक्षियों की निरंतर मौत के कारण ही क्षेत्र में अलर्ट (Alert) जारी किया गया है। उन्होंने कहा कि गत एक सप्ताह में 1700 के करीब प्रवासी पक्षियों की मौत हो चुकी है तथा प्रारंभिक तौर पर पालमपुर में इन पक्षियों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे जिसमें फ्लू की तरह के लक्षण पाए गए थे तथा अब भोपाल की रिपोर्ट में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है।  डीसी राकेश प्रजापति ने लोगों से आग्रह करते हुए कहा कि प्रतिबंधित क्षेत्रों में नहीं जाएं तथा प्रशासन के आदेशों की अनुपालना सुनिश्चित करें। वन्य प्राणी विभाग को रेपिड रिसपोंस टीम गठित करने के निर्देश भी दिए गए हैं इसके साथ ही वन विभाग को स्थिति की निरंतर निगरानी करने के निर्देश भी दिए गए हैं।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है