Covid-19 Update

2,05,017
मामले (हिमाचल)
2,00,571
मरीज ठीक हुए
3,497
मौत
31,341,507
मामले (भारत)
194,260,305
मामले (दुनिया)
×

बेवजह आता है पसीना तो कहीं आपको ‘हाइपरहाइड्रोसिस’ तो नहीं, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

बेवजह आता है पसीना तो कहीं आपको ‘हाइपरहाइड्रोसिस’ तो नहीं, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

- Advertisement -

इंसान को पसीना स्वभाविक है और गर्मियों में पसीना काफी ज्यादा आता है। यूं तो पसीना आना स्वस्थ होने की निशानी माना जाता है लेकिन शरीर के कुछ हिस्सों से अगर बेवजह पसीना (sweat) आता है तो ये आपके लिए समस्या भी हो सकती है। शायद आपको ये जानकर हैरानी होगी कि हथेलियों और तलवों से अगर पसीना आता है तो यह एक समस्या हो सकती है। कई लोग होते हैं जिनकी हथेलियों और तलवों से हर मौसम में पसीना आता है। हालांकि गर्मी में हथेलियों और तलवों से पसीना आना आम बात है लेकिन अगर हर मौसम में पसीना आता है तो यह एक सामान्य बीमारी हो सकती है जिसे हाइपरहाइड्रोसिस (Hyperhidrosis) हो सकती है। कुछ लोगों को शायद इस बीमारी के बारे में जानकारी ना हो इसलिए हम आपको बताते हैं इसके लक्षण, कारण और उपचार के बारे में …

यह भी पढ़ें: हिमकेयर योजना के नए Card बनवाने और रिन्यू कराने की Date आगे बढ़ाई गई; जानें


क्या है हाइपरहाइड्रोसिस

शरीर से पसीना आना आम बात है हर स्वस्थ व्यक्ति को पूरे शरीर से पसीना आता है, लेकिन अगर आप हाइपरहाइड्रोसिस बीमारी के शिकार हैं आपको पसीना शरीर के  सिर्फ कुछ हिस्सों से या फिर पसीना पूरे शरीर से भी आ सकता है । हापरहाइड्रोसिस विकार एक ऐसी स्थिति है जिसकी वजह से इंसान को अत्यधिक पसीना आता है। यह पसीना किसी तरह की स्थितियों में निकल सकता है जैसे हथेलियों और तलवों, बगल से ज्यादा पसीना आता है। यह समस्या है तो आम लेकिन अगर इसका समय पर इलाज नहीं कराया गया तो यह समस्या इंसान काफी परेशान कर सकती है।

यह भी पढ़ें: सरकारी विभागों में सेवा दे रहे Taxi चालक घोषित हों Corona योद्धा

ये हैं प्रकार और कारण

प्राथमिक फोकल हाइपरहाइड्रोसिस – पसीना मुख्य रूम से आपके पैरों, हाथों, चेहरे, सिर और अंडर आर्म पर होता है। यह आम तोर पर बचपन में शुरु होता है । इस प्रकार के लोगों के बारे में 30 से 50 प्रतिशत तक स्रोत अत्यधिक पसीना के पारिवारिक इतिहास है।

माध्यमिक सामान्यीकृत हाइपरहाइड्रोसिस – माध्यमिक सामान्यीकृत हाइपरहाइड्रोसिस एक चिकित्सीय स्थिति के कारण या कुछ दवाओं के दुष्प्रभाव के रूम में होता है ।यह आमतौर पर वयस्कता में शुरू होता है। इस प्रकार से आप अपने शरीर पर या सिर्फ एक हिस्से में पसीना निकलता है। इसी के साथ आपको सोते वक्त भी पसीना आ सकता है।

इसके अन्य कारण कैंसर, रीढ़ की हड्डी में चोट, फेफड़ों की बीमारी के कारण, पार्किसंस रोग, संक्रामक रोग (टीबी और एचआईवी) , हाइपरहाइड्रोसिस के लक्षण, बिना किसी स्पष्ट कारण के 6 महीने तक ज्यादा पसीना आना, पूरे शरीर में समान मात्रा में पसीना आना, हफ्ते में कम से कम एक बार अत्यधिक पसीना आना, सोते समय पसीना आना, जेनेटिक समस्या आदि हो सकती है।
आपकी अत्यधिक पसीने से जुड़ी समस्या गंभीर हो सकती है। अगर आपको बिना किसी कारण के ज्यादा पसीना आता है तो अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

कुछ घरेलू  उपचार से आप हाइपरहाइड्रोसिस जैसी बामारी से छुटकारा पाने में मदद कर सकता है जैसे –

  • रोजाना अपने मोजों को बदलें
    प्रभावित हिस्से पर एंटी काउंटर का इस्तेमाल करें।
    बैक्टीरिया से छुटकारा पाने के लिए नियमित रूप से स्नान करें।
    उन जूते और मोजों को पहनने की आदत डालें जो पसीना आने का कारण ना बनें।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है