Covid-19 Update

2,00,328
मामले (हिमाचल)
1,94,235
मरीज ठीक हुए
3,426
मौत
29,881,965
मामले (भारत)
178,960,779
मामले (दुनिया)
×

#Indo-Japan_Samwad_Conference में मोदी ने रखा पारंपरिक बौद्ध साहित्य का पुस्तकालय बनाने प्रस्ताव

बोले- हमें अपनी नीतियों के मूल में मानवतावाद को रखना चाहिए

#Indo-Japan_Samwad_Conference में मोदी ने रखा पारंपरिक बौद्ध साहित्य का पुस्तकालय बनाने प्रस्ताव

- Advertisement -

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi) ने पारंपरिक बौद्ध साहित्य और धर्मग्रंथों का एक पुस्तकालय ( library of traditional Buddhist literature and scriptures) बनाने प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि यदि ऐसा पुस्तकालय भारत में बनता है तो यह हमारे लिए खुशी की बात होगी वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से 6 वें इंडो – जापान संवाद सम्मेलन ( Indo-Japan Samwad conference) में मोदी के कहा कि इस मंच ने भगवान बुद्ध के विचारों और आदर्शों को बढ़ावा देने के लिए बहुत काम किया है, खासकर युवाओं में। ऐतिहासिक रूप से, बुद्ध के संदेश की रोशनी भारत से दुनिया के कई हिस्सों में फैल गई। उन्होंने कहा कि अतीत में, मानवता ने अक्सर सहयोग के बजाय टकराव का रास्ता अपनाया। संवाद था लेकिन वो एक-दूसरे को नीचे खींचने के लिए था। आइए अब साथ मिलकर उठते हैं। पीएम ने कहा कि हमें अपनी नीतियों के मूल में मानवतावाद को रखना चाहिए।

यह भी पढ़ें: पीएम नरेंद्र मोदी को एक और अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मान, स्वच्छ भारत अभियान के लिए मिलेगा पुरस्कार

पीएम बोले- बौद्ध साहित्य और दर्शन का महान खजाना कई देशों और भाषाओं में विभिन्न मठों में पाया जा सकता है। वह मानव जाति का खजाना है। पीएम मोदी ने कहा- मैं ऐसे सभी बौद्ध साहित्य और शास्त्रों के पुस्तकालय के निर्माण का प्रस्ताव करना चाहता हूं। हम भारत में इस तरह की सुविधा बनाने में प्रसन्न होंगे और इसके लिए उपयुक्त संसाधन उपलब्ध कराएंगे। यह पुस्तकालय अनुसंधान और संवाद के लिए एक मंच भी होगा। मनुष्य, समाज और प्रकृति के बीच भी इससे अच्छा संदेश जाएगा। इसके अनुसंधान जनादेश में यह जांचना भी शामिल होगा कि बौद्ध संदेश समकालीन चुनौतियों के खिलाफ हमारे आधुनिक दुनिया को कैसे निर्देशित कर सकते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है