मुंबई अटैक: हिमाचल के इस योद्धा ने 49 घंटे में ही नाकाम किया था हमला

जान पर खेलकर आतंकियों के छुड़ाए थे छक्के

मुंबई अटैक: हिमाचल के इस योद्धा ने 49 घंटे में ही नाकाम किया था हमला

- Advertisement -

शिमला। मुंबई में 26 नवंबर 2008 को हुए आतंकी हमलों को हिमाचल प्रदेश के एक बहादुर योद्धा ने महज 49 घंटे में ही नाकाम कर दिया था। शिमला में चौपाल के रहने वाले ब्रिगेडियर गोविंद सिंह सिसोदिया ने एनएसजी कमांडो दस्ते की अगुवाई करते हुए अपनी जान पर खेलकर आतंकियों के छक्के छुड़ा दिए थे। इस ऑपरेशन को कामयाब करने के एवज में सेना ने उन्हें विशिष्ट सेवा मेडल से नवाजा था।

ब्रिगेडियर गोविंद सिंह सिसोदिया की रणनिति के चलते ही आतंकी हमले में जान-माल का नुकसान व्यापक नहीं हो सका। ब्रिगेडियर सिसोदिया उस समय एनएसजी कमांडो दस्ते को लीड कर रहे थे। मुंबई आतंकी हमले के बाद ब्रिगेडियर गोविंद सिंह सिसोदिया के क्विक प्लान ने 49 घंटे में पूरे ऑपरेशन को समेट दिया था। इस हमले में एनएसजी के मेजर संदीप उन्नीकृष्ण और गजेंद्र सिंह शहीद हो गए थे।

श्रीलंका के ऑपरेशन में भी लिया था लोहा

ब्रिगेडियर सिसोदिया का जन्म चौपाल कस्बे के भरनो गांव में हुआ था। वह परिवार में चार भाइयों में से सबसे छोटे हैं। इनके पिता शेर सिंह सिसोदिया, जो राजस्व सेवा में अधिकारी थे। इनके बड़े भाई के एस सिसोदिया पुलिस में डीआईजी पद से रिटायर हुए। दूसरे भाई आईएस सिसोदिया आर्मी में कर्नल पद से रिटायर हुए। ब्रिगेडियर सिसोदिया ने मंडी शहर के गवर्मेंट विजय हाई स्कूल से दसवीं तक की शिक्षा हासिल की।

1975 में भारतीय सेना ज्वाइन करने से पहले इन्होंने एसडी कालेज शिमला से उच्च शिक्षा प्राप्त की। 1975 में इन्हें 16 सिक्ख रेजिमेंट में नियुक्ति प्राप्त हुई। बाद में इन्होंने 19 और 20 सिक्ख रेजिमेंट का नेतृत्व भी किया। 1987 में भारतीय सेना के श्रीलंका में शांति स्थापना के अभियान में इन्होंने वीरता से भाग लिया और एक आतंकवादी हमले में वे गोली लगने से घायल भी हुए थे।

https://youtu.be/4sxByY0JGpE

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है