Covid-19 Update

2,00,043
मामले (हिमाचल)
1,93,428
मरीज ठीक हुए
3,413
मौत
29,821,028
मामले (भारत)
178,386,378
मामले (दुनिया)
×

मंडी आईआईटी में छठे दीक्षांत समारोह में 211 विद्यार्थियों को बांटी डिग्रियां

मंडी आईआईटी में छठे दीक्षांत समारोह में 211 विद्यार्थियों को बांटी डिग्रियां

- Advertisement -

मंडी। आईआईटी मंडी में सोमवार को छठे दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में 211 विद्यार्थियों को डिग्रियां बांटी गईं। इसमें 29 पीएचडी, 11 एमएस (रिसर्च), 28 एमएससी (रसायन विज्ञान), 11 एमएससी गणित, 20 एम.टेक और 112 बी.टेक की डिग्रियां शामिल हैं। समारोह में आईआईटी मद्रास के निदेशक पद्म श्री प्रो. अशोक झुनझुनवाला ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। उनके साथ लद्दाख निवासी सुप्रसिद्ध इंजीनियर सोमन वांगचुक ने विशिष्ठ अतिथि के रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। समारोह में आईआईटी मंडी के निदेशक प्रो. टीमोथी ए गोंजाल्विस ने वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत की और आए हुए मेहमानों का स्वागत किया।

आईआईटी से पास आउट हो चुके नेहा मुथियन और सिद्धांत कुमार को संयुक्त रूप से राष्ट्रपति गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया। नेहा मुथियन ने क्लाउड सिस्टम के क्रैश को रोकने के लिए एक रिसर्च किया और उसपर एक साफ्टवेयर भी तैयार किया है। अभी नेहा नीजि कंपनी में बतौर साफ्टवेयर इंजीनियर अपनी सेवाएं दे रही हैं और आगे भी इसी क्षेत्र में कदम बढ़ाना चाहती हैं। सिद्धांत कुमार ने क्लस्टर मशीन के फेल होने की पूर्व जानकारी हासिल करने के लिए रिसर्च किया। सिद्धांत भी एक नीजि कंपनी में विदेश में अपनी सेवाएं दे रहे हैं और आगे वह हायर एजुकेशन की तरफ बढ़ना चाहते हैं। दोनों की इस कामयाबी को देखते हुए इन्हें संयुक्त रूप से प्रैसिडेंट गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया।


समारोह के अतिथि प्रो. अशोक झुनझुनवाला ने अपने संबोधन में आईआईटी मंडी द्वारा किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि आईआईटी एक ऐसा संस्थान हैं जहां से पढ़कर निकलने वाले छात्र उत्कृष्ट होते हैं। ऐसे में आईआईटी के पास देश की हर समस्या का समाधान होना चाहिए। यहां से पढ़कर निकले छात्र यह नहीं कह सकते हैं कि कोई काम उनके लिए असंभव है। यदि वे ऐसा कहते हैं तो फिर आईआईटी जैसा संस्थान फेल हो जाएगा। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता जताई कि आज देश के आईआईटी संस्थानों से पढ़कर निकलने वाले बहुत ही कम छात्र विदेश जा रहे हैं। अधिकतर अपने देश में भी आधुनिक तकनीकों को इस्तेमाल करके अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है