चमत्कार ! यहां बारिश से पहले ही टपकना शुरू हो जाती है छत

भगवान जगन्नाथ के अति प्राचीन मंदिर में मिलता है अद्भुत संकेत

चमत्कार ! यहां बारिश से पहले ही टपकना शुरू हो जाती है छत

- Advertisement -

कानपुर। बारिश की वजह से छत से पानी टपकता तो आपने देखा ही होगा लेकिन क्या कभी ऐसा देखा या सुना है कि चिलचिलाती धूप में कोई छत टपकने लगे और बारिश की शुरुआत होते ही पानी टपकना बंद हो जाए।उत्तर प्रदेश की औद्योगिक नगरी कहे जाने वाले कानपुर के बेहटा गांव है। यही वह गांव है जहां धूप में छत से पानी टपकने लगता है और बारिश में बंद हो जाता है। यह घटना किसी आम ईमारत में नहीं बल्कि भगवान जगन्नाथ के अति प्राचीन मंदिर में होती है।

टपकती बूंदों के आधार पर होती है बारिश

यहां के लोगों के अनुसार बारिश होने के 6-7 दिन पहले ही मंदिर की छत से पानी की बूंदे टपकने लगती हैं। इतना ही नहीं जिस आकार की बूंदे टपकती हैं, उसी आधार पर बारिश होती है।इन सबको देखते हुए गांव के लोग मंदिर की छत टपकने के संदेश को समझकर अपनी जमीनों को जोतने के लिए निकल पड़ते हैं। यहां की सबसे हैरान करन देने वाली बात तो यह है कि जैसे ही बारिश शुरू होती है, छत अंदर से पूरी तरह सूख जाती है। मंदिर के पुजारी बताते हैं कि पुरातत्व विशेषज्ञ और वैज्ञानिक भी इस मंदिर के अनोखे रहस्य को नहीं जान पाए हैं। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस मंदिर का जीर्णोद्धार का कार्य 11वीं सदी में किया गया।

मनोकामना पूर्ति के लिए दूर-दूर से दर्शन को आते हैं लोग

मंदिर की बनावट बौद्ध मठ की तरह है। इसकी दीवारें 14 फीट मोटी हैं जिससे इसके सम्राट अशोक के शासन काल में बनाए जाने का अनुमान लगाया जाता है। वहीं, मंदिर के बाहर मोर का निशान व चक्र बने होने से चक्रवर्ती सम्राट हर्षवर्धन के कार्यकाल में बने होने का अनुमान लगाया जाता है लेकिन इसके निर्माण का ठीक-ठीक अनुमान अभी नहीं लग पाया है। भगवान जगन्नाथ का यह मंदिर बहुत प्राचीन है।

मंदिर में भगवान जगन्नाथ, बलदाऊ व सुभद्रा की काले चिकने पत्थरों की प्रतिमाएं विराजमान हैं। प्रांगण में सूर्यदेव और पद्मनाभम की प्रतिमाएं भी हैं। जगन्नाथ पुरी की तरह यहां भी स्थानीय लोगों द्वारा भगवान जगन्नाथ की यात्रा निकाली जाती है। लोगों की आस्था मंदिर के साथ गहरे से जुड़ी है। लोग दर्शन करने के लिए आते रहते हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है