Covid-19 Update

2,21,203
मामले (हिमाचल)
2,16,124
मरीज ठीक हुए
3,701
मौत
34,043,758
मामले (भारत)
240,610,733
मामले (दुनिया)

कोरोना संकट में Petrol-Diesel की बढ़ाई गई कीमतें वापस ली जानी चाहिए: सोनिया गांधी

कोरोना संकट में Petrol-Diesel की बढ़ाई गई कीमतें वापस ली जानी चाहिए: सोनिया गांधी

- Advertisement -

नई दिल्ली। देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी के खिलाफ कांग्रेस (Congress) राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन शुरू हो गया है। सबसे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मसले पर केंद्र सरकार के खिलाफ हमला बोलते हुए एक कैंपेन की शुरुआत की, जिसमें पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ बोलने की अपील की। राहुल गांधी ने एक वीडियो साझा करते हुए ट्वीट कर लिखा कि आइए #SpeakUpAgainstFuelHike Campaign से जुड़ें। वहीं राहुल गांधी के बाद अब कांग्रेस की अंतिरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर केंद्र के खिलाफ निशाना साधा है।

यह भी पढ़ें: एक दिन की राहत के बाद फिर बढ़े Petrol-Diesel के दाम, Congress का राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन शुरू

कच्चे तेल की कीमतें गिरने के बावजूद 12 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई

सोनिया ने कहा कि पेट्रोल-डीजल पर 12 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाकर मोदी सरकार ने 18 लाख करोड़ रुपए अतिरिक्त वसूले हैं। सोनिया गांधी ने आगे कहा कि एक तरफ कोरोना महामारी का कहर और दूसरी तरफ महंगे पेट्रोल-डीजल की मार ने देशवासियों का जीना मुश्किल कर दिया है। आज देश की राजधानी दिल्ली और अन्य बड़े शहरों में पेट्रोल और डीजल की कीमतें 80 रुपए प्रति लीटर को भी पार कर गई हैं। लॉकडाउन के बाद मोदी सरकार ने 22 बार पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ाई हैं। बक़ौल सोनिया, ‘पेट्रोल-डीजल के दाम उस वक्त बढ़ाए जा रहे हैं, जब कच्चे तेल की कीमतें अंतरराष्ट्रीय बाजार में कम हो रही है। 2014 के बाद मोदी सरकार ने जनता को कच्चे तेल की गिरती कीमतों का फायदा देने की बजाए पेट्रोल-डीजल पर 12 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई, जिसे सरकार ने 18 लाख करोड़ की अतिरिक्त वसूली की।’

यह भी पढ़ें: Diesel के दाम हुए Petrol से अधिक, सड़कों पर उतरी Himachal Congress

देश वासियों का सहारा बने, मुसीबत का फायदा उठाकर मुनाफाखोरी ना करें

उन्होंने आगे कहा कि सरकार की जिम्मेदारी यह है कि मुश्किल समय में देश वासियों का सहारा बने, उनकी मुसीबत का फायदा उठाकर मुनाफाखोरी ना करें। पेट्रोल-डीजल की अन्यायपूर्ण बढ़ोतरी ने सरकार द्वारा देशवासियों से जबरन वसूली का एक नया उदाहरण पेश किया है। यह ना केवल अन्याय पूर्ण है बल्कि संवेदनहीन भी है। सोनिया ने कहा कि बढ़ी कीमतों की सीधी चोट किसान-गरीब-नौकरी पेशा वाले मध्यमवर्ग और छोटे-छोटे उद्योगों पर पड़ रही है। मैं मोदी सरकार से यह मांग करती हूं कि कोरोना महामारी के संकट में पेट्रोल-डीजल की बढ़ाई गई कीमतें फौरन वापस ली जानी चाहिए। एक्साइज ड्यूटी को भी वापस लिया जाए।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है