Covid-19 Update

3,05, 383
मामले (हिमाचल)
2,96, 287
मरीज ठीक हुए
4157
मौत
44,161,899
मामले (भारत)
589,704,972
मामले (दुनिया)

13 साल से दर्द झेल रही थी पाकिस्तानी बच्ची, भारतीय डॉक्टर ने दी नई जिंदगी

90 डिग्री झुकी थी पाकिस्तान की बच्ची की गर्दन

13 साल से दर्द झेल रही थी पाकिस्तानी बच्ची, भारतीय डॉक्टर ने दी नई जिंदगी

- Advertisement -

भारत-पाक का रिश्ता किसी से छुपा नहीं है। अब हाल ही में एक ऐसी खबर सामने आई है, जिसके बारे में जानकर हर भारतीय का सिर गर्व से ऊंचा हो जाएगा। दरअसल, भारत (India) के एक डॉक्टर ने पाकिस्तान (Pakistan) की एक लड़की को नई जिंदगी दी है। पिछले 13 साल से अफशीन गुल नाम की लड़की 90 डिग्री दाईं और झुकी हुई थी।

ये भी पढ़ें-बेटे का हाल जान 26 साल बाद लौटा पिता, किडनी डोनेट कर दिया जीवनदान

हालांकि, अब वे बाकी बच्चों की तरह सामान्य जीवन बिताने की कोशिश कर रही है। भारत के एक डॉक्टर ने अब ऑपरेशन के जरिए उसकी गर्दन को सीधा कर दिया है। जानकारी के अनुसार, अफशीन के साथ बचपन में एक हादसा हो गया था, जब वो बोल भी नहीं पाती थी। जिसके चलते वे कई साल से एक असहनीय दर्द का सामना कर रही थी। वहीं, उसके परिवार ने उसकी हिम्मत को टूटने नहीं दिया। बताया जाता है कि अफशीन अपनी बहन की गोद से फिसल गई थी। इसके बाद उसके माता-पिता उसे डॉक्टर के पास ले गए, लेकिन उसकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और उसका दर्द और बढ़ गया।
अफशीन के परिवार के आर्थिक हालात ठीक नहीं थे। हादसे के बाद उन्होंने सोचा कि अफशीन की गर्दन अपने आप सही हो जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्हें नहीं पता था कि अफशीन को सेरेब्रेल पाल्सी की भी शिकायत थी। जिस कारण अफशीन की समस्या और बढ़ गई। वहीं, एक बार अखबार ने अफशीन के बारे में विस्तार से आर्टिकल छापा, जिसके बाद लोगों का अफशीन की समस्या के बारे में पता चला। इसके बाद गो फंड मी के जरिए अफशीन के इलाज के लिए करीब 25 लाख रुपए जुटाए गए। वहीं, अफशीन के भाई याकूब ने भारतीय डॉ. राजगोपालन कृष्णा के बारे में सुना था, जिन्हें जटिस सर्जरी करने में महारत हासिल है। याकूब ने किसी तरह से उनसे संपर्क किया और उन्होंने निशुल्क ऑपरेशन (Operation) करने की हामी भर दी। इसके बाद अफशीन की जिंदगी बदल गई। अफशीन की सर्जरी सफल हो चुकी है और उसकी गर्दन भी सीधी हो चुकी है। डॉक्टर कृष्णा उस पर हर हफ्ते स्काइप से नजर बनाए हुए हैं। फिलहाल, अफशीन अभी तक सपोर्ट सिस्टम पर है, लेकिन अब आगे अफशीन धीरे-धीरे सामान्य बच्चों की तरह अपना जीवन जी सकती है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है