Covid-19 Update

2,06,832
मामले (हिमाचल)
2,01,773
मरीज ठीक हुए
3,511
मौत
31,810,782
मामले (भारत)
201,005,476
मामले (दुनिया)
×

Indian Hackers का जवाब, PAK की 500 से ज्यादा वेबसाइट Hack

Indian Hackers का जवाब,  PAK की 500 से ज्यादा वेबसाइट Hack

- Advertisement -

indian hackers: नई दिल्ली। भारत और पाकिस्तान के बीच एक अलग ही तरह का वॉर देखा जा रहा है। दोनों देश एक-दूसरे की साइट हैक करने में लगे हैं। पहले जहां पाक के हैकर्स ग्रुप पीएचसी ने भारत के डीयू, एएमयू और कई आईआईटी की ऑफिशियल वेबसाइट हैक की थीं, वहीं इसके जवाब में भारतीय हैकर्स ग्रुप टीम इंडियन ब्लैक हैट ने भी पाक की 500 से ज्यादा वेबसाइट्स को हैक किया है। भारतीय हैकर्स ने रैंजमवेयर के जरिए पाक वेबसाइट को हैक किया है। हैकर्स पाक की ‘पाकिस्तान पीपल्स पार्टी’ की वेबसाइट को भी हैक करने का दावा कर रहे हैं। इन वेबसाइट में पाक के सरकारी शिक्षण वेबसाइट्स, ट्रेड वेबसाइट्स और रुरल डेवेलपमेंट वेबसाइट्स भी शामिल हैं।

indian hackers: कई ग्रुप्स ने मिलकर किया यह काम

हैकर्स ग्रुप  का कहना है कि यह सिर्फ एक ग्रुप ने नहीं किया है बल्कि कई ग्रुप ने मिलकर किया है। इसमें Luzsecind, team black hats और United Indian hackers जैसे ग्रुप्स शामिल हैं। हैकर्स कहना है कि आने वाले समय में पाक की और भी वेबसाइट्स हैक की जा सकती हैं। ये आम हैकिंग नहीं है। बल्कि इसमें रैंजमवेयर का इस्तेमाल किया गया है। रैंजमवेयर का मतलब वेबसाइट को हैकर के कब्जे से छुड़ाने के लिए पैसे देने होते हैं। इसके लिए वेबसाइट पर हैकर्स के फेसबुक पेज की डीटेल्स हैंए जहां से वह पैसे के लेन-देन की बात करेंगे।


PAK ने India की 10 यूनिवर्सिटी की वेबसाइट की थीं हैक

पाकिस्तानी हैकर्स ने भारत की 10 यूनिवर्सिटीज की वेबसाइट हैक की थीं। हैक की गई वेबसाइट्स में आईआईटी दिल्ली, आईआईटी भुवनेश्वर, दिल्ली यूनिवर्सिटी, नेशनल एयरोस्पेस लैबोरैट्रीज और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की वेबसाइट शामिल हैं। हैकर्स ने इन वेबसाइट्स को हैक करके उन पर पाकिस्तान जिंदाबाद लिखा था। इसके अलावा कश्मीर के बारे में भी लिखा गया था। हैक की गई वेबसाइट्स में ज्यादातर आर्मी और डिफेंस से जुड़ी शिक्षण संस्थान शामिल हैं। इन वेबसाइट्स की हैकिंग का दावा पाकिस्तान के पीएचसी ग्रुप ने किया है।

यह भी पढ़ें- फर्जी Passport केसः छोटा राजन को सात साल की सजा

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है