Covid-19 Update

3,12, 281
मामले (हिमाचल)
3, 07, 956
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44,601,934
मामले (भारत)
624,506,140
मामले (दुनिया)

इन कर्मचारियों की हो गई बल्ले-बल्ले,सरकार ने ये बनाया प्लान

एक छत के नीचे कई एकीकृत सेवाएं प्रदान की जा रही

इन कर्मचारियों की हो गई बल्ले-बल्ले,सरकार ने ये बनाया प्लान

- Advertisement -

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने निर्भया फंड के तहत स्थापित वन-स्टॉप सेंटरों के (Employees) कर्मचारियों के लिए 5 लाख रुपये के बीमा कवर (Insurance Cover) की घोषणा की, जिससे पीड़ित महिलाओं को मानसिक, कानूनी और चिकित्सा सहायता प्रदान की जा सके। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर पूरे सप्ताह सिलसिले वार महिला उत्थान कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम का फोकस संकट में महिलाओं की सहायता करने में वन स्टॉप सेंटर (ओएससी) द्वारा निभाई गई भूमिका पर रहा। मंत्रालय ने निमहंस बेंगलुरु के सहयोग से स्त्री मनोरक्ष परियोजना का शुभारंभ किया। यह परियोजना मनोसामाजिक कल्याण पर जोर देगी और इसका उद्देश्य भारत में महिलाओं के मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करना है। जिसके तहत ओएससी परामर्शदाताओं के लिए एक उन्नत प्रशिक्षण पाठ्यक्रम भी शुरू किया गया। कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने निर्भया फंड के तहत स्थापित वन-स्टॉप सेंटरों के कर्मचारियों के लिए 5 लाख रुपये के बीमा कवर की घोषणा की, जिससे पीड़ित महिलाओं को मानसिक, कानूनी और चिकित्सा सहायता प्रदान की जा सके।

यह भी पढ़ें- Petrol-Diesel Rate: अगले हफ्ते से पेट्रोल-डीजल के रेट में लगेगी आग, कितने बढ़ेंगे दाम, यहां जानें

गौरतलब है कि साल 2020-21 में वन स्टॉप सेंटर (One-Stop Centers) योजना के तहत 54 लाख से अधिक महिलाओं ने सहायता प्रदान की। वन स्टॉप सेंटर: हिंसा से प्रभावित और सहायता की आवश्यकता वाली महिलाओं के लिए, एक छत के नीचे कई एकीकृत सेवाएं प्रदान की जा रही हैं, जिसमें पुलिस की सुविधा, चिकित्सा और कानूनी सहायता और परामर्श और मनोसामाजिक परामर्श 704 वन स्टॉप सेंटर या सखी के माध्यम से शामिल हैं। 34 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के केंद्र। साथ ही टोल-फ्री महिला हेल्पलाइन (181) के माध्यम से आपातकालीन व गैर-आपातकालीन सहायता प्रदान की जाती है। मंत्रालय के अनुसरण 24.12.2021 तक, 54 लाख से अधिक महिलाओं को सहायता प्रदान की गई है। घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम, 2006′, ‘दहेज निषेध अधिनियम, 1961’ परियोजनाओं में वन स्टॉप सेंटर (ओएससी) शामिल हैं।

-आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है