×

अब बच्चों पर Online नजर रख सकते हैं अभिभावक

अब बच्चों पर Online नजर रख सकते हैं अभिभावक

- Advertisement -

जिला के 420 सरकारी स्कूलों में ऑनलाइन हो रहा पत्राचार

वी कुमार/मंडी। बच्चे स्कूल में क्या गतिविधियां कर रहे हैं और उनका स्टडी स्टेटस क्या है यह जानने के लिए अभिभावकों को बार-बार स्कूल के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अब अभिभावक घर बैठे भी बच्चों पर नजर रख पाएंगे। जिला के 420 सीनियर सेकेंडरी और हाई स्कूल इंटरक्नेक्टिविटी के माध्यम से शिक्षा विभाग की मेन वेबसाइट के साथ जुड़ गए हैं। इससे अब इन स्कूलों में अधिकतर पत्राचार ऑनलाइन हो रहा है। भारत में अभी तक इंटरकनेक्ट की सुविधा सिर्फ हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला में ही शुरू हुई है और पायलट आधार पर इस प्रोजेक्ट को मंडी जिला में ही संचालित किया जा रहा है। शिक्षा विभाग, सामाजिक संचार एवं शिक्षा समिति हिमाचल प्रदेश के माध्यम से डिजिटलाइजेशन ऑफ स्कूल प्रोजेक्ट के तहत इस कार्य को कर रहा है। इस प्रणाली को अपनाने से विभाग का सालाना करोड़ों रुपए का खर्च भी कम होगा। मात्र एक क्लिक से विभागीय निर्देश स्कूलों में पहुंच रहे हैं।

Interconnect facilityस्कूल विभाग की मुख्य वेबसाइट के साथ इंटरक्नेक्ट हुए स्कूल

स्कूलों की हर गतिविधि, यहां तक की बच्चों की हाजरी को भी वेबसाइट पर अपडेट किया जा रहा है। यदि स्कूल समय पर जानकारियों को अपडेट नहीं करते हैं तो इंटरक्नेक्ट वेबसाइट पर स्कूल की साइट पर रेड अलर्ट आ जाएगा जिसकी मॉनीटिरिंग जिला कार्यालय और निदेशालय में होगी। स्कूल मुखियाओं को विभाग वेबसाइट चलाने के आईडी और पासवर्ड दिया गया है। जिससे स्कूल मुखिया जरूरी निर्देशों की जानकारी लेने के साथ ही हर कक्षा बार छात्रों की हाजिरी भी भर सकेंगे।डिजिटलाइजेशन ऑफ स्कूल प्रोजेक्ट के राज्य समन्वयक हेमराज शर्मा ने बताया कि अभी पत्राचार और वेबसाइट अपडेट पर ध्यान दिया जा रहा है जबकि भविष्य में हाजरी को ऑनलाइन लगाने की दिशा में भी प्रयास जारी हैं।
एक अनुमान के अनुसार शिक्षा विभाग हर स्कूल को पत्राचार करने के लिए हर महीने औसतन एक हजार रुपए खर्च करता है। जिससे लगभग हर महीने करोड़ों रुपए पत्राचार पर ही खर्च हो जाते हैं। प्रदेश में वर्तमान में सरकारी क्षेत्र में 10722 प्राईमरी स्कूल, 2120 मिडिल स्कूल, 925 हाई स्कूल और 1838 सीनियर सेकेंडरी स्कूल, जबकि निजी क्षेत्र में 1040 हाई स्कूल और 539 सीनियर सेकेंडरी स्कूल चल रहे हैं। भविष्य में इन सभी स्कूलों को शिक्षा विभाग की मेन वेबसाइट के साथ इंटरक्नेक्ट करने की योजना है, ताकि यहां पर सारा पत्राचार ऑनलाइन हो सके। पोस्टल सिस्टम में निर्देश के स्कूलों तक न पहुंचने के बहाने अकसर शिक्षक लगाते थे लेकिन डिजीटल सिस्टम में अब यह बहानेबाजी भी संभव नहीं होगी। इंटरक्नेक्ट की इस प्रणाली को आइआइटी रुडकी के 2009 बैच के पासआउट कुछ स्टूडेंट्स ने तैयार किया है। इस प्रणाली को बनाने वाले अभय कुमार इसे सभी विभागों में लागू करवाने का प्रयास कर रहे हैं। उनका कहना है कि यदि सरकार चाहे तो हर सभी विभागों में इंटरक्नेक्ट प्रणाली को लागू किया जा सकता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है