इरोम शर्मिला ने 16 साल बाद तोड़ा अनशन

इरोम शर्मिला ने 16 साल बाद तोड़ा अनशन

- Advertisement -

शिलांग।  मणिपुर की एक्टिविस्ट इरोम शर्मिला ने 16 साल बाद अनशन तोड़ दिया है। इरोम ने अपना अनशन शहद खाकर तोड़ा। अनशन खत्म करते समय वह अपने आंसू नहीं रोक पाईं। इस अवसर पर इरोम ने कहा कि वह मणिपुर की सीएम बनना चाहती है। चुनाव लड़ूंगी । यहां की राजनीति बहुत गंदी है। इससे पहले उन्हें सीजेएम कोर्ट से बेल भी मिली। इसके लिए 10 हजार रुपए का बॉन्ड भी भरा गया। जज ने इरोम को बेस्ट ऑफ लक कहा। गौरतलब है कि असम राइफल्स के जवानों ने कथित तौर पर 10 लोगों को मारने के विरोध में  इरोम ने 4 नवंबर, 2000 को भूख हड़ताल तब शुरू की थी। इरोम 16 साल से  आर्म्ड फोर्सेस स्पेशल पावर एक्ट  को हटाने की मांग पर अड़ी थीं। इरोम के फैसले को लेकर कुछ लोग नाराज तो कुछ खुश हैं। एक वर्ग ऐसा है जो मानता है कि भूख हड़ताल का मकसद एक कठोर कानून को खत्म कराना था। इसलिए इसे खत्म नहीं करना चाहिए। दूसरा वर्ग इसे उनका निजी मामला बताते हुए खुश है।

iromइरोम का परिवार 
इरोम नौ भाई-बहनों में सबसे छोटी हैं। उनके फैसले पर उनकी मां न तो खुश हैं और न दुखी। उनके भाई सिंघाजीत ‘सेव शर्मिला कैम्पेन’ एनजीओ चलाते हैं। वो भी इरोम के फैसले पर तो कुछ नहीं कहते हैं, लेकिन इतना जरूर बताते हैं कि इरोम के पास रहने के सात ऑप्शन हैं। ये सभी उनके रिश्तेदार ही हैं। इरोम के पुश्तैनी घर में आठ कमरे हैं। सिंघाजीत का छह कमरों वाला मकान अलग है। बाकी मकान छोटे हैं। इरोम के एक साथी का कहना है कि वे कहां रहेंगी, ये उनका ही फैसला ही होगा। एक मेकशिफ्ट कैम्प भी उनका ठिकाना बन सकता है। 

Html practice essayclick.net 77-886 exam for best results in actual exam – the future of educationhow to become a mos sharepoint 2010 certified professional.

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है