Covid-19 Update

1,42,510
मामले (हिमाचल)
1,04,355
मरीज ठीक हुए
2039
मौत
23,340,938
मामले (भारत)
160,334,125
मामले (दुनिया)
×

धौलाधार में बर्फबारी से Dharamshala में ठंडक, पर अध्यक्ष पद को लेकर HPCA में गर्माहट 

धौलाधार में बर्फबारी से Dharamshala में ठंडक, पर अध्यक्ष पद को लेकर HPCA में गर्माहट 

- Advertisement -

धर्मशाला। भले ही धौलाधार की पहाड़ियों पर बर्फबारी से धर्मशाला में पारा गिरा हो, लेकिन एचपीसीए अध्यक्ष पद की चर्चाओं को लेकर माहौल में जरूर गर्माहट है। लोढा कमेटी के नए नियमों को आधार मानते हुए अनुराग ठाकुर के हाथों से एचपीसीए की बागडोर जाना तय माना जा रहा है, वहीं नया अध्यक्ष कौन होगा इसको लेकर चर्चाओं का दौर पूरे जोर पर है। लोढा कमेटी की सिफारिशों के मानते हुए जहां विभिन्न राज्यों के क्रिकेट संघों के अध्यक्षों ने पद छोडना शुरू कर दिया है, ऐसे में देर-सवेर अनुराग को भी पद छोडना पड़ेगा, यह तय माना जा रहा है, लेकिन नया अध्यक्ष कौन होगा, इसको लेकर चर्चाएं जारी हैं। एचपीसीए गवर्निंग बॉडी में शामिल पदाधिकारी शुरू से किसी से किसी पद पर रहे हैं, ऐसे में उनमें से भी किसी एक के अध्यक्ष बनने में संशय है।
anurag-6वर्ष 2000 में जब अनुराग ठाकुर ने एचपीसीए की कमान संभाली थी, उसी समय से अधिकतर पदाधिकारी एचपीसीए में विभिन्न पदों पर सेवाएं दे रहे हैं। वहीं, कुछ पदाधिकारी सरकारी नौकरी में भी हैं, ऐसे में यदि एचपीसीए भी लोढा कमेटी की सिफारिशों को मानती है तो नियमानुसार नया पदाधिकारी ही एचपीसीए का नया अध्यक्ष होगा। हालांकि, एचपीसीए की वर्तमान कार्यकारिणी का 4 वर्ष का कार्यकाल शेष है, लेकिन लोढा कमेटी के नए नियमों के तहत अनुराग ठाकुर को पद छोड़ना पड़ेगा। एचपीसीए की कमान पिछले 16 साल से अनुराग ठाकुर के हाथों में है। वर्ष 2000 में अनुराग ठाकुर पहली बार अध्यक्ष बने थे, तब से लेकर आज तक अनुराग ठाकुर की एचपीसीए में अध्यक्ष पद पर काबिज हैं। एचपीसीए गवर्निंग बॉडी में प्रेम सिंह ठाकुर वर्ष 2000 से हैं, जो कि बैंक कर्मचारी भी हैं। असीम शर्मा भी वर्ष 2000 से एचपीसीए  में हैं और विभिन्न पदों पर सेवाएं दे चुके हैं। विशाल मरवाह, विशाल जगोत्रा और अमिताभ शर्मा सरकारी नौकरी में होने के बावजूद एचपीसीए में हैं, वहीं पूर्व सांसद कृपाल परमार वर्ष 2006 से एचपीसीए में हैं।
lodhaलोढा कमेटी के नियम :
  • राज्य क्रिकेट संघों में 9 साल से अधिक समय तक कोई भी व्यक्ति अध्यक्ष पद पर काबिज नहीं रह सकता।
  • क्रिकेट संघों में विभिन्न पदों पर रहने वाले व्यक्ति को भी अध्यक्ष नहीं बनाया जा सकता।
  • आजीवन सदस्यों में से भी किसी को अध्यक्ष पद की कमान नहीं सौंपी जा सकती।
  • 70 साल से अधिक उम्र का  व्यक्ति भी क्रिकेट संघ में नहीं रह सकता।
  • सरकारी संस्थानों में कार्यरत व्यक्ति भी राज्य संघों की कमान नहीं संभाल सकता।
hpcaलोढा कमेटी के नियमों को मानते हुए राज्य खेल संघ का अध्यक्ष पद छोडऩे की पहल एनसीपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और महाराष्ट्र क्रिकेट संघ के अध्यक्ष शरद पवार ने की थी। मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन में चेयरमैन ज्योतिरादित्य सिंधिया और अध्यक्ष संजय जगदाले अपना पद छोड़ चुके हैं। मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन के मुख्य चयनकर्ता एवं पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी दिलीप वेंगसरकर भी अपना पद छोड़ चुके हैं। यही नहीं उड़ीसा क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष रंजीव विसवाल अपना पद छोड़ चुके हैंए वहीं 70 साल की आयु पूरी कर चुके ओसीए के सचिव आशीर्वाद बहेड़ा ने भी लोढा कमेटी के नियमों को मानते हुए पद छोड़ दिया है।
लोढा कमेटी के नियमों को मानते हुए राज्य खेल संघ का अध्यक्ष पद छोडऩे की पहल एनसीपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और महाराष्ट्र क्रिकेट संघ के अध्यक्ष शरद पवार ने की थी। मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन में चेयरमैन ज्योतिरादित्य सिंधिया और अध्यक्ष संजय जगदाले अपना पद छोड़ चुके हैं। मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन के मुख्य चयनकर्ता एवं पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी दिलीप वेंगसरकर भी अपना पद छोड़ चुके हैं। यही नहीं उड़ीसा क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष रंजीव विसवाल अपना पद छोड़ चुके हैंए वहीं 70 साल की आयु पूरी कर चुके ओसीए के सचिव आशीर्वाद बहेड़ा ने भी लोढा कमेटी के नियमों को मानते हुए पद छोड़ दिया है।


- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है